loader

कार्टून विवाद: मुनव्वर राणा के ख़िलाफ़ लखनऊ में एफ़आईआर दर्ज

फ्रांस में पैगंबर मुहम्मद साहब पर बने कार्टून के बाद हुई हत्या की घटना के कारण दुनिया भर में माहौल तनावपूर्ण है। एक टीवी चैनल के साथ बातचीत में शिक्षक की हत्या के सवाल पर मशहूर शायर मुनव्वर राणा के बयान को लेकर भी विवाद हो रहा है। अब लखनऊ पुलिस ने उनके ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज कर ली है। हज़रतगंज कोतवाली के सब इंस्पेक्टर दीपक कुमार पांडे की ओर से लिखवाई गई शिकायत के आधार पर एफ़आईआर दर्ज की गई है। 

राणा ने हिंसा को जायज ठहराते हुए कहा था, 'मैं भी होता तो वही करता।' बता दें कि इतिहास के प्रोफ़ेसर पैटी ने अभिव्यक्ति की आज़ादी पर लेक्चर देने के दौरान शार्ली एब्दो के पैगंबर मुहम्मद साहब पर बने कार्टून दिखाए थे। इसके बाद उनकी हत्या कर दी गई थी। 

राणा ने कहा था, ‘अगर अभी कोई शख़्स मेरे बाप का कोई ऐसा कार्टून बना दे गंदा, मेरी मां का कोई ऐसा गंदा कार्टून बना दे तो हम तो उसको मार देंगे।’

राणा के ख़िलाफ़ आईपीसी की धारा 153ए सहित कई अन्य धाराओं के तहत मुक़दमा दर्ज किया गया है। इनमें कहा गया है कि राणा ने धर्म के आधार पर अलग-अलग समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा दिया है। 

ताज़ा ख़बरें

इस हिंसा के बाद से फ्रांस में इसे अभिव्यक्ति की आज़ादी पर आतंकी हमला बताया जा रहा है तो मुसलिम देश इसे धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाला बता रहे हैं। शार्ली एब्दो का विवाद 2011 में पहली बार तब सामने आया था जब उसने मुहम्मद साहब के कार्टून छापे थे। शार्ली एब्दो एक फ्रांसीसी व्यंग्य छापने वाली साप्ताहिक पत्रिका है।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

शिक्षक की हत्या के बाद फ्रांस के ही नीस शहर में एक चर्च में आतंकी हमले में तीन लोगों की हत्या कर दी गई और कई लोगों को घायल कर दिया गया। इस मामले में फ्रांस और मुसलिम देश एक-दूसरे के ख़िलाफ़ आ गए हैं। 

डीएनए की एक रिपोर्ट के अनुसार, मुनव्वर राना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी निशाना साधा और कहा कि फ्रांस के लिए उनका समर्थन यूरोपीय देश के साथ राफ़ेल सौदे के कारण है। बता दें कि इससे पहले गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फ्रांस में हाल ही में एक चर्च के अंदर नीस में हुए जघन्य हमले व आतंकी कृत्यों की निंदा की थी। 

देखिए वीडियो, इस्लाम के नाम पर हत्या जायज कैसे?

हालांकि, 'आज तक' के साथ बातचीत में उन्होंने हिंसा को जायज ठहराने की बात से इनकार किया था। उन्होंने कहा था कि मजहब एक ख़तरनाक खेल है और इससे आदमी को दूर रहना चाहिए।

बता दें कि फ़्रांस में ताज़ा हिंसा के बाद तुर्की, पाकिस्तान, ईरान, सऊदी अरब समेत कई देशों ने फ्रांस के उत्पादों के बहिष्कार की अपील कर दी है। इसके अलावा तुर्की के राष्ट्रपति तैय्यब अर्दोवान ने फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों पर निजी हमला करते हुए उन्हें ‘मानसिक रोग का इलाज कराने’ की सलाह तक दे डाली है।

दुनिया के कई मुसलिम-बहुल देशों में जनता ने सड़कों पर उतर कर फ्रांस का विरोध किया है। पाकिस्तान और ईरान की संसद में प्रस्ताव पारित कर फ्रांस की निंदा की गई है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें