loader

इमरान ख़ान की झूठ की सियासत या मदीने की रियासत? 

चुनाव अभियान के दौरान अपने भाषणों में इमरान ख़ान ने वादा किया था कि वह पाकिस्तान में 'मदीना की रियासत' लाएँगे। इसलिए अब पाकिस्तानियों को इमरान ख़ान से यह सवाल पूछने का समय आ गया है: क्या यही मतलब है मदीने की रियासत या 'नए पाकिस्तान' का जिसका आपने वादा किया था?
जस्टिस मार्कंडेय काटजू

चुनाव अभियान के दौरान अपने भाषणों में इमरान ख़ान ने वादा किया था कि अगर उनकी पार्टी पी.टी.आई. सत्ता में आई तो वह पाकिस्तान में 'मदीना की रियासत' की स्थापना करेंगे। अब सवाल यह है कि प्रधानमंत्री बनने के बाद वो पाकिस्तान को कितना मदीने की रियासत के क़रीब लाए हैं या सिर्फ फ़रेब किया है। देखते हैं- 

(1) इमरान ने कहा था कि वह क़र्ज़ लेने के बजाय ख़ुद को गोली मार लेंगे। लेकिन उनकी सरकार ने एक साल में आईएमएफ़ से 16 बिलियन डॉलर का क़र्ज़ लिया है जो 1947 में पाकिस्तान के निर्माण के बाद लिए गए क़र्ज़ों में एक रिकॉर्ड है।

ताज़ा ख़बरें

(2) उन्होंने कहा था कि वह एक करोड़ नौकरियाँ उपलब्ध करवाएँगे परन्तु वास्तव में बेरोज़गारी और छँटनी रिकॉर्ड स्तर पर है। उनके सत्ता में आने के बाद से पाकिस्तान में लाखों नौकरियाँ चली गईं।

(3) उन्होंने कहा था कि वह 50 लाख घर बनवाएँगे। लेकिन एक भी नहीं बनाया गया है, और कई मौजूदा घर ढह गए हैं।

(4) उन्होंने कहा था कि खाद्य पदार्थ, बिजली, ईंधन आदि की क़ीमतें नीचे जाएँगी लेकिन इनकी क़ीमतों ने आसमान छू लिया है।

(5) उन्होंने भ्रष्टाचार को समाप्त करने का वादा किया था लेकिन जब उन्होंने संदिग्ध उम्मीदवारों को पीटीआई के टिकट दिए, यह ज़ाहिर हो गया कि वह वादा केवल नौटंकी थी। पाकिस्तान में अभी भी बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार जारी है।
(6) उन्होंने वादा किया था कि पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था में सुधार होगा लेकिन वास्तव में यह तेज़ी से डूब रही है। एक कारण पाकिस्तान आर्थिक सलाहकार परिषद से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्ध अर्थशास्त्री आतिफ मियां का बर्खास्त होना था और ऐसा सिर्फ़ इसलिए हुआ क्योंकि वह एक अहमदी थे। पाकिस्तानी रुपए ने एक साल में अपने मूल्य का 35% खो दिया है।
(7) उन्होंने पाकिस्तान में लोकतांत्रिक स्वतंत्रता का वादा किया था  लेकिन उन्होंने अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और मीडिया का दमन किया। कई राजनीतिक विरोधी जैसे नवाज़ शरीफ, राणा सनाउल्ला कैद कर लिए गए। कई ईमानदार और स्वतंत्र पत्रकारों को बर्खास्त या पीड़ित किया गया और जंग ग्रुप ऑफ़ न्यूज़पेपर के प्रमुख मीर शकीलुर रहमान कई महीनों से जेल में हैं।
विचार से ख़ास

(8) उन्होंने चीन को सभी प्रकार की आर्थिक रियायतें दी हैं जो आज एक साम्राज्यवादी शक्ति है और दुनिया भर में बहुत ही तीव्रता से बाज़ार एवं कच्चे माल की तलाश कर रहा है। बलूचिस्तान की विशाल प्राकृतिक सम्पदायें जैसे सोना, तांबा, तेल, गैस आदि चीनियों को सौंप दिए गए हैं जिससे बलूचियों में गहरी नाराज़गी है जिसकी आर्म्ड यूनिट ने हाल ही में कराची स्टॉक एक्सचेंज पर हमला किया।

(9) उन्होंने पूरे पाकिस्तान में अच्छे स्कूल और अस्पताल स्थापित करने का वादा किया था लेकिन वे कहाँ हैं?
'मदीना की रियासत' से इमरान ख़ान का मतलब शायद कल्याणकारी राज्य था। लेकिन क्या यही वो कल्याणकारी राज्य है जिसका उन्होंने वादा किया था?

इसलिए अब पाकिस्तानियों को इमरान ख़ान से यह सवाल पूछने का समय आ गया है: (जिसे यू टर्न ख़ान के नाम से भी जाना जाता है) क्या यही मतलब है मदीने की रियासत या 'नए पाकिस्तान' का जिसका आपने वादा किया था?

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
जस्टिस मार्कंडेय काटजू
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें