loader

कोरोना : गुजरात की स्थिति नाज़ुक, अमित शाह ने एम्स के निदेशक को भेजा

तेज़ रफ़्तार से बढ़ रहे संक्रमण से परेशान गृह मंत्री अमित शाह ने ऑल इंडिया इंस्टीच्यूट ऑफ मेडिकल साइसेंस यानी एम्स के प्रमुख को अपने गृह राज्य गुजरात भेजा है। 
गुजरात में कोरोना से 7,402 लोग प्रभावित हैं और इनमें से 449 लोगों की मौत हो गई है। संक्रमण और मौत दोनों ही मामलों में यह राज्य महाराष्ट्र के बाद पूरे देश में दूसरे नंबर पर है। 
गुजरात से और खबरें

क्या है मामला?

एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने अहमदाबाद पहुँच कर वरिष्ठ डॉक्टरों से बात की और उन्हें रोकथाम के उपाय सुझाए। गुलेरिया फ़ेफड़े से जुड़े रोगों के विशेषज्ञ हैं। उनके साथ मेडिसिन विभाग के डॉक्टर मनीष सुरेजा भी थे। इन दोनों डॉक्टरों को भारतीय वायु सेना के विशेष विमान से अहमदाबाद भेजा गया। 

गुलेरिया ने गुजरात के प्रमुख सचिव (स्वास्थ्य) जयंति रवि से भी मुलाक़ात की। उन्होंने गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी से भी मुलाक़ात की और उन्हें कोरोना इलाज की रणनीति समझाई। डॉक्टर गुलेरिया ने बाद में पत्रकारों से बात करते हुए कहा,

'हमने कोरोना संक्रमण होने पर इससे जुड़े धब्बे पर बात की। लोग अभी भी अस्पताल आने और जाँच करवाने से बच रहे हैं।'


रणदीप गुलेरिया, निदेशक, ऑल इंडिया इंस्टीच्यूट ऑफ मेडिकल साइसेंस

पूरे देश में कोरोना से अब तक 60 हज़ार से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं, जिसनमें 1,981 लोगों की मौत हो चुकी है।  

गुजरात की नाज़ुक होती स्थिति

गुजरात की बदतर होती स्थिति के मद्देनज़र सरकार ने कहा है कि दूध और दवा की दुकानों को छोड़कर सभी प्रतिष्ठान एक हफ़्ते के लिए बंद रहेंगे। यह आदेश अहमदाबाद में सात मई को आधी रात से लागू हो गया, जबकि सूरत में इसे शनिवार से लागू किया गया। इस आदेश के आते ही दोनों शहरों में दुकानों से ज़रूरी सामान ख़रीदने के लिए लोगों की लंबी-लंबी कतारें लग गईं। 

बदहाल अहमदाबाद, सूरत

इन दोनों शहरों के लिए यह फ़ैसला तब लिया गया है जब बुधवार को गुजरात में 382 नये पॉजिटिव मामले आए। इसमें से अकेले अहमदाबाद में 291 मामले आए। राज्य में बुधवार को 27 लोगों की मौत हो गई जिसमें से 25 मौतें सिर्फ़ अहमदाबाद में ही हुईं। राज्य में जितने मामले आए हैं उसमें से 70 फ़ीसदी अकेले अहमदाबाद में हैं। 
ऐसा ही आदेश सूरत के लिए भी निकाला गया है। सूरत नगर निगम ने अपने आदेश में कहा, 'कृषि उपज मंडी समिति बाज़ार, किसानों के लिए नामित सभी क्षेत्रों में सब्ज़ी बाज़ार, स्वतंत्र सब्ज़ी स्टॉल, फलों की दुकानें बंद रहेंगी और किसी भी माध्यम से सब्ज़ियों और फलों की बिक्री 9 मई से 14 मई तक प्रतिबंधित रहेगी।'

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

गुजरात से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें