loader

टीकाकरण के दावे कुछ भी हों, लेकिन यूपी और बिहार फिसड्डी हैं!

उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों में टीकाकरण में नंबर वन होने की ख़बरें या दावे किस हद तक सही हैं? रिकॉर्ड टीकाकरण के दावे की आख़िर हक़ीक़त क्या है? 

यदि एक दिन में 26 लाख खुराक लगाने का रिकॉर्ड गुणगान किया जा सकता है, 5 करोड़ से ज़्यादा वैक्सीन लगाने को उपलब्धि गिनाई जा सकती है तो अब तक सिर्फ़ 29.9 फ़ीसदी आबादी को ही एक खुराक लगाये जाने को क्या कहा जाएगा? वह भी तब जब दूसरे कुछ राज्यों में 73 फ़ीसदी से ज़्यादा टीके लगाए जा चुके हैं। 

राज्यों में टीकाकरण की स्थिति भी कम चिंताजनक स्थिति नहीं है। ख़ासकर ऐसा इसलिए कि राज्यों के बीच काफ़ी असंगत रूप से टीकाकरण हुआ है। हिमाचल प्रदेश में जहाँ 73 फ़ीसदी से भी ज़्यादा वैक्सीन के योग्य आबादी को कम से कम एक टीका भी लगाया गया है वहीं उत्तर प्रदेश 29.5 फ़ीसदी आबादी को ही टीके लगाने के लिए संघर्ष कर रहा है। यह राज्य देश के राज्यों में नीचे से दूसरे पायदान पर है। पहले पायदान पर बिहार है। ये सभी आँकड़े को-विन वेबसाइट पर दिए गए टीकाकरण के आँकड़ों पर आधारित हैं। 

बिहार में टीके लगाने के योग्य सिर्फ़ 28.6 फ़ीसदी आबादी को ही टीके लगाए जा सके हैं। यूपी और बिहार के अलावा जो टीके लगाने में पिछड़े हुए राज्य हैं उनमें पश्चिम बंगाल में 30 फ़ीसदी, झारखंड में 32.3, तमिलनाडु व पंजाब में 33.8, महाराष्ट्र में 37 और असम में 39.8 फ़ीसदी आबादी को कम से कम एक टीका लगाया जा सका है। 

ताज़ा ख़बरें

इस मामले में बेहतरीन काम करने वाले राज्यों में हिमाचल के अलावा असम को छोड़कर बाक़ी उत्तर पूर्व के राज्यों में 60.3, उत्तराखंड में 58.1, केरल में 55.4, जम्मू कश्मीर में 53.9, गुजरात में 53.2 और मध्य प्रदेश, कर्नाटक, राजस्थान व दिल्ली में 50 फ़ीसदी से ऊपर की आबादी को कम से कम एक टीका लगाया जा सका है। 

राज्यों में टीके के इस असमान वितरण या टीकाकरण बेहद गंभीर चिंता की वजह होनी चाहिए। यह इसलिए कि दुनिया भर में फिर से कोरोना संक्रमण फैल रहा है और कहा जा रहा है कि कोरोना की तीसरी लहर शुरू हो चुकी है। भारत में भी तीसरी लहर की आशंका जताई गई है। अब तो देश में 40 हज़ार से ज़्यादा संक्रमण के मामले आने भी लगे हैं।

केंद्र सरकार ने पाँच दिन पहले ही कहा है कि 10 राज्यों में पॉजिटिविटी रेट 10% से ज़्यादा है। यानी जितने लोगों की कोरोना जाँच कराई गई है, उनमें से 10 प्रतिशत लोगों में कोरोना संक्रमण पाया गया है। 5 फ़ीसदी से ज़्यादा पॉजिटिविटी रेट होने पर चिंताजनक स्थिति होती है।

केंद्र सरकार ने इन राज्यों को सख़्त क़दम उठाने की सलाह दी है और कहा है कि 45 से 60 और 60 से ऊपर की उम्र के ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को जल्दी से जल्दी कोरोना टीका दे। जिन राज्यों में कोरोना पॉजिटिविटी रेट 10 प्रतिशत से ज़्यादा पाई गई है, वे हैं, केरल, कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, असम, मिज़ोरम, मेघालय और मणिपुर। इन राज्यों में 46 ऐसे ज़िले हैं जहाँ कोरोना पॉजिटिविटी रेट 10 प्रतिशत से ज़्यादा है और 53 ज़िलों में कोरोना पॉजिटिविटी रेट पाँच से 10 प्रतिशत के बीच है।

अब ऐसे में कोरोना संक्रमण फैलने पर जाहिर है कि जिन राज्यों में टीकाकरण धीमी गति से हुआ है या जहाँ लोगों को टीके कम लगे होंगे वहाँ संक्रमण का ख़तरा ज़्यादा रहेगा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें