loader

अर्णब गोस्वामी- इतनी अमर्यादा, इतना फ़्रस्ट्रेशन ...आप कहाँ से लाते हो!

ये कैसे दौर में साँस ले रहे हैं हम? प्रत्येक घर में महज एक तकनीकी इंस्ट्रूमेंट टीवी को एक मानव बम में तब्दील कर दिया गया है। रिपब्लिक के नाम पर वास्तविक रिपब्लिक को होल्ड पर रख दिया गया है। ये ऐसा अपहरण है जिसमें जिसका अपहरण किया गया है उसे वो अपहरण नहीं बल्कि इंसाफ़ पाने की कवायद लग रही है। न्यूज़ को एक नशे तरह पेश किया जा रहा है। और इस नशे में हम झूम रहे हैं। सोचिए कि कैसी भाषा का इस्तेमाल किया जा रहा है। मैं उस भाषा को फिर से दुहराना भारतीयता का अपमान समझती हूँ।

भाषा भाव को प्रकट करने का पवित्र, सुंदर और उत्कृष्ट माध्यम है लेकिन तथाकथित एक अंग्रेज़ीदाँ पत्रकार जिनका शुभ नाम अर्णब गोस्वामी है, ने हिंदी को भी अपने कब्जे में ले लिया है और उस हिंदी को जिसका एक-एक अक्षर एक विशाल भावनात्मक (ब्रह्मांडीय और भावनीय अर्थ) अर्थ को संजोए हुए है, उस हिंदी को अपने निकृष्टतम मनोविकार को निकालने का माध्यम बना रहे हैं।

ताज़ा ख़बरें

तो मैं अपने भाषिक संस्कृति की मर्यादा का पालन करते हुए श्री अर्णब गोस्वामी जी से यह पूछना चाहती हूँ कि इतनी अमर्यादा, इतना फ़्रस्ट्रेशन, इतना दुःसाहस, इतना नाटकीय ग़ुस्सा आप कहाँ से लाते हैं? इन सारे मनोविकारों का उद्गम स्रोत कहाँ है? इस नफ़रती लहज़े का कोई मनोवैज्ञानिक रहस्य तो नहीं है, अगर है तो इसके लिए मनोचिकित्सक मौजूद हैं, आप उनके पास जा सकते हैं। इसके लिए एक बड़े लोकतंत्र को प्रयोगशाला बनाना कहाँ का इंसाफ़ है?

आपको हिन्दुओं के लिए बड़ा दर्द है ना तो ज़रा बताइए कि हिन्दू संस्कृति या सनातन धर्म के किस साधु ने या किस ग्रंथ में आपकी तरह की उग्र भाषा का प्रयोग किया है? श्री कृष्ण ने गीता को संस्कृत में उवाच किया। 
क्या हम इतने गिर चुके हैं कि अपनी भाषिक संस्कृति की निर्ममता से हत्या किए जा रहे हैं। हमसे बेहतर तो अंग्रेज़ निकले जिन्होंने हमारे देश पर राज करने के लिए हमारी संस्कृति का गहन अध्ययन किया।

ज़रा देखिए अंग्रेजों ने वर्ष 1776 में मनुस्मृति का अनुवाद अंग्रेज़ी में ए कोड ऑफ़ जेनटू लॉज के नाम से कराया, भगवद गीता का अनुवाद 1785 में विलिकन्स ने किया, 1789 में अभिज्ञान शाकुंतलम का अंग्रेज़ी अनुवाद किया गया। भारत की प्राचीन संस्कृति को समझने के लिए 1784 में कलकत्ता में एशियाटिक सोसाइटी ऑफ़ बंगाल नामक शोध संस्था की स्थापना हुई। इसकी स्थापना ईस्ट इंडिया कंपनी के एक सिविल सर्वेंट सर विलियम जोंस ने की थी। उन्नसवीं सदी के पूर्वार्द्ध में इंग्लैंड तथा कई अन्य यूरोपीय देशों में संस्कृत के आचार्य-पद स्थापित हुए। जर्मनी के मैक्समूलर जिन्हें न जाने कितनी ही भाषाओं का ज्ञान था उनकी सबसे प्रिय भाषा संस्कृत थी। उन्होंने वेद और पुराणों का गहन अध्ययन किया था, वो भारतीय ज्ञान और संस्कृत की प्रवीणता देखकर अचंभित थे। मैक्समूलर के इस अध्ययन का लाभ अंग्रेज़ों ने भारत पर शासन करने के लिए किया था।

मैं स्पष्ट तौर पर कहती हूँ कि आप वकालत तो हिन्दू धर्म की करते हैं लेकिन आपका लहज़ा, रवैया और सोच पूर्णतः विदेशी और घोर पूंजीवादी है। एक उन्मादी लहज़े का व्यक्ति स्वयं को भारत का प्रतिनिधि घोषित करते हुए ‘पूछता है भारत’ कार्यक्रम करता है। क्षमा कीजिए लेकिन उन्माद और अपमान करना भारतीय संस्कृति का हिस्सा नहीं है। भारतीय संस्कृति का हिस्सा ये श्लोक है-

सत्यं ब्रूयात् प्रियं ब्रूयात् न ब्रूयात् सत्यमप्रियम्।

नासत्यं च प्रियं ब्रूयात् एष धर्मः सनातनः ॥

अर्थात, सत्य और प्रिय बोलना चाहिए; पर अप्रिय सत्य नहीं बोलना और प्रिय असत्य भी नहीं बोलना यह सनातन धर्म है।

लेकिन आपको क्या? आप और आपके अनुयायी और प्रतिस्पर्धी पत्रकार गण बॉलीवुडिया फ़िल्मों के उन नायकों का अभिनय करने में लगे हुए हैं जो विलन को बगैर किसी डेमोक्रेटिक विज़न के ख़त्म कर जनता को नागरिक न बना कर एक भीड़ में तब्दील कर देता है। 

जनाब! याद रखिए! सेल्फ रेगुलेशन नाम की भी कोई चीज़ होती है, ज़रा संभल जाइए नहीं तो आप अपने जिस लहजे और तरीक़े से लोगों के भीतर के उन्माद को बढ़ावा दे रहे हैं एक दिन वही उन्माद आपका भी इंसाफ़ करेगा। इतिहास के प्रति अपनी ज़िम्मेदारी को नज़रअंदाज़ करने वाले को इतिहास कभी माफ़ नहीं करता।

पाठकों के विचार से और ख़बरें

अगर तनिक भी शर्म या लज़्ज़ा बाक़ी है तो लोकतंत्र के सच्चे चौथे खंभे का परिचय दीजिए और मेरी एक सलाह मानिए, जिस प्रकार की कल्चरल क्राइसिस की स्थिति बना दी है आप लोगों ने, तो पश्चाताप के तौर पर आने वाली 14 सितंबर यानी हिंदी दिवस को अपने स्टूडियो में एक भाषिक और सांस्कृतिक डिपार्टमेंट के निर्माण कर उसमें सभ्रांत लोगों को बिठाइए और कुछ भी बोलने से पहले उन भद्र विद्वानों से उस सामग्री की गहन जाँच करवाइए और तत्पश्चात ही अपना मुँह खोलिए। कहिए! करेंगे आप? हिंदी भाषा की गरिमा को ध्वस्त करने के लिए पश्चाताप करेंगे, क्षमा माँगेंगे? है हिम्मत?

मुश्किल जान पड़ता है क्योंकि दुःसाहस करने के लिए उद्दण्डता चाहिए लेकिन साहस के लिए आत्मबल।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संध्या वत्स
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पाठकों के विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें