loader

भारत के लोगों के दोहरे चरित्र बताने वाले कॉमेडियन वीर दास का विरोध क्यों?

कॉमेडियन वीर दास अमेरिका में एक कार्यक्रम को लेकर मुश्किल में फँस गए हैं। उस कार्यक्रम में भारतीय लोगों के दोहरे चरित्र को बताने पर कुछ लोगों ने उस बयान को 'भारत विरोधी' बताया है और दिल्ली और मुंबई में शिकायत दर्ज कराई गई है। सोशल मीडिया पर भी इस पर जबरदस्त प्रतिक्रिया हुई है। हालाँकि, कुछ लोगों ने यह भी कहा है कि वीर दास ने कार्यक्रम में कुछ भी ग़लत नहीं कहा है। 

तीखा विरोध होने के बाद वीर दास ने मंगलवार को एक बयान जारी कर सफ़ाई दी कि 'मैं दो भारत से आता हूँ' में उनका उद्देश्य देश का अपमान करना नहीं था। उन्होंने कहा कि उनका इरादा यह बताना था कि देश, अपने ऐसे मुद्दों के बावजूद महान है।

उनकी इस सफ़ाई में कहा गया है कि उनके पूरे कार्यक्रम के एक हिस्से को काटकर उनपर निशाना साधा जा रहा है। 

दरअसल, वीर दास ने सोमवार को यू-ट्यूब पर एक वीडियो अपलोड किया था। इसका शीर्षक था 'मैं दो भारत से आता हूं'। वह वाशिंगटन डीसी के जॉन एफ कैनेडी सेंटर में उनके हालिया प्रदर्शन का हिस्सा था। छह मिनट के वीडियो में वीर दास देश के कुछ लोगों के विरोधाभासी चरित्र के बारे में बात करते हैं। उसमें वह कोरोना के ख़िलाफ़ लड़ाई, बलात्कार की घटनाएँ, कॉमेडियन के ख़िलाफ़ कार्रवाई से लेकर किसानों के विरोध तक का ज़िक्र करते हैं। 

उस वीडियो में वह कहते हैं-

"मैं उस भारत से आता हूं, जहां हम दिन में औरतों की पूजा करते हैं और रात में गैंगरेप करते हैं...।

मैं उस भारत से आता हूं, जहां हम वैजिटेरियन होने में गर्व महसूस करते हैं, लेकिन उन्हीं किसानों को कुचल देते हैं, जो ये वेजिटेबल उगाते हैं...।

मैं उस भारत से आता हूं, जहां बच्चे मास्क लगा कर एक दूसरे से हाथ मिलाते हैं और मैं उस भारत से आता हूं जहां के नेता बिना मास्क लगाए गले मिलते हैं...।

मैं उस भारत से आता हूं जहां हिंदू, मुसलिम, ईसाई, सिख, पारसी और यहूदी भी हैं और जब हम सभी आसमान में देखते हैं तो हम सभी को एक ही चीज दिखती है- पेट्रोल की क़ीमतें...।"

लेकिन ट्विटर पर एक वर्ग ने उनके इस छह मिनट के वीडियो से कुछ सेकंड की क्लिप और तसवीरें पोस्ट कीं। उसमें ख़ासकर वह हिस्सा शेयर कर वीर पर निशाना साधा गया जिसमें कॉमेडियन ने कहा, 'मैं एक ऐसे भारत से आता हूँ जहां हम दिन में महिलाओं की पूजा करते हैं और रात में उनका सामूहिक बलात्कार करते हैं।'

बीजेपी कार्यकर्ता प्रीति गांधी ने कहा, 'आप उस एक भारत से आते हैं, वीर दास, जहाँ आप अपने ही राष्ट्र का अपमान करके जीवन यापन करते हैं! आप एक ऐसे भारत से आते हैं, जो आपकी घिनौनी, अपमानजनक बकवास को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के रूप में पेश करने की अनुमति देता है! आप एक ऐसे भारत से आते हैं, जिसने आपकी बदनामी को लंबे समय तक सहन किया है!'

दिल्ली में बीजेपी के नेता और पार्टी के प्रवक्ता आदित्य झा ने दिल्ली में शिकायत दी है और कहा है कि 'वीर दास ने भारत की छवि को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर धूमिल करने का प्रयास किया है और इसका मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा।'

एडवोकेट आशुतोष दुबे ने मुंबई पुलिस में शिकायत की कॉपी को साझा करते हुए ट्वीट किया है, 'वीर दास भारत की छवि ख़राब कर रहे हैं, अमेरिका में भारत को बदनाम कर रहे हैं। वीर दास के ख़िलाफ़ भारत के कोने-कोने में कार्रवाई होनी चाहिए। ज़रूरत पड़ने पर मैं क़ानूनी रूप से मदद करूंगा।'

कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने भी वीर दास की आलोचना की और लिखा, 'कुछ लोगों की बुराइयों को सबकी बुराई के तौर पर बताना और पूरे देश को दुनिया के सामने बदनाम करना ठीक नहीं है! औपनिवेशिक शासन के दौरान जिन लोगों ने भारत को पश्चिम के सामने सपेरों और लुटेरों के देश के रूप में दिखाया, उनका अस्तित्व समाप्त नहीं हुआ है।' 

वीर दास के समर्थन में शशि थरूर, कपिल सिब्बल

हालाँकि कांग्रेस के ही नेता शशि थरूर और कपिल सिब्बल ने वीर दास का समर्थन किया है। कपिल सिब्बल ने ट्वीट किया, 'वीर दास, कोई भी संदेह नहीं कर सकता है कि दो भारत हैं। बस हम नहीं चाहते कि कोई भारतीय दुनिया को इसके बारे में बताए। हम असहिष्णु और पाखंडी हैं।'

शशि थरूर ने ट्वीट किया, "एक स्टैंड-अप कॉमेडियन जो 'स्टैंड अप' शब्द का वास्तविक अर्थ जानता है, वह शारीरिक नहीं बल्कि नैतिक है- वीर दास ने 6 मिनट के इस टेक में लाखों लोगों के लिए टू इंडियाज के बारे में बात की जिसका वह प्रतिनिधित्व करते हैं। 'यह एक मजाक है, लेकिन यह सिर्फ़ मजाक की ही बात नहीं है।' बहुत खूब।"

ऐसी प्रतिक्रियाओं के बीच ही वीर दास का बयान आया है। उन्होंने कहा है, 'वीडियो दो अलग-अलग भारत के द्वंद्व के बारे में एक व्यंग्य है जो अलग-अलग व्यवहार करता है। जैसे किसी भी देश में प्रकाश और अंधेरा, अच्छाई और बुराई होती है। इनमें से कुछ भी रहस्य नहीं है। वीडियो अपील करता है कि हम कभी भी नहीं भूलें कि हम महान हैं। जो हमें महान बनाता है उस पर ध्यान केंद्रित करना कभी बंद नहीं करें।'

वह बयान में कहते हैं कि वीडियो देश के लिए तालियों की भारी गड़गड़ाहट के साथ ख़त्म होता है जो देशभक्तिपूर्ण माहौल को दर्शाता है और जिस देश से हम सभी प्यार करते हैं, विश्वास करते हैं और जिस पर हमें गर्व है। दास ने लिखा है कि लोग 'नफरत' के बजाय उम्मीद के साथ देश के लिए जयकार करते हैं। उन्होंने लिखा कि लोग भारत के लिए सम्मान के साथ ताली बजाते हैं, द्वेष से नहीं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें