loader

ऋषि कपूर: नर्गिस ने जिसे चॉकलेट देकर एक्टिंग कराई थी, वह बना पीढ़ियों का नायक

आज जब ऋषि कपूर हमारे बीच नहीं रहे तो उनकी याद के सिलसिले में `बॉबी’ फ़िल्म का नाम सबसे पहले आता है। पहले राजेश खन्ना का पैंट के ऊपर कुर्ता पहनना एक फैशन स्टेटमेंट बन चुका था। पर `बॉबी’ आई और फैशन स्टेटमेंट ऋषि कपूर के बाल बन गए। उस समय का शायद ही कोई नौजवान हो जिसने आईने के सामने अपने को निहारते हुए ऋषि कपूर जैसा दिखने की चाहत न पाली हो। हर युवा दिल में ऋषि कपूर बस गए थे। 
रवीन्द्र त्रिपाठी

फ़िल्मी सितारों के साथ यह अक्सर होता है कि कोई ख़ास छवि उनके साथ स्थायी रूप से जुड़ जाती है और जब भी उनको याद किया जाता है तो वह छवि अनायास ही आ जाती है। सहज रूप से। भले ही उस सितारे ने और भी बड़े काम किए हों, बड़ी भूमिकाएँ और यादगार भूमिकाएँ निभाई हों, लेकिन उसके बारे में बातचीत की हर शुरुआत उसी ख़ास छवि से होती है। आज जब ऋषि कपूर हमारे बीच नहीं रहे तो उनकी याद के सिलसिले में `बॉबी’ फ़िल्म का नाम सबसे पहले आता है। हालाँकि वह उनकी पहली फ़िल्म नहीं थी और तीन साल की उम्र में वह `श्री 420’ नाम की फ़िल्म में आ चुके थे जिसके बारे में ऋषि कपूर ने कहा था कि नर्गिस ने चॉकलेट खिलाकर उनसे वह रोल कराया था। राजकपूर की एक और यादगार फ़िल्म `मेरा नाम जोकर’ में भी ऋषि कपूर ने काम किया था। लेकिन 1973 में डिंपल कपाड़िया के साथ आई `बॉबी’ ने न सिर्फ़ ऋषि कपूर को एक नए मोड़ पर खड़ा कर दिया बल्कि हिंदी फ़िल्म उद्योग के मिज़ाज को बदल दिया।

ताज़ा ख़बरें

ऋषि कपूर के पहले राजेश खन्ना हिंदी रोमांटिक भूमिका के लिए पहचान बन चुके थे। `बॉबी’ ने सब कुछ बदल दिया। पहले राजेश खन्ना का पैंट के ऊपर कुर्ता पहनना एक फैशन स्टेटमेंट बन चुका था। पर `बॉबी’ आई और फैशन स्टेटमेंट ऋषि कपूर के बाल बन गए। हिंदी भाषी इलाक़े भर में ही नहीं, भारत भर में शायद ही कोई किशोर या नौजवान हो जिसने हज़ारों बार `झूठ बोले कौवा काटे काले कौवे से डरिओ’ न गुनगुनाया या गाया हो। ऋषि कपूर नौजवानों के रोमांटिक आइकन बन गए। उस समय का शायद ही कोई नौजवान हो जिसने आईने के सामने अपने को निहारते हुए ऋषि कपूर जैसा दिखने की चाहत न पाली हो। हर युवा दिल में ऋषि कपूर बस गए थे।

`बॉबी’ की नायिका डिंपल कपाड़िया भी फ़िल्म प्रेमी दर्शकों को दिलों पर छा गई थीं पर राजेश खन्ना के साथ शादी करने के बाद एक लंबे समय के लिए उनके फ़िल्मी कैरियर पर विराम लग गया। लेकिन ऋषि कपूर तो लोकप्रियता की जिस गाड़ी पर बॉबी में सवार हुए वो लंबे समय तक दनदनाती रूप से दौड़ती रही।

कभी-कभी ऐसा होता है कि किसी पिता के लिए कोई समस्या उसके बेटे के लिए अवसर के दरवाज़े खोल देती है। `बॉबी’ के रिलीज होने के समय यह धारणा बनी थी कि राज कपूर ने अपने बेटे की फ़िल्मी कैरियर की शुरुआत के लिए यह फ़िल्म बनाई। बरसों पहले एक इंटरव्यू में ऋषि कपूर ने इस धारणा को तोड़ा और कहा कि `बॉबी’ इसलिए बनाई गई थी कि `मेरा नाम जोकर’ बनाते हुए राज कपूर घोर आर्थिक संकट में फँस गए थे। 

राज कपूर राजेश खन्ना को बतौर हीरो लेकर एक फ़िल्म बनाना चाहते थे पर उनकी फ़ीस देने की स्थिति में नहीं थे इसलिए एक किशोर- प्रेम- कहानी को लेकर फ़िल्म बनाई। यह थी `बॉबी’ के बनने की कहानी।

जो भी वजह रही हो, ऋषि कपूर इक्कीस साल की उम्र में एक सुपर स्टार बन चुके थे। `लैला मजनू’, `प्रेम रोग’, `क़र्ज़’, `चांदनी’ जैसी उनकी फ़िल्में सुपरहिट रहीं। हालाँकि एकल हीरो के रूप में उनकी कुछ फ़िल्में बॉक्स ऑफ़िस पर असफल भी रहीं। लेकिन उनकी कुछ मल्टी स्टारर फ़िल्में भी बेहद सफल रहीं जिनमें अमिताभ बच्चन और विनोद खन्ना के साथ `अमर अकबर एंथोनी’ प्रमुख है। इस फ़िल्म में उन्होंने अकबर इलाहाबादी की भूमिका निभाई थी।

एक लंबे समय तक रोमांटिक भूमिका निभानेवाले अभिनेता अक्सर दूसरे तरह के रोल में फिट नहीं बैठते। इसलिए अपने स्वर्णिम काल ख़त्म होने के बाद वे महत्त्वहीन चरित्र भूमिकाएँ भी स्वीकार करने लगते हैं। ऋषि कपूर ने भी बाद के दिनों में कई चरित्र भूमिकाएँ निभाईं। लेकिन  इनमें कुछ ऐसी भी हैं जो हमेशा याद की जाएँगी। इनमें एक है `अग्निपथ’  (2012) जिसमें ऋतिक रोशन हीरो थे और संजय दत्त खलनायक। (पहली `अग्निपथ’ में अमिताभ हीरो थे।) 2012 वाली `अग्निपथ’ में ऋषि कपूर ने रऊफ लाला नाम के एक ऐसे शख्स का किरदार निभाया था जो लड़कियों का सौदागर है। इस फ़िल्म में जब वह चौराहे पर खड़े एक लड़की की बोली लगाते हैं तो हॉल में एक ग़ुस्सा भरा सन्नाटा छा जाता था। यह ऐसी भूमिका थी जिसमें दर्शक को घृणा हो जाती है। यह फ़िल्म भी उनकी अभिनय प्रतिभा की विविधता को दिखानेवाली थी। ऋषि कपूर की दूसरी पारी की कुछ और फ़िल्में लंबे समय तक याद की जाएँगी। जैसे `दो दूनी चार’ (2010),  `102 नॉट आउट’ (2018), `मुल्क’ (2018)। तीनों अलग-अलग तरह की फ़िल्में हैं।

श्रद्धांजलि से और ख़बरें
ऋषि कपूर भी कैंसरग्रस्त थे। एक दिन पहले इसी बीमारी से एक अन्य बॉलीवुड स्टार इरफ़ान ख़ान का निधन हुआ। बतौर एक्टर ऋषि कपूर एक विरासत के प्रतिनिधि थे। पिता राजकपूर और दादा पृथ्वीराज कपूर की कलात्मक बारीकियाँ उनके भीतर मौजूद थीं। हालाँकि राजकपूर वाली निर्देशकीय प्रतिभा उनके भीतर नहीं थी, लेकिन एक फ़िल्म  `आ अब लौट चलें’ का निर्देशन भी उन्होंने किया जिसमें राजेश खन्ना, अक्षय खन्ना और ऐश्वर्या राय बतौर कलाकार थे। यह फ़िल्म सफल नहीं रही। यह 1999 में बनी थी और इसके बाद निर्देशन का कोई प्रयास उन्होंने नहीं किया। दरअसल, ऋषि मूलत: एक अभिनेता थे और इसी रूप में याद रखे जाएँगे। अपनी फ़िल्मी सक्रियता के लंबे दौर में वह कई पीढ़ियों के चहेते रहे।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
रवीन्द्र त्रिपाठी
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

श्रद्धांजलि से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें