loader

नेहरू, तिरंगे पर मोदी का ट्वीट, कांग्रेस ने किया पलटवार

देश के पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू और तिरंगे से जुड़ी कुछ जानकारियों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा ट्वीट करने पर कांग्रेस ने इसका तीखा जवाब दिया है। 

हुआ यूं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को एक ट्वीट कर कहा कि 1947 में आज के ही दिन हमारे राष्ट्रीय ध्वज को अंगीकार किया गया था और वह हमारे तिरंगे से जुड़ी समिति की जानकारी और पंडित नेहरू द्वारा पहला तिरंगा फहराए जाने की कुछ जानकारी आम लोगों के साथ साझा कर रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज, हम उन सभी लोगों के महान साहस और प्रयासों को याद करते हैं, जिन्होंने स्वतंत्र भारत के लिए एक ध्वज का सपना उस वक्त देखा था, जब हम औपनिवेशिक शासन से लड़ रहे थे।

लेकिन कांग्रेस ने इस पर जवाब देते हुए कहा कि जिन लोगों ने पहले आजादी के आंदोलन और फिर 52 साल तक तिरंगे से दूरी बनाए रखी, आज वे तिरंगे के अस्तित्व को खंडित कर रहे हैं।

कांग्रेस ने आगे कहा कि इस सच को देश जानता है- अब चाहे भाजपा जितने ढोंग कर ले, जनता उनको देशभक्त तो क्यों ही माने?

तिरंगा न फहराने का आरोप 

बता दें कि बीजेपी के मातृ संगठन आरएसएस पर यह आरोप लगता है कि उसने अपने मुख्यालय नागपुर में देश की आजादी के 52 साल बाद तक भी तिरंगा नहीं फहराया था। हालांकि इस पर विवाद होने के बाद संघ प्रमुख मोहन भागवत ने साल 2018 में एक कार्यक्रम में कहा था कि संघ के सभी स्वयंसेवक तिरंगे के सम्मान के साथ जुड़े हैं। बताना होगा कि संघ की शाखाओं में भगवा ध्वज को गुरु मानकर उसे ही प्रणाम किया जाता है।

देश से और खबरें

हर घर तिरंगा अभियान 

इसके अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हर घर तिरंगा अभियान से जुड़ा एक ट्वीट कर यह बताया कि वह इस अभियान को मिल रहे समर्थन से बेहद खुश हैं। उन्होंने  @MyGovIndia के ट्विटर हैंडल से किए गए ट्वीट को रिट्वीट करते हुए यह बात लिखी। इस ट्वीट के साथ जारी किए गए वीडियो में कहा गया है कि आजादी के 75 साल पूरे होने के मौके पर मनाए जा रहे आजादी के अमृत महोत्सव में हर दिल देश प्रेम से रंगा है और हम सब मिलकर हर घर में तिरंगा फहराएं। 

वीडियो में नए भारत के निर्माण की अलख जगाने और हर शहर हर गांव हर घर में तिरंगा फहराने की अपील की गई है।

बता दें कि 15 अगस्त, 2022 को आजादी के 75 साल पूरे हो रहे हैं। इसे आजादी का अमृत महोत्सव के नाम से बड़े पैमाने पर मनाया जा रहा है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें