loader
गौतम अडानी

कोयला आयातः आखिर अडानी समूह पर क्यों उठ रहे हैं सवाल

एनटीपीसी ने चालू वित्त वर्ष के लिए दो करोड़ टन कोयले के आयात के ऑर्डर दिए हैं। जिसमें से अकेले अडानी इंटरप्राइजेज लिमिटेड को 17.3 मिलियन टन का ठेका दिया गया है। गौतम अडानी अब दुनिया के चौथे नंबर के सबसे अमीर उद्योगपति हैं। लेकिन इन दिनों कोयले के धंधे के चलते चर्चा में हैं। अडानी ने अभी हाल ही में एसबीआई से 14 हजार करोड़ का कर्ज भी मांगा था। हालांकि उन पर भारतीय बैंकों का पहले से ही 2.21 करोड़ कर्ज बकाया है। इस कर्जा प्रकरण की वजह से भी वो चर्चा में हैं।
इकोनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट बताती है कि सरकार की कोयला आयात नीति से किस तरह अडानी समूह को फायदा हो रहा है। देश में इस समय बिजली की मांग पीक पर है। बिजली के हालात को ठीक करने और थर्मल पावर हाउसों को चलाने के लिए कोयला चाहिए होता है। कोयला की कमी की वजह से सरकार को कोयला आयात करना पड़ रहा है।
ताजा ख़बरें
अडानी समूह को कोयले का आयात करने के लिए भारत की खरीदारी से फायदा हो रहा है। देश की बिजली की दिग्गज कंपनी एनटीपीसी लिमिटेड से अडानी समूह को भारी मात्रा में आयात ऑर्डर हासिल हो रहा है। 
मामले की जानकारी रखने वाले लोगों के अनुसार, नई दिल्ली स्थित एनटीपीसी ने मार्च में समाप्त होने वाले वित्तीय वर्ष के लिए 20 मिलियन टन आयातित कोयले का ऑर्डर दिया है, जिसमें से लगभग 17.3 मिलियन टन कोयले का ऑर्डर अडानी एंटरप्राइजेज लिमिटेड को दिया गया है।

एनटीपीसी को इस साल अपने संयंत्रों में पहले ही लगभग 70 लाख टन विदेशी कोयला मिल चुका है। यह जानकारी अभी तक सार्वजनिक नहीं हुई थी। इसमें से ज्यादा ऑर्डर अडानी समूह के पास था। इकोनॉमिक टाइम्स ने अडानी और एनटीपीसी का पक्ष लेने के लिए ईमेल भेजा, अनुरोध किया, लेकिन तुरंत उसका जवाब नहीं आया।
भीषण गर्मी के दौरान बिजली की मांग और एक महामारी के बाद इंडस्ट्रियल डिमांड बढ़ने से भारत की बिजली की खपत रिकॉर्ड स्तर तक पहुंच गई है। इसी वजह से कोयले की आपूर्ति को बढ़ाना पड़ा है। इसी वजह से सरकार ने कंपनियों से आयात करने का आग्रह किया। कोल इंडिया लिमिटेड ने जून में पहली बार आयात टेंडर जारी किया था।

ब्लूमबर्ग इंटेलिजेंस के विश्लेषक डेनिस वोंग ने सोमवार को एक नोट में लिखा है कि अडानी समूह आयात में वृद्धि से लाभान्वित होने के बाद जून तिमाही में बेहतर राजस्व रिपोर्ट कर सकता है। यानी अडानी समूह को जून तिमाही में भारी राजस्व मिलने वाला है। पिछले महीने बिजली संयंत्रों में कोयले के भंडार में आयात की वजह से लगभग 11% की वृद्धि हुई है।

 

देश से और खबरें

पत्रकार रवि नायर अडानी समूह को कोयला आयात से हो रहे मुनाफे और सरकार की कोयला आयात नीति को लेकर लगातार सवाल उठाए हैं। दो दिन पहले उनके घर गुजरात पुलिस पहुंच गई। उन्हें गुजरात की कोर्ट में बुलाया गया है, जबकि वो जानते ही नहीं है कि उनके खिलाफ क्या शिकायत की गई है। कहा जा रहा है कि अडानी समूह ने पत्रकार रवि नायर पर मानहानि का केस कर रखा है। उसी सिलसिले में गुजरात पुलिस उनके घर आई थी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें