loader

वैक्सीन तो जल्द आएगी, पर लोगों तक सुरक्षित पहुँचेगी कैसे?

कोरोना के खौफ़ के बीच वैक्सीन से लोगों की बड़ी उम्मीद बंधी है, लेकिन वैक्सीन को सुरक्षित रखने और लोगों तक पहुँचाने की व्यवस्था कैसी होगी? क्या इसकी तैयारी सरकार ने की है और यदि की है तो यह तैयारी कैसी है? ये सवाल इसलिए कि वैक्सीन को सुरक्षित रखने के लिए फ़्रीज़िंग की ज़रूरत होगी। यह फ़्रीजिंग -80 डिग्री सेल्सियस तक होनी चाहिए। यानी ऐसी वैक्सीन को सामान्य फ़्रीज़ में रखा नहीं जा सकता है तो देश भर में दूर-दराज तक पहुँचाना, स्टोर रखना और फिर इसे लोगों को टीका लगाना क्या बड़ी चुनौती नहीं होगी?

ख़ास ख़बरें

इस मामले में क्या व्यवस्था है, इस पर अभी तक आधिकारिक तौर पर तो कुछ नहीं कहा गया है। हालाँकि देश में इसके लिए पहले से तैयारी की जाए तो यह मुश्किल भी नहीं लगता है। लेकिन सवाल उठ सकता है कि जिस तरह से कोरोना संक्रमण की शुरुआत में अधिकतर देशों में तैयारी नहीं थी और अव्यवस्था फैली थी, कहीं वैसा हाल तो नहीं होगा? भारत सहित कई देशों के बारे में कहा गया था कि पहले से तैयारी नहीं होने के कारण इसका नुक़सान उठाना पड़ा। इसलिए सवाल तो उठता है कि कहीं इस मामले में भी तैयारी कमज़ोर तो नहीं रह जाएगी?

यह सवाल ख़ासकर मॉडर्ना और फाईज़र वैक्सीन के संदर्भ में ज़्यादा उठता है। रिपोर्टों में कहा गया है कि इन दोनों वैक्सीन को -20 से लेकर -80 डिग्री सेल्सियस यानी ज़ीरो से भी नीचे के तापमान पर रखना होगा। लेकिन ऑक्सफ़ोर्ड की वैक्सीन के संदर्भ में ऐसा नहीं है। 

ऑक्सफ़ोर्ड की वैक्सीन को सामान्य रेफ़्रिजरेटर के तापमान पर भी सुरक्षित रखा जा सकता है। इसीलिए कहा जा रहा है कि भारत के लिए ऑक्सफ़ोर्ड की वैक्सीन ज़्यादा सही और दूर-दराज के क्षेत्रों में पहुँचाने के लिए आसान होगी।

ऑक्सफ़ोर्ड की वैक्सीन औसत रूप से 70 प्रतिशत प्रभावी रही है, लेकिन इसके डोज़ को नियंत्रित तरीक़े से देने पर 90 फ़ीसदी तक प्रभावी भी बतायी जा रही है। मॉडर्ना के आख़िरी चरण के ट्रायल के बाद शुरुआती रिपोर्ट में कहा गया है कि यह 94.5 फ़ीसदी प्रभावी है वहीं फाईजर ने कहा है कि इसकी वैक्सीन 95 फ़ीसदी प्रभावी है। हालाँकि, यहाँ सवाल वैक्सीन के प्रभावी होने से कहीं ज़्यादा दूर-दराज के क्षेत्रों में सुरक्षित और आसानी से पहुँचाने का भी है।

is government prepared for coronavirus vaccine freezing and storage - Satya Hindi

बहरहाल, देश की इतनी बड़ी आबादी के लिए सिर्फ़ ऑक्सफ़ोर्ड की वैक्सीन पर तो निर्भर रहा नहीं जा सकता है इसलिए मॉडर्ना और फ़ाईज़र जैसी वैक्सीन के लिए भी व्यवस्था रखे जाने की ज़रूरत होगी। ऐसी स्थिति में -20 से लेकर -80 डिग्री सेल्सियस की स्टोरेज की ज़रूरत आन पड़ सकती है। 

डेयरी इंडस्ट्री की व्यवस्था से सीख

यहीं पर कोरोना वैक्सीन को लोगों तक पहुँचाने की ज़िम्मेदारी संभाल रहे अधिकारियों को डेयरी इंडस्ट्री से सीख मिल सकती है कि आसानी से कैसे इन वैक्सीन को लोगों तक पहुँचाया जाए। और यह सीख दूध, दही, मक्खन, आइसक्रीम जैसे उत्पादों की व्यवस्था से तो मिल ही सकती है, पशुओं को कृत्रिम गर्भाधान के लिए वीर्य को सुरक्षित रखने और दूर-दराज के क्षेत्रों तक ढोने से भी सबक़ मिल सकती है। 

'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार, भारत में लगभग 8 करोड़ कृत्रिम गर्भाधान प्रतिवर्ष किए जाते हैं। ऐसी 56 जगहों से पशुओं के वीर्य को कृत्रिम गर्भाधान के लिए पैक किया जाता है। इन्हें -196 डिग्री सेल्सियस पर रखा जाता है और इतने नीचे तापमान में ही इन्हें देश भर में दूर-दराज के क्षेत्रों में ले जाया जाता है। 

अख़बार की रिपोर्ट के अनुसार बीएआईएफ़ डेवलपमेंट रिसर्च फ़ाउंडेशन में ग्रुप वाइस प्रेसिडेंट (साइंटिफिक रिसर्च एंड लाइवस्टॉक डेवलपमेंट) अशोक पांडे बताते हैं, '... माइनस 195.79 डिग्री सेल्सियस हमारी कोल्ड चेन का सबसे महत्वपूर्ण घटक है। यह सुनिश्चित करता है कि किसान के घर में मादा जानवर के गर्भाधान के लिए इस्तेमाल किए जाने से कुछ सेकंड पहले तक इसे आवश्यक तापमान पर बनाए रखा जाए।'

पांडे कहते हैं कि अमेरिका और यूरोप से अलग जहाँ कारों में किसानों के घर पर कृत्रिम गर्भाधान के लिए वीर्य को ले जाया जाता है, भारत में यह दूर-दराज के इलाक़ों में दोपहिया वाहनों पर भी ले जाया जाता है। 

डेयरी इंडस्ट्री की फ़्रीज़िंग की व्यवस्था के अनुरूप कोरोना वैक्सीन की व्यवस्था भी की जा सकती है। लेकिन डेयरी इंडस्ट्री की यह व्यवस्था एक दिन में नहीं बनी। इसके लिए लंबा समय लगा है। यानी कम समय में ऐसी व्यवस्था करनी हो तो इसके लिए ज़बरदस्त तैयारी होनी चाहिए। अब यह तो सरकार ही बता सकती है कि इस मामले में उसने किस स्तर की तैयारी की है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें