loader
आरबीआई गवर्नर शशिकांत दास

RBI MPC: होम लोन महंगा होगा, अर्थव्यवस्था की रफ्तार सुस्त

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने आज 7 दिसंबर को रेपो रेट में 35 आधार अंक (बीपी) की बढ़ोतरी की घोषणा की। यह 5.4 से बढ़कर 6.25 फीसदी पर पहुंच गया है। 2023 में जीडीपी ग्रोथ का अनुमान 7 फीसदी से घटकर 6.8 फीसदी हो गया है। यानी अर्थव्यव्था के बढ़ने की रफ्तार सुस्त रहेगी। रेपो रेट उसे कहते हैं, जिस दर पर आरबीआई बाकी बैंकों को अल्पकालिक धन उधार देता है। एक बीपी प्वाइंट का मतलब है एक फीसदी प्वाइंट का सौवां हिस्सा। रेपो रेट बढ़ने का सीधा असर होम लोन और अन्य लोन लेने वालों पर पड़ेगा, क्योंकि बैंक जब आरबीआई से बढ़ी दर पर पैसा उधार लेंगे तो वो पब्लिक को उसे कुछ बढ़ाकर ही ऑफर करेंगे।
आरबीआई की असली चिन्ता महंगाई को लेकर है, जिस पर सरकार काबू नहीं कर पा रही है। महंगाई का असर आरबीआई की मौद्रिक नीति (RBI Monetary Policy) पर साफ दिखाई दे रहा है। अक्टूबर में खुदरा महंगाई दर 6.77 फीसदी रही थी, जो आरबीआई की सहनशीलता स्तर (टॉलरेंस लेवल) 6 फीसदी से काफी ऊपर है।
ताजा ख़बरें
आरबीआई ने मई में 190 बीपी रेपो रेट बढ़ाने के बाद आज पांचवीं बार 7 दिसंबर को दरों में फिर से बढ़ोतरी क्यों की? इस सवाल का उठना जरूरी है। मनी कंट्रोल की एक रिपोर्ट में इसकी वजह यह बताई गई है कि अभी तक महंगाई पर काबू नहीं पाया जा सका है। महंगाई को उसके टारगेट लेवल पर वापस लाने के लिए आरबीआई पर बहुत ज्यादा दबाव है। आरबीआई को इसके लिए सख्त कदम उठाने की जरूरत थी। 
मौद्रिक नीति की जानकारी देते हुए आरबीआई गवर्नर शशिकांत दास ने महंगाई के खिलाफ लड़ाई पर आरबीआई का फोकस और इसकी फौरी जरूरत को दोहराया। दास ने जोर देकर कहा, "हम महंगाई पर अर्जुन की नजर रखेंगे।" तो आरबीआई गवर्नर का यह संदेश साफ-साफ बताता है कि फरवरी 2023 में रेपो रेट में कम से कम 25-35 बीपीएस प्वाइंट की बढ़ोतरी का एक और दौर आएगा।
मालूम हो कि कुछ महीने पहले आरबीआई ने आधिकारिक तौर पर महंगाई दर को 6% पर नहीं रख पाने पर अपनी जिम्मेदारी स्वीकार की थी। उस नाकामी को स्वीकार करने के बाद मौद्रिक नीति समिति यानी MPC की यह पहली समीक्षा है। आरबीआई ने जब महंगाई को लेकर अपनी नाकामी की घोषणा की तो मोदी सरकार को इस नाकामी पर औपचारिक स्पष्टीकरण देने के लिए मजबूर होना पड़ा। जिसमें भविष्य को लेकर तमाम उम्मीदें जगाई गई थीं। उस स्पष्टीकरण के बाद आरबीआई को महंगाई पर काबू पाने का दबाव और बढ़ गया।
देश से और खबरें
इतनी सारी बातों के बावजूद आरबीआई गवर्नर शशिकांत दास ने कहा कि भारत अभी भी तेजी से बढ़ती हुई अर्थव्यवस्था है और उसमें लगातार सुधार जारी है। हालांकि जीडीपी ग्रोथ का अनुमान 7 से घटाकर 6.8 फीसदी कर दिया गया है, इसके बावजूद आरबीआई गवर्नर की उम्मीदें बनी हुई हैं। जनता भी रिजर्व बैंक के गवर्नर की उम्मीदों के साथ अपनी उम्मीदें जोड़कर देख सकती है। इसके अलावा उसके पास क्या चारा है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें