loader

24 घंटे में पौने चार लाख से ज़्यादा लोग आए कोरोना की चपेट में

केंद्र और राज्य सरकारें भले ही यह दावा करें कि कोरोना संकट नियंत्रण में है, यदि इसके संक्रमण और उसकी रफ़्तार पर ध्यान दिया जाए तो कोरोना महामारी बेकाबू हो चुकी है। इससे संक्रमित होने वालों और इससे मरने वालों की संख्या रोज बढ़ती जा रही है। 

गुरुवार सुबह जारी स्वास्थ्य मंत्रालय के आँकड़ों के अनुसार, 24 घंटे में कोरोना के 3,79,257 नए मामले सामने आए हैं। इस दौरान 3,645 मरीजों की मौत इस महामारी से हो गई।

कोरोना से प्रभावित होने वालों और इसकी चपेट में आकर मरने वालों की यह अब तक की सबसे बड़ी संख्या है। इसके साथ ही में संक्रमण के मामलों की कुल तादाद 1,83,76,524 हो गई है 2,04,832 मरीज इससे मर चुके हैं।

ख़ास ख़बरें

आठवें दिन तीन लाख से ज़्यादा मामले

स्वास्थ्य मंत्रालय के इन आँकड़ों के अनुसार, यह लगातार आठवाँ दिन है, जब तीन लाख से ज़्यादा मामले सामने आए हैं। दूसरी ओर, बीते 24 घंटे में एक लाख से ज्यादा लोग इस रोग से उबर गए हैं, वे स्वस्थ हो गए हैं।

इसके साथ ही अब तक कोरोना से ठीक हो चुके लोगों की संख्या 1,50,86,878 हो गई। देश में सामने आ रहे नए मामलों में एक्टिव मामलों की संख्या तेजी से बढ़ी है। देश में कुल एक्टिव केस 30,84,814 हैं, यानी इतने लोग इस समय कोरोना की चपेट में हैं। 

daily corona infection, corona death increasing - Satya Hindi

तेज़ी से बढ़ रहा है संक्रमण

यह भी ध्यान देने लायक बात है कि साल के शुरुआती तीन महीनों के मुकाबले अप्रैल में कोरोना की रफ्तार में काफी तेजी देखने को मिली है। अप्रैल से अब तक 62,27,189 नए केस सामने आए हैं। 

इसके एक महीने पहले यानी मार्च में 10,25,863 मामले सामने आए थे। इसके एक महीने पहले यानी फरवरी में तो मात्र 3,50,548 नए मामले सामने आए थे।

पूरे फरवरी में जितने नए मामले सामने आए थे, अब रोज़ाना उससे ज़्यादा आ रहे हैं। 

उसके बाद गति बढ़ती चली गई, और देश में एक-एक लाख नए केस सिर्फ एक-दो दिन में जुड़ने लगे। फिर संक्रमण फैलने की गति कुछ धीमी हुई, टीकाकरण भी शुरू हो गया। अब पिछले कुछ दिनों से संक्रमण फिर रफ्तार पकड़ता नज़र आ रहा है। भारत में पुष्ट कोरोना मामलों का कुल आंकड़ा एक करोड़ 76 लाख पार कर गया है, और इसमें कुल 453 दिन लगे हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें