loader

क्या बीजेपी को लेकर नरम है एनसीपी?, उद्धव ने पवार से की बात 

क्या महाराष्ट्र की महा विकास आघाडी सरकार में शामिल एनसीपी बीजेपी को लेकर नरम है। ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के मुताबिक मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने एनसीपी के प्रमुख शरद पवार के साथ मुलाकात में इस मुद्दे को उठाया है कि एनसीपी का रूख बीजेपी के प्रति नरम है।

ठाकरे ने कहा है कि जब महा विकास आघाडी के नेता केंद्रीय एजेंसियों के टारगेट पर हैं इसके बाद भी एनसीपी मुखर नहीं है। 

शिवसेना ने ऐसे कुछ मौक़ों का ब्यौरा भी दिया है, जहां पर एनसीपी बीजेपी के खिलाफ बैकफुट पर दिखाई दी है। इन मौक़ों का ब्यौरा इस तरह है। 

ताज़ा ख़बरें

1- 13 मार्च को जब मुंबई पुलिस ने पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को साइबर विंग के सामने बुलाए जाने का अपना फैसला बदला तो शिवसेना इसे लेकर खुश नहीं थी। क्योंकि गृह मंत्रालय एनसीपी के पास है।

2- जब एनसीपी के नेता नवाब मलिक को ईडी ने पिछले महीने गिरफ्तार किया। इसके बाद बीजेपी और शिवसेना के बीच में जमकर जुबानी जंग हुई जबकि उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने मीडिया से कहा कि इस वक्त दोनों पक्षों को शांत रहना चाहिए और चीजों को बेकाबू होने से रोकना चाहिए।

3- बीते साल जब बीजेपी के 12 विधायकों को विधानसभा से 1 साल के लिए निलंबित कर दिया गया था तब भी अजित पवार ने कहा था कि विधायकों को उनके खराब व्यवहार के लिए कुछ घंटों या 1 दिन के लिए निलंबित किया जा सकता है न कि पूरे साल भर के लिए। 

4- 28 मार्च को एनसीपी के नेता मजीद मेमन ने ट्वीट किया कि अगर नरेंद्र मोदी लोगों का भरोसा जीतते हैं और दुनिया में सबसे लोकप्रिय नेता के रूप में दिखाई देते हैं तो उनमें कुछ विशेषताएं जरूर होंगी या उन्होंने बेहतर काम किए होंगे जिन्हें विपक्ष के नेता नहीं ढूंढ पा रहे हैं।

rift in MVA alliance Uddhav talks with Pawar - Satya Hindi

...एनसीपी बैकफुट पर 

‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के मुताबिक, शिवसेना के एक आला नेता ने कहा कि केवल शिवसेना ही लड़ाई लड़ रही है। शिवसेना के कार्यकर्ता फ्रंट फुट पर हैं जबकि एनसीपी बैकफुट पर दिखाई देती है। शिवसेना नेता ने कहा कि एनसीपी बीजेपी के खिलाफ उस तरह से मुखर नहीं है जिस तरह उसे होना चाहिए।

शिवसेना नेता ने कहा कि उद्धव ठाकरे ने यह बात शरद पवार तक पहुंचा दी है और आने वाले दिनों में कुछ बदलाव देखने को मिलेंगे।

शिवसेना का दावा खारिज

हालांकि एनसीपी की महाराष्ट्र इकाई के प्रवक्ता महेश तपासे ने शिवसेना नेता के दावों को खारिज किया और कहा कि हम केंद्र सरकार की नीतियों की जमकर आलोचना कर रहे हैं और केंद्रीय एजेंसियों के दुरुपयोग पर भी सवाल उठा रहे हैं। एनसीपी के खुद दो बड़े नेता जेल की सलाखों के पीछे हैं और दो नेताओं के खिलाफ जांच चल रही है।

जबकि एनसीपी के एक सीनियर नेता ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ से कहा कि जब एनसीपी बीजेपी के खिलाफ मुखर होती है तो शिवसेना के कुछ नेताओं को लगता है कि एनसीपी को और ज्यादा आक्रामक होना चाहिए क्योंकि गृह विभाग उसके पास है। 

महाराष्ट्र में साल 2019 में हुए विधानसभा चुनाव के बाद बीजेपी शिवसेना का गठबंधन टूट गया था और शिवसेना ने विरोधी विचारधारा वाली पार्टियों कांग्रेस और एनसीपी के साथ मिलकर राज्य में सरकार बनाई थी।

बीजेपी के कई नेता ठाकरे सरकार के जल्द गिरने का दावा करते रहे हैं लेकिन अब तक ऐसा नहीं हो सका है। पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के बाद ठाकरे सरकार के गिरने की चर्चाओं ने फिर से जोर पकड़ा है।

निशाने पर नेता 

पिछले 2 सालों में केंद्रीय एजेंसियों ने एनसीपी और शिवसेना के कई नेताओं पर शिकंजा कसा है। इनमें एकनाथ खडसे, अनिल देशमुख, नवाब मलिक, अजित पवार जैसे बड़े नेताओं के नाम भी शामिल हैं। कुछ दिन पहले उद्धव ठाकरे ने केंद्रीय एजेंसियों के दुरुपयोग को लेकर बीजेपी पर हमला बोला था। 

महाराष्ट्र से और खबरें

पटोले का ठाकरे को पत्र 

कुछ दिन पहले महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष नाना पटोले ने भी मुख्यमंत्री और शिवसेना के प्रमुख उद्धव ठाकरे को एक चिट्ठी लिखकर सनसनी फैला दी थी। नाना पटोले ने ठाकरे से कहा था कि सरकार को कॉमन मिनिमम प्रोग्राम के तहत चलना चाहिए। बीते दिनों में यह भी खबर आई है कि महाराष्ट्र कांग्रेस के 25 विधायकों ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखी और उनसे मिलने का वक्त मांगा है। यानी कि कांग्रेस के अंदर भी कुछ गड़बड़ चल रही है।

बीएमसी चुनाव 

महाराष्ट्र में बहुत जल्द बृहन्मुंबई महानगर पालिका के चुनाव होने वाले हैं। इन चुनावों में महा विकास आघाडी के दल साथ मिलकर उतरेंगे या नहीं इसे लेकर भी शंका है लेकिन इससे पहले इन दलों के बीच खटपट होने की खबरें निश्चित रूप से कुछ गड़बड़ होने का संकेत दे रही हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें