loader

एमपी: अब ‘शिवराज-महाराज’ में मलाईदार विभागों को लेकर ‘खींचतान’

मध्य प्रदेश में जैसे-तैसे मंत्रिमंडल का विस्तार तो हो गया लेकिन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अभी तक अपने मंत्रियों को विभाग तक नहीं बांट पाये हैं। विभागों का बंटवारा पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया द्वारा उनके समर्थक मंत्रियों को मलाईदार विभाग मिलने पर ‘जोर’ देने की वजह से अटका बताया जा रहा है।

बता दें, शिवराज सिंह ने अपनी कैबिनेट में 28 नए चेहरे शामिल किए हैं। इन चेहरों में नौ सिंधिया खेमे से हैं। जबकि तीन ऐसे कांग्रेस के पूर्व विधायकों को भी मंत्री बनाया गया है, जिन्होंने सिंधिया और उनके समर्थक विधायकों के साथ क़दमताल करते हुए कमलनाथ की सरकार गिराने में बीजेपी का साथ दिया था।

ताज़ा ख़बरें

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने अप्रैल महीने में मिनी कैबिनेट बनाई थी और तब पांच सदस्यों को मंत्री बनाया था। मिनी कैबिनेट में सिंधिया के दो समर्थक गैर विधायकों को मंत्री बनाया गया था। इस तरह से शिवराज सरकार में सिंधिया समर्थक मंत्रियों की कुल संख्या 11 हो चुकी है और मुख्यमंत्री सहित कुल 34 सदस्य कैबिनेट में हो गए हैं। 

मध्य प्रदेश से और ख़बरें

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को नए सिरे से विभागों का बंटवारा करने में भारी पसीना आ रहा है। कैबिनेट के विस्तार से पहले ही सिंधिया अपने समर्थक मंत्रियों के इच्छित विभागों को लेकर अपनी पसंद, शिवराज और केन्द्रीय नेतृत्व को बता चुके हैं। विस्तार के बाद भी शुक्रवार को भोपाल में सिंधिया की शिवराज सिंह से लंबी चर्चा हुई थी।

शिवराज सिंह ने करीब पांच घंटे सिंधिया की मौजूदगी में उनके सभी समर्थक मंत्रियों से 15-15 मिनट तक वन-टू-वन चर्चा भी की थी। चूंकि सभी मंत्रियों को उपचुनाव के लिए मैदान में जाना है, लिहाजा तमाम गुणा-भाग मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के सामने रखा गया था।

अहम विभागों पर है निगाह

कमलनाथ सरकार में सिंधिया खेमे के पास स्वास्थ्य, राजस्व, महिला एवं बाल विकास, स्कूल शिक्षा, परिवहन, श्रम और खाद्य विभाग थे। बताया जा रहा है कि सिंधिया ये विभाग अपने समर्थकों को दिलाने की जुगत में हैं। इन विभागों के अलावा कुछ अन्य अहम विभागों पर भी सिंधिया और उनके सहयोगी मंत्रियों की निगाहें हैं। 

शिवराज सिंह और बीजेपी, कैबिनेट विस्तार के समय अपने विधायकों के सामने असहाय नजर आ चुके हैं। सिंधिया समर्थकों को कैबिनेट में एडजस्ट करने के चक्कर में शिवराज और बीजेपी को अपनी पार्टी के अनेक काबिल और वरिष्ठ विधायकों को मंत्री पद से वंचित करना पड़ा है।

विभागों के बंटवारे में बीजेपी से ही आने वाले मंत्री खुद को अपमानित महसूस ना करें, इस तरह के प्रयास बीजेपी और शिवराज करने की कोशिश कर रहे हैं। चूंकि सिंधिया कई महकमों को लेकर सीधे-सीधे अड़ जाने वाली ‘मुद्रा’ अपनाये हुए हैं, लिहाजा बताया गया है कि शिवराज को सामंजस्य बैठाने में खासी तकलीफ पेश आ रही है।

मध्य प्रदेश से और ख़बरें

उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार, बीते दो दिनों में शिवराज ने कई बार सूची बनाई और बिगाड़ी है। लेकिन हर बार कोई ना कोई पेच लग जा रहा है। केन्द्र से कथित तौर पर फ्री हैंड ना होने से भी शिवराज की मुश्किलें बढ़ी हुई हैं।

सूत्रों का कहना है कि मुख्यमंत्री ने शनिवार को भी संगठन के पदाधिकारियों से इस संबंध में विचार-विमर्श किया है। प्रदेश स्तर पर विमर्श हो जाने के बाद केन्द्र के नेताओं से भी विभाग वितरण की सूची पर अंतिम मुहर के लिए चर्चा करनी होगी। 

सूत्रों का दावा है कि जो हालात हैं उन्हें देखते हुए मुख्यमंत्री को विभागों के वितरण के काम में अभी एक-दो दिन और लग सकते हैं।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें