loader

ठाकरे सरकार को अस्थिर करने में विफल बीजेपी एजेंसियों से करा रही रिकॉर्डिंग: पवार

महाराष्ट्र में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस द्वारा जारी की गई रिकॉर्डिंग को लेकर शरद पवार ने बीजेपी पर हमला किया है। उन्होंने कहा है कि महाराष्ट्र की महाविकास अघाड़ी सरकार को गिराने में विफल रही बीजेपी निराशा में अब रिकॉर्डिंग जैसे कारनामे कर रही है। उन्होंने राज्य सरकार के कार्यालय में 125 घंटे की रिकॉर्डिंग पर हैरानी जताई। पूर्व मंत्री अनिल देशमुख के मामले को लेकर पवार ने कहा कि क्या किसी एक शख्स के मामले में 90 छापे मारे जा सकते हैं। 

एनसीपी प्रमुख पवार ने कहा कि ये सब कारनामे केंद्रीय एजेंसियों का इस्तेमाल कर उद्धव ठाकरे सरकार को गिराने के लिए किए जा रहे हैं। इसको लेकर शरद पवार ने ट्विटर पर एक थ्रेड में कई ट्वीट किए हैं। 

उनका यह ट्वीट तब आया जब मंगलवार को फडणवीस ने महाराष्ट्र विधानसभा के डिप्टी स्पीकर नरहरि जिरवाल के सामने वीडियो रिकॉर्डिंग पेश की थी। उसमें दावा किया गया था कि टेप में इस बात का सबूत है कि महाराष्ट्र विकास अघाड़ी सरकार के नेता राज्य के बीजेपी नेताओं को झूठे मामलों में फँसाने की कोशिश कर रहे हैं।

जवाब में पवार ने दावा किया कि बीजेपी झूठे आरोप लगा रही है क्योंकि वह एमवीए सरकार को अस्थिर करने में सफल नहीं हो रही है।

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने बुधवार को कहा कि विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस द्वारा मंगलवार को महाराष्ट्र विधानसभा में जारी की गई वीडियो रिकॉर्डिंग एक तरह से दिखाती है कि रिकॉर्डिंग को अंजाम देने में केंद्रीय एजेंसियां ​​शामिल थीं।

ताज़ा ख़बरें

उन्होंने एक ट्वीट में कहा, 'मैंने सुना है कि रिकॉर्डिंग 125 घंटे की है। अगर यह सच है तो आपको इस कारनामे को अंजाम देने के लिए शक्तिशाली एजेंसियों के समर्थन की आवश्यकता होगी। ऐसी एजेंसियाँ ​​केवल केंद्र सरकार के पास उपलब्ध हैं। वे राज्य सरकार के एक कार्यालय में घुसने और घंटों तक गुप्त रिकॉर्डिंग करने में कामयाब रहे। मुझे विश्वास है कि राज्य सरकार घटना की जाँच करेगी और टेप की सत्यता की भी जांच करेगी।'

उन्होंने कहा कि बीजेपी नेता शिकायत करते हैं और फिर चुने हुए प्रतिनिधियों को निशाना बनाया जाता है। उन्होंने दावा किया कि यह महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल में हो रहा है।

महाराष्ट्र से और ख़बरें

पवार ने यह भी कहा कि केंद्रीय एजेंसियों ने अनिल देशमुख, उनके परिवार और सहयोगियों पर कम से कम 90 बार छापेमारी की है। 'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार पवार ने कहा, 'मुझे जानकारी है कि अनिल देशमुख, उनके परिवार, रिश्तेदारों, निजी सचिव और चार्टर्ड अकाउंटेंट पर कम से कम 90 बार छापे मारे गए हैं। उस मामले में 200 से ज़्यादा लोगों के बयान दर्ज किए गए हैं। प्रवर्तन निदेशालय ने 50 छापे मारे हैं, केंद्रीय जाँच ब्यूरो ने 20 छापे मारे हैं और आयकर विभाग ने 20 छापे मारे हैं। एक व्यक्ति से जुड़े एक मामले में कुल 90 छापेमारी की जा चुकी है। मैंने एक प्रशासक के रूप में अपने अनुभव में ऐसा पहले कभी नहीं सुना। ये छापे इस बात के प्रतीक हैं कि कैसे केंद्रीय एजेंसियों का इस्तेमाल किया जा रहा है। इस तरह से केंद्रीय एजेंसियों का इस्तेमाल करना संसदीय लोकतंत्र में एक शर्मनाक प्रथा है।'

उन्होंने आगे कहा कि शिवसेना सांसद संजय राउत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा था कि कैसे केंद्रीय एजेंसियों के अधिकारी लोगों से पैसे की उगाही कर रहे हैं। पवार ने कहा कि मुझे उम्मीद है कि प्रधानमंत्री इस पत्र पर संज्ञान लेंगे।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें