loader

क्या है शरीआ, जिससे अफ़ग़ानिस्तान में राज करेगा तालिबान?

अफ़ग़ानिस्तान में सरकार बनाने जा रहे तालिबान ने साफ कर दिया है कि उनके नेतृत्व में वहां लोकतंत्र के लिए कोई जगह नहीं होगी और शरीआ क़ानून लागू किया जाएगा।

तालिबान के शीर्ष कमान्डरों में एक वहीदुल्ला हाशमी ने समाचार एजेन्सी 'रॉयटर्स' से कहा है कि अफ़ग़ानिस्तान में एक शूरा यानी कौंसिल शासन करेगा जो शरीआ क़ानून पर चलेगा।

हाशमी ने हर तरह के शक-शुबहा को दूर करते हुए स्पष्ट शब्दों में कहा, लोकतांत्रिक प्रणाली बिल्कुल नहीं होगी क्योंकि हमारे देश में इसका कोई आधार नहीं है।

उन्होंने कहा,

अफ़ग़ानिस्तान में किस तरह की राजनीतिक प्रणाली होगी, इस पर कोई बहस नहीं है क्योंकि यह एकदम साफ है। यह शरीआ क़ानून है। बस।


वहीदुल्ला हाशमी, तालिबान कमान्डर

क्या है शरीआ?

'शरीआ' अरबी भाषा का शब्द है, जिसका अर्थ है रास्ता। मूल रूप से यह कोई क़ानून का कोड नहीं है।

यह क़ुरान और हदीस के आधार पर तय कुछ सिद्धांत हैं, जिन्हें मुसलमानों को मानना चाहिए या जिन रास्तों पर उन्हें चलना चाहिए।

इसमें इज़मा यानी इसलामी विद्वानों के शूरा यानी परिषद की राय भी शामिल की जाती है। इसमें क़यास यानी तुलनात्मक अध्ययन से निकली बातें भी शुमार की जाती हैं।

ख़ास ख़बरें

इन सारी चीजों को अनिवार्य, अनुशंसा,  अनुमति या प्रतिबंध-इन श्रेणियों में रखा जाता है।

कुल मिला कर शरीआ वे नियम हैं, जिन्हें हर मुसलमान को अपने जीवन में उतारना चाहिए, इनमें नमाज़, रोज़ा और ज़कात शामिल हैं।

लोगों की धारणा के उलट, शरीआ कोई लिखित किताब नहीं है, यह किसी सरकार द्वारा लागू की गई न्यायिक व्यवस्था भी नहीं है।

तालिबान की व्याख्या

लेकिन तालिबान इसलाम की एक बहुत ही संकुचित और अतिवादी व्याख्या पर चलता है, जिसमें सार्वजनिक तौर पर सजाए मौत देना, हाथ-पैर काट लेना, संगीत पर प्रतिबंध, टेलीविज़न देखने पर रोक और दाढ़ी नहीं रखने वालों या दिन में पाँच बार नमाज़ नहीं पढ़ने वालों की पिटाई वगैरह शामिल है।

शरीआ अलग-अलग देशों में अलग-अलग तरीके से अपनाया जाता है। सऊदी अरब, क़तर और ईरान में इसे अधिक सख़्ती से लागू किया जाता है।

taliban to implement sharia laws in afghanistan - Satya Hindi

शरीआ के अपराध

शरीआ के अंदर तीन तरह के अपराध आते हैं।

'ताज़िर' सबसे हल्का फुल्का अपराध माना जाता है और यह जज की मर्जी पर निर्भर करता है।

इसके उदाहरण लूटने की नाकाम कोशिश, झूठा हलफ़नामा लेना या क़र्ज़ लेना वगैरह हैं।

'क़िसास' में अपराध का शिकार हुआ व्यक्ति जो भुगतता है, अपराध करने वाले को वैसी ही सज़ा दी जाती है।

इसे 'आँख के बदले आँख' के उदाहरण से समझा जा सकता है। इसमें यदि किसी की हत्या हो जाती है और यह साबित हो जाता है तो अपराधी को सजाए मौत दी जा सकती है।

'हुदूद' सबसे गंभीर अपराध है, जो ईश्वर के ख़िलाफ़ किया गया अपराध माना जाता है।

इस श्रेणी में विवाहेतर संबंध, अवैध यौन संबंध, शराब पीना या डकैती डालना वगैरह आता है।

इसमें सज़ा के तौर पर कोड़े लगाए जाते हैं, पत्थर मार- मार कर जान ली जा सकती है, शरीर का अंग काटा जा सकता है, देश निकाला दिया जा सकता है या सार्वजनिक तौर पर मौत की सजा दी जा सकती है।

taliban to implement sharia laws in afghanistan - Satya Hindi

तालिबान राज में महिलाएं

तालिबान राज में महिलाओं को शिक्षा और नौकरी की इज़ाज़त नहीं थी, वे घर पर ही रहने को मजबूर थीं।

आठ साल से अधिक उम्र की लड़कियों या महिलाओं के लिए बुर्क़ा पहनना अनिवार्य कर दिया गया था। वे घर के किसी पुरुष के साथ ही घर के बाहर जा सकती थीं।

महिलाओं को हाई हील के जूते-चप्पल पहनने की इज़ाज़त नहीं थी।

taliban to implement sharia laws in afghanistan - Satya Hindi

तालिबान राज में जो महिलाएं इन बातों को नहीं मानती थीं, सार्वजनिक रूप से उन्हें कोड़े लगाए जाते थे, पत्थर मारा जाता था और कुछ मामलों में उन्हें मौत की सज़ा भी दी गई थी।

तालिबान के नए निज़ाम ने कहा है कि महिलाओं को हिजाब पहनना ही होगा। वे इसके साथ नौकरी कर सकती हैं, बाहर जा सकती हैं, शिक्षा हासिल कर सकती हैं। लड़कियों के स्कूल बंद नहीं किए जाएंगे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें