loader

पहला चरण: 2017 में बीजेपी को 53 सीटों पर मिली थी जीत, इस बार हालात अलग

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव के लिए पहले चरण में जिन 58 सीटों पर वोटिंग हो रही है उनमें से 2017 के विधानसभा चुनाव में 53 सीटें बीजेपी को मिली थीं। लेकिन इस बार किसान आंदोलन के चलते सियासी हालात बदले हुए दिखाई दे रहे हैं। पिछली बार का चुनाव समाजवादी पार्टी और कांग्रेस ने मिलकर लड़ा था जबकि इस बार पश्चिमी उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी का गठबंधन राष्ट्रीय लोक दल के साथ है। 

2017 के विधानसभा चुनाव में इन 58 सीटों में से सपा को 2 सीटें और रालोद को 1 सीट मिली थी जबकि बीएसपी भी 2 सीटें जीतने में कामयाब रही थी। 

लेकिन बीएसपी 30 सीटों पर दूसरे नंबर पर रही थी। इससे पता चलता है कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बीएसपी एक बड़ी ताकत है। बीएसपी की प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री मायावती पश्चिमी उत्तर प्रदेश से ही आती हैं।

ताज़ा ख़बरें

इन 58 सीटों में से सपा 29, रालोद 28 और एनसीपी एक सीट पर चुनाव लड़ रही है। बीजेपी ने इस बार 58 सीटों में से 23 सीटों पर नए चेहरों को मैदान में उतारा है। 

जाट और मुसलिम निर्णायक

इस इलाके में जाट और मुसलिम मतदाता बड़ी संख्या में हैं। किसान आंदोलन के दौरान यह इलाका बेहद गर्म रहा था और इस इलाके में हुई किसान महापंचायतों में एक बार फिर जाट और मुसलिम समुदाय साथ आते दिखा था। इस इलाके में जाट और मुसलिम  मतदाता निर्णायक भूमिका में है और वे जिसके साथ जाएंगे, उसी दल को यहां कामयाबी मिलेगी। 

UP election 2022 58 seats voting in first phase - Satya Hindi

2014, 2017 और 2019 के चुनाव में बीजेपी को पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जोरदार कामयाबी मिली थी लेकिन किसान आंदोलन के कारण इस बार उसके सामने चुनौतियां ज़्यादा हैं। 

बीजेपी ने चुनाव प्रचार के दौरान साल 2013 के मुजफ्फरनगर के दंगों का बार-बार जिक्र किया है। मुजफ्फरनगर के दंगों के बाद इस इलाके में जबरदस्त सियासी ध्रुवीकरण हुआ था और बीजेपी को लगातार कामयाबी मिलती रही थी लेकिन इस बार सपा-रालोद गठबंधन मजबूत दिखाई दे रहा है।

उत्तर प्रदेश से और खबरें
जिन जिलों में वोटिंग हो रही है उनमें शामली, मुजफ्फरनगर, मेरठ, बागपत, गाजियाबाद, हापुड़, गौतम बुद्ध नगर, बुलंदशहर, अलीगढ़, मथुरा और आगरा शामिल हैं। 

ये हैं प्रमुख सीटें 

पहले चरण में कैराना, मुजफ्फरनगर, सिवालखास, सरधना नोएडा, खुर्जा, पुरकाजी, खतौली, बड़ौत, लोनी, मुरादनगर, धौलाना, हापुड़, अनूपशहर, डिबाई, शिकारपुर, अतरौली, मांट, छाता आदि सीटों पर वोटिंग हो रही है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें