loader

अमेरिकी गर्भपात कानून: कोर्ट का फैसला आज़ादी पर हमला- ओबामा 

महिलाओं को मिले गर्भपात के हक को लेकर आए अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट के आदेश को पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने आज़ादी पर हमला बताया है। सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को दिए एक फैसले में 1973 के रो वर्सेस वेड के ऐतिहासिक फैसले को पलट दिया। इस फैसले के जरिए अमेरिका में महिलाओं को गर्भपात कराने का कानूनी हक मिला था। 

बराक ओबामा ने ट्वीट कर कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने न सिर्फ 50 साल पुराने फैसले को पलटा है बल्कि एक बेहद व्यक्तिगत फैसले को भी खारिज कर दिया है। 

सुप्रीम कोर्ट के ताज़ा आदेश के बाद अब अमेरिका में अलग-अलग राज्य अपने मन मुताबिक गर्भपात की प्रक्रिया की अनुमति दे सकते हैं या इसे प्रतिबंधित कर सकते हैं।

ताज़ा ख़बरें

अपनी पत्नी मिशेल ओबामा के साथ जारी किए गए संयुक्त बयान में पूर्व राष्ट्रपति ओबामा ने कहा कि अमेरिका में कई राज्यों ने गर्भपात के हक पर रोक लगाने वाले विधेयकों को पहले ही पारित कर दिया है। उन्होंने कहा कि अमेरिका में कई समूह इस मामले में लड़ाई लड़ रहे हैं और वह आगे भी लड़ाई लड़ते रहेंगे। 

पूर्व राष्ट्रपति ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले से गर्भपात में कमी आने की कोई संभावना नहीं दिखाई देती और पिछले कई दशकों में बेहतर शिक्षा और गर्भनिरोधक की वजह से गर्भपात के मामलों में कमी आई है।

ओबामा ने कहा कि कार्यकर्ताओं को इस फैसले के विरोध में हो रहे स्थानीय प्रदर्शनों में शामिल होना चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर हम ऐसे न्यायाधीशों को चाहते हैं जो हम सबके हक की हिफाजत करें ना कि सिर्फ कुछ की तो हमें ऐसे अधिकारियों को चुनना होगा। 

पेंस ने किया स्वागत

दूसरी ओर अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति और रिपब्लिकन नेता माइक पेंस ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया है और कहा है कि इससे जिंदगी को जीत मिली है। उन्होंने कहा कि रो वर्सेस वेड का मामला अब पुराना हो चुका है और हम पैदा होने वाले बच्चे और महिलाओं के हक में फैसला लेंगे। उन्होंने अमेरिका के हर राज्य में ऐसे क़ानून की जरूरत बताई और कहा कि इस मामले में राष्ट्रीय स्तर पर कानून बनना चाहिए। 

दुनिया से और खबरें

संवैधानिक हक को छीन लिया: बाइडेन 

उधर, सुप्रीम कोर्ट के आदेश को राष्ट्रपति जो बाइडेन ने बड़ी गलती बताया है। जो बाइडेन ने कहा कि अदालत ने वह किया है जो उसने इससे पहले कभी नहीं किया। अदालत ने बहुत सारे अमेरिकियों को मिले संवैधानिक हक को छीन लिया। राष्ट्रपति ने कहा कि इस फैसले से एक रूढ़िवादी विचारधारा का एहसास होता है और सुप्रीम कोर्ट के द्वारा की गई यह एक दुखद गलती है। 

विरोध शुरू

सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के विरोध में बड़ी संख्या में महिलाओं ने अमेरिका के तमाम राज्यों में प्रदर्शन किया है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के विरोध में प्रदर्शन कर रही महिलाओं का कहना है कि इस फैसले का महिलाओं पर खराब असर होगा होगा। उन्होंने कहा कि सभी महिलाओं को बाहर निकल कर इस फैसले का विरोध करना चाहिए।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें