loader

पेगांग त्सो इलाक़े पर जिच बरक़रार, भारत के दावों को चीन ने किया खारिज

भारत और चीन की सेनाओं के वरिष्ठ अफ़सरों के बीच दो दौर की बातचीत के बावजूद पेगांग त्सो इलाक़े पर भारतीय दावे को चीन ने स्वीकार नहीं किया है।

क्या है मामला?

बता दें कि इस विवादित पेगांग झील के किनारे के इलाक़े में ही 5 मई की रात को दोनों सेनाओं के सैनिकों के बीच गुत्थमगुत्था हुई थी। चीनी सेना इस पूरे इलाक़े पर अपना दावा करती है, और इस बार भी चीन ने ज़्यादातर सैनिकों को इसी इलाक़े में तैनात कर दिया था।
इंडियन एक्सप्रेस ने एक ख़बर में कहा है कि हालांकि चीनी सेना ने भारतीय सेना की बातों को गंभीरता से लिया है और ज़्यादातर दावों को मान लिया है। पर पेगांग त्सो इलाक़े पर उसने भारतीय दावों को नहीं माना है।
देश से और खबरें
सवाल यह है कि क्या भारत चीन से यह इलाक़ा खाली करवा लेगा? देखें वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष का क्या कहना है।

फिंगर्स 

बता दें कि इस इलाक़े में दो हाथों की भिंची हुई मु्ट्ठियों की तरह का भौगोलिक इलाक़ा है। इसे फिंगर्स कहते हैं।
चीनी सेना का दावा है कि इस इलाके की चौथी अंगुली यानी फिंगर फोर तक ही भारतीय इलाक़ा है। भारत का कहना है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा फिंगर 8 तक है। चीनी सेना भारतीय सैनिकों को फिंगर 4 से आगे नहीं जाने दे रही है।
फिंगर 4 और फिंगर 8 के बीच 8 किलोमीटर की दूरी है। यानी मौजूदा स्थिति रही तो भारत का यह 8 किलोमीटर का गलियारा हाथ से निकल गया।

रास्ता बंद

इसके पहले भी दोनों सेनाएं इस इलाक़े का गश्त करती रहती थीं, एक-दूसरे का रास्ता काटती रहती थी, एक दूसरे को रोकती भी रहती थी। पर इस बार चीनी सेना ने फिंगर 4 से फिंगर 8 तक जाने के तमाम रास्ते बंद कर दिए हैं।
इसके पहले 6 जून को चुशुल-मोल्दो में लेफ़्टीनेंट जनरल स्तर पर बातचीत हुई थी। भारत के उत्तरी कमान के 14वें कोर के कमांडर लेफ़्टीनेंट जनरल हरिंदर सिंह और चीनी सेना के दक्षिण शिनजियांग सैन्य ज़िले के प्रमुख मेजर जनरल लिउ लिन के बीच दिन भर बातचीत चली थी।
इस बातचीत के बाद दोनों सेनाएं कुछ इलाकों से पीछे हट गईं। इसके बाद बुधवार को डिविज़नल कमांडर के स्तर पर भी बातचीत हुई।
लेकिन चीनी सेना फिंगर 4 से फिंगर 8 के बीच के इलाक़े पर टस से मस नहीं हो रही है।दोनों सेनाओं के बीच अभी कई दौर की बातचीत होनी है। उसमें क्या नतीजा निकलेगा, यह बातचीत के बाद ही मालूम हो सकेगा। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें