loader

क्या नरेंद्र मोदी राजीव गाँधी जैसे हैं?

लगभग 5 साल पहले नरेंद्र मोदी जिस नए चेहरे और उत्साह के साथ भारतीय जनमानस में दाख़िल हुए थे, वह अब फीका पड़ने लगा है। 'कांग्रेस-मुक्त भारत' की बात करते हुए नरेन्द्र मोदी ने 5 सालों में कांग्रेस को जीवनदान दे दिया है। साल भर पहले भारत से लगभग साफ़ हो चुकी कांग्रेस अब वैसे ही सत्ता को ललकारती नजर आ रही है, जैसे कभी इमर्जेंसी के दौरान जॉर्ज फ़र्नांडीस की बेड़ियों में जकड़ी हुई तसवीर से इंदिरा गाँधी की सत्ता हिल गई थी। 

आज मोदी सरकार पर सीबीआई, आरबीआई, सुप्रीम कोर्ट समेत तमाम संवैधानिक संस्थाओं पर हमले करने के आरोप लग रहे हैं।  प्रधानमंत्री मोदी पर अपने हमले को पैना करते हुए कांग्रेस उन्हें 'तानाशाह और अलोकतांत्रिक' नेता साबित करने में जुटी हुई है।

नरेंद्र मोदी ने सत्ता में आते ही योजना आयोग को भंग करने के साथ ही 'नेहरू युग' को 'मोदी युग' से बदलने की कोशिश की। पर आज हक़ीक़त यह है कि जवाहरलाल नेहरू और इंदिरा गाँधी पर लगातार दोष मढ़ते हुए मोदी भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गाँधी का प्रतिरूप नज़र आने लगे हैं। दूसरी ओर मंदिरों में जाकर गोत्र बताते और संसद में मोदी को गले लगाते एवं आँख मारते राहुल गाँधी ‘सनातन कुँवारे’ और ‘उदारवादी दक्षिणपंथी’ अटलबिहारी वाजपेयी की जगह ले रहे हैं। 

लोकप्रिय राजीव और मोदी

राजीव 1944 में पैदा हुए और नरेंद्र मोदी 1949 में। दिल्ली की राजनीति में दोनों ही बाहरी थे। दोनों ने ही व्यक्तित्व की राजनीति की। दोनों ही जनता में बेहद पॉपुलर रहे। दोनों 'मिस्टर क्लीन' की इमेज के साथ राजनीति में आए। राजीव ने कश्मीरी शॉल को पॉपुलर बनाया तो मोदी ने हाफ़ कुर्ते और जैकेट को। राजीव को प्लेन उड़ाने का शौक था तो मोदी को प्लेन में उड़ने का शौक है।

जनता को थी बहुत उम्मीदें 

1985 में कांग्रेस को बहुमत दिलाकर राजीव सत्ता में आए। ठीक उसी प्रकार 2014 में बीजेपी को बहुमत दिला, नरेंद्र मोदी सत्ता में आए। दोनों से ही जनता को बहुत उम्मीदें थीं। इतनी उम्मीदें कि दोनों के ही सत्ता में आने से पहले भारत में हुए अल्पसंख्यकों के दो भीषण नरसंहारों को भी जनता ने अनदेखा कर दिया। दोनों पर ही आरोप लगे कि अगर वे चाहते तो नरसंहार रुक सकते थे। दोनों ही नेताओं की प्रतिक्रियाएँ नरंसहारों को लेकर एक जैसी थीं। 

1984 के सिख नरसंहार के वक़्त जहाँ राजीव गाँधी ने 'बड़ा वृक्ष गिरने पर धरती हिलने' की बात की, वहीं 2002 के मुसलिम नरसंहार के संदर्भ में नरेंद्र मोदी ने कहा था कि 'हर क्रिया की प्रतिक्रिया होती है।'

राजीव गाँधी ने अप्रत्याशित रूप से टेलीकॉम और सूचना तकनीक उद्योग में क्रांति ला दी थी। अज़ीम प्रेमजी और नारायण मूर्ति जैसे कई उद्योगपति उस दौर में सामने आए। उसी तरह नरेंद्र मोदी ने इंटरनेट, बैंक अकाउंट, आधार सबको क्रांतिकारी बना दिया। दोनों के वक़्त लगने लगा था कि अब 21वीं शताब्दी दूर नहीं है। यह अलग बात है कि 2019 में भी हम यही सोच रहे हैं कि 21वीं शताब्दी तक कैसे पहुँचें? 'रेड टेप' यानी लाल फ़ीताशाही के ख़िलाफ़ दोनों ने ही जंग छेड़ी, लेकिन ‘रेड टेप' और ज़्यादा चिपका गया। राजीव ने लगातार 21वीं शताब्दी का नारा दिया वहीं, 21वीं शताब्दी में आने के बाद नरेंद्र मोदी ने ‘अच्छे दिन’ का नारा दिया। जनता ने दोनों को सिर आँखों पर बिठा लिया।

अफ़सरों पर ज़्यादा भरोसा 

राजीव गाँधी ने मिज़ो समझौते को लाल क़िले से घोषित किया तो नरेंद्र मोदी ने उसी नाटकीय अंदाज में नगा समझौते का एलान किया। राजीव गाँधी भी नरेंद्र मोदी की ही तरह बड़े फ़ैसले लेते वक़्त ज़्यादा लोगों से सलाह नहीं करते थे। दोनों ही नेताओं को अपने चुने हुए अफ़सरों पर ज़्यादा भरोसा था, जो बाक़ी नेताओं को 'बाईपास' करके सीधा प्रधानमंत्री से 'कनेक्ट' करते थे।

राजीव और मोदी में समानताएँ यहीं नहीं रुकतीं। देश की टैक्स प्रणाली को सरल बनाने की कोशिश दोनों नेताओं ने की। दक्षिण एशिया की राजनीति को अपने व्यक्तित्व के दम पर सुधारने की कोशिश भी दोनों ने की और दोनों ने ही मुँह की खाई। जहाँ, राजीव ने 1987 में श्रीलंका में भारतीय शांति सेना उतार कर ग़लती की। वहीं, नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में नेपाल, मालदीव, श्रीलंका समेत बांग्लादेश और पाकिस्तान से भी संबंध ख़राब होने लगे हैं। दोनों ही नेताओं ने रूस, अमेरिका, यूएई, सऊदी अरब सबसे रिश्ते सुधारने की कोशिश की। 

मोदी और राजीव ने अपने विदेशी दौरों को ख़ूब प्रचारित कराया। मीडिया का भी इस्तेमाल किया। दोनों ने जमकर विदेश यात्राएँ कीं, लेकिन इन यात्राओं का ज़्यादातर नतीजा सिफ़र ही रहा।

चुनावी लाभ के लिए फ़ैसले

जब राजीव ने 1986 में अयोध्या में राम जन्मभूमि का ताला खुलवाया तो इसके लिए उन पर कोई दबाव नहीं था। उन्होंने यह सिर्फ़ चुनावी लाभ पाने की रणनीति के तहत किया था। शाहबानो प्रकरण में सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले को पलटते हुए संविधान संशोधन भी राजीव ने मुसलिम वोटों को अपने साथ बनाए रखने के लिए ही किया था। इससे हिंदुओं में उपजे ग़ुस्से को शांत करने के लिए उन्होंने राम जन्मभूमि का ताला खुलवाया। 

Equality between rajiv gandhi narendra modi  - Satya Hindi
इसी अंदाज में नरेंद्र मोदी ने भी सवर्णों को 10 फ़ीसदी आरक्षण देने का फ़ैसला किया, ताकि एससी-एसटी ऐक्ट को लेकर सवर्णों में उपजे रोष को ठंडा किया जा सके। राजीव गाँधी के प्रधानमंत्री पद से हटते ही भारत में आर्थिक संकट आया। यह संकट अब नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में ही आ रहा है। यहाँ यह नहीं कहा जा सकता कि दोनों ने जान-बूझकर भारत की अर्थव्यवस्था को ख़राब किया।
राजीव बोफ़ोर्स सौदे में फँसे और नरेंद्र मोदी रफ़ाल डील में घिर गए हैं। जैसे वी. पी. सिंह राजीव के ऊपर आरोप लगाते थे, वैसे ही राहुल गाँधी सीधा प्रधानमंत्री मोदी को 'चोर' कह रहे हैं।
राहुल गाँधी राजनीति में अटलबिहारी वाजपेयी के सामने तो कहीं नहीं हैं, पर विनम्रता में ज़रूर वह उनका अनुकरण कर रहे हैं। धीरे-धीरे यह दिखने लगा है कि अगर नरेंद्र मोदी राजीव गाँधी हैं, तो राहुल गाँधी वाजपेयी बन रहे हैं। पर क्या यह कोई सोच सकता था कि मॉडर्न दिखने वाला विपक्ष का नेता, मंदिरों में गोत्र बताता फिरेगा? तिलक लगाने के लिए हर मंदिर के चक्कर लगाएगा।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
ज्योति यादव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विश्लेषण से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें