loader

सुप्रीम कोर्ट में एजी ने कहा, सीबीआई की साख का सवाल

अटॉर्नी जनरल के के वेणुगोपाल ने सुप्रीम कोर्ट में सरकार का पक्ष रखते हुए कहा कि सीबीआई निदेशक को हटाने का फ़ैसला जनहित में लिया गया था। निदेशक आलोक वर्मा की याचिका पर हो रही सुनवाई के दौरान उन्होंने कहा कि वर्मा के सारे अधिकार इसलिए छीन लिए गए थे कि सीबीआई पर लोगों का भरोसा बना रहे। उन्होंने तर्क दिया कि ब्यूरो के चोटी के दो अफ़सर एक दूसरे के ख़िलाफ़ थे, ब्यूरो को लेकर लोगों में तरह-तरह की नकारात्मक प्रतिक्रियाएँ थीं। ऐसे में वर्मा पहले की तरह ही काम करते रहते तो लोगों का भरोसा टूटता। अगली सुनवाई 5 दिसंबर को होगी। अटॉर्नी जनरल ने कांग्रेस नेता और वरिष्ठ वकील कपिल सिबल के तर्कों का जवाब देते हुए कहा कि सीबीआई निदेशक का एक बार चयन हो जाने के बाद उन्हें चुनने वाली समिति का काम पूरा हो जाता है। उसके बाद उसकी कोई उपयोगिता नहीं रहती है। ऐसे में वर्मा पर कोई निर्णय लेने के पहले उसके पास जाने का कोई मतलब नहीं है।उन्होंने यह भी कहा कि वर्मा का तबादला नहीं हुआ है। वे पहले की तरह दिल्ली में हैं, उसी घर में रहते हैं जिसमें पहले थे।  इसके पहले सिबल ने चेतावनी देते हुए कहा था कि जो कुछ सीबीआई निदेशक के साथ हुआ, वही भविष्य में सीएजी और सीवीसी के साथ भी हो सकता है। सिबल सुप्रीम कोर्ट में सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा की याचिका पर हो रही सुनवाई के दौरान लोकसभा में कांग्रेस संसदीय दल के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे की पैरवी कर रहे थे। आलोक वर्मा ने अपने सारे अधिकार छीन लेने और ख़ुद को छुट्टी पर भेज देने के केंद्र सरकार के फ़ैसले को चुनौती देते हुए यह याचिका दायर की थी। 

'नियुक्त करने वाला ही हटा सकता है'

सिबल ने कहा कि जिस तरह आज सीबीआई निदेशक को हटाया गया, इसे न रोका गया तो भविष्य में कम्प्ट्रोलर ऐंड ऑडिटर जनरल (सीएजी) और मुख्य सतर्कता आयुक्त (सीवीसी) को भी हटाया जा सकता है।  सिबल ने कहा कि जो नियुक्त करता है, उसे ही पद से हटाने या निकालने का अधिकार होता है, दूसरे को नहीं। इसलिए वर्मा को उनकी चयन समिति ही हटा सकती है। 

सरकारी आदेश ग़ैरक़ानूनी

इसके पहले वर्मा के वकील फ़ली नरीमन ने भी वर्मा को छुट्टी पर भेजे जाने के केंद्र सरकार के आदेश को ग़ैरक़ानूनी क़रार दिया था। सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान उन्होंने कहा कि चयन समिति की अनुमति के बग़ैर निदेशक को न तो छुट्टी पर भेजा जा सकता है न ही उनसे उनका कामकाज छीना जा सकता है।  वर्मा को कई तरह की गड़बड़ियों में दोषी पाए जाने के बाद केंद्र सरकार ने उनसे तमाम कामकाज ले कर उन्हें छुट्टी पर जाने को कह दिया था। उन्होंने इसके ख़िलाफ़ याचिका दायर की थी। सुनवाई सुबह शुरू होने के थोड़ी देर बाद ही लंच ब्रेक हो गया। दोपहर दो बजे फिर सुनवाई शुरू हुई।  मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई, जस्टिस एस के कौल और जस्टिस के एम जोज़फ की खंडपीठ इस मामले की सुनवाई कर रही है। नरीमन ने खंडपीठ से कहा कि चयन समिति में प्रधानमंत्री के अलावा मुख्य न्यायाधीश और लोकसभा में विपक्ष का नेता होता है। यदि लोकसभा में ऐसा कोई नेता न हो सबसे बड़े विपक्षी दल का नेता उनकी जगह लेता है। पर वर्मा के मामले में इस प्रक्रिया का पालन नहीं किया गया। 

सिन्हा के आरोपों से अलग

वर्मा ने सुनवाई की शुरुआत में ही डीआईजी मनीष सिन्हा के लगाए गए आरोपों से ख़ुद को अलग कर लिया। सिन्हा ने अपनी पिटिशन में कहा था कि उन्हें पता चला कि केंद्रीय कोयला राज्यमंत्री हरिभाई पार्थीभाई चौधरी ने 2 करोड़ रुपये लेकर मोइन क़ुरैशी मामले की सीबीआई जाँच रुकवा दी थी। उनके मुताबिक़, उन्हें बताया गया था कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल ने जाँच में अड़चनें डाली थीं। समझा जाता है कि अदालत सीवीसी को दिए वर्मा के जवाबों का विश्लेषण करेगा। इसके साथ ही सीबीआई के अंतरिम निदेशक एम. नागेश्वर राव की रिपोर्ट पर भी विचार करेगा। 

प्रशांत भूषण को रोका

ग़ैर सरकारी संगठन 'कॉमन कॉज़' की ओर से वरिष्ठ वकील प्रशांत  भूषण ने सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना पर कुछ कहना चाहा, लेकिन मुख्य न्यायाधी रंजन गोगोई ने उन्हें रोक दिया। 

सीबीआई में गड़बड़ियाँ?

इससे पहले सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना और वर्मा ने एक-दूसरे पर पक्षपात करने, भ्रष्टाचार में शामिल होने और दूसरे तरह की अनियमितताएँ बरतने के आरोप लगाए थे। केंद्रीय सतर्कता आयोग ने अपनी जाँच में वर्मा को कई तरह की गड़बड़ियाँ करने का दोषी पाया था। इसके बाद केंद्र सरकार ने दोनों आला अफ़सरोें से सारे कामकाज ले कर उन्हें छुट्टी पर भेज दिया था।यह भी पढ़ें : एक मिनट में जानिए, क्या है पूरा मामलावर्मा ने इसके ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया था। अदालत ने सीवीसी से कहा था कि वह वर्मा के ख़िलाफ़ लगाए गए आरोपों की जाँच करके उसकी रिपोर्ट कोर्ट को सौंपे। अपनी जाँच में सीवीसी ने वर्मा को कुछ मामलों में संदिग्ध पाया। तब सुप्रीम कोर्ट ने वर्मा से सीवीसी की रिपोर्ट पर अपना जवाब देने को कहा। लेकिन वर्मा ने बंद लिफ़ाफ़े में कोर्ट को जो जवाब सौंपे थे, उससे पहले ही उनके जवाब एक वेबसाइट पर लीक हो गए। इससे कोर्ट नाराज़ था और उसने सुनवाई आज के लिए टाल दी। कोर्ट सीबीआई के एक और अधिकारी एम. के. सिन्हा की अर्ज़ी के मीडिया में लीक होने से भी नाराज़ था।

सनसनीखेज़ खुलासे

आपको बता दें कि आलोक वर्मा ने सीवीसी को दिए गए अपने जवाबों में विस्तार से बताया था कि किस तरह केंद्र सरकार भ्रष्टाचार के अभियुक्तों को सीबीआई में ऊँचे पदों पर नियुक्त करती है और उसका राजनीतिक इस्तेमाल करती है। उधर एम. के. सिन्हा ने मामले में हस्तक्षेप करते कोर्ट के सामने जो पिटिशन रखी थी, उसमें उन्होंने कई सनसनीखेज़ आरोप लगाए थे। उन्होंने बताया था कि किस तरह जाँच के दौरान उन्हें एक साक्षी ने कहा था कि केंद्रीय कोयला राज्यमंत्री हरिभाई पार्थीभाई चौधरी ने दो करोड़ रुपये लेकर सीबीआई की जाँच रुकवा दी थी। उन्होंने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल पर भी अस्थाना के ख़िलाफ़ चल रही जाँच में रुकावट डालने का आरोप लगाया था।मुख्य न्यायाधीश जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस एस. के. कौल और जस्टिस के. एम. जोज़फ़ की खंडपीठ इस मामले में आगे की सुनवाई करेगी। लीक मामले के बाद वर्मा ने अपनी लीगल टीम में बदलाव किया है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें