loader

भारत के पहले कोरोना टीका के ह्यूमन ट्रायल की अनुमति

कोरोना इलाज की दवा का इजाद करने के पतंजलि के दावे पर हुए विवाद के बाद अब एक अच्छी ख़बर आई है। दवा नियामक संस्था सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन ने भारत बायोटेक इंडिया लिमिटेड को कोरोना टीका के मानव पर जाँच यानी ह्यूमन ट्रायल करने की अनुमति दे दी है। 
भारत बायोटेक इंडिया लिमिटेड यानी बीबीआईएल ने इंडियन कौंसिल ऑफ़ मेडिकल रिसर्च की संस्था नेशनल इंस्टीच्यूट ऑफ़ वायरोलॉजी (एनआईवी) के साथ मिल कर मिल कर यह टीका बनाया है। इसका ह्यूमन ट्रायल जुलाई से शुरू होगा। 
देश से और खबरें
यह पहला मौका है जब किसी भारतीय कंपनी को कोरोना टीका के ह्यूमन ट्रायल की अनुमति मिली है। 

कैसे बना यह टीका?

एनआईवी ने अपने हैदराबाद स्थित प्रयोगशाला में इस पर शोध इस साल मई में शुरू किया। इसने कोरोना के एक ऐसे रोगी, जिसमें संक्रमण था पर बाहर से कोई लक्षण नहीं दिखता था, उससे वायरस का एक स्ट्रेन निकाल लिया। एनआईवी ने इस स्ट्रेन से 'इनएक्टिवेटेड' टीका बनाया, यानी ऐसा टीका बनया जिसमें मृत वायरस का इस्तेमाल किया गया। 
इस टीके को किसी आदमी को दे दिया जाता है तो वह उसके शरीर में सुप्त पड़ा रहता है, वह उसे संक्रमित नहीं करता क्योंकि वह वायरस मृत होता है।
यही मृत वायरस उस आदमी की इम्यूनिटी यानी रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ा देता है और वह किसी बाहरी वायरस हमले के प्रति एंटीबॉडी का काम करने लगता है।

प्री-क्लिनिकल ट्रायल

बीबीआईएल ने इस टीके का नाम कोवेक्सिन रखा है। इसे विकसित करने के बाद इसका प्री-क्लिनिकल ट्रायल किया गया। इसे गिनीपिग और चूहे पर आजमाया गया। उसके बाद उसने इन नतीजों के साथ सीडीएससीओ से संपर्क किया। इस नियामक संस्था ने इस टीके का प्रयोग मानव पर करने की अनुमति दे दी है। इसे ही ह्यूमन ट्रायल कहते हैं
दवा नियामक संस्था सीडीएससीओ ने भारत बायोटेक को फ़ेज वन और फ़ेज टू के क्लनिकल ट्रायल के ज़रिए ह्यूमन ट्रायल की इजाज़त दे दी है। इसके साथ ही बीबीआईएल यह दवा बनाने की प्रक्रिया के एक कदम नज़दीक चली आई है।

क्या है 'फ़ेज वन', 'फ़ेज टू' ट्रायल?

ह्यूमन ट्रायल के फ़ेज वन में रोगियों के छोटे समूह पर दवा का प्रयोग किया जाता है। यह देखा जाता है कि यह दवा इम्यूनिटी बढ़ाने में कामयाब हुई या नहीं। यह भी देखा जाता है कि इसका कोई साइड इफेक्ट तो नहीं है।
फ़ेज टू में सैकड़ों लोगों के ऊपर इस दवा का प्रयोग किया जाता है, जिसमें उसके लिंग, उम्र, दवा का प्रभाव वगैरह का रिकार्ड रखा जाता है। इसके कामयाब होने के बाद टीका के उत्पादन की अनुमति दे दी जाती है।

यह पहली बार हुआ है कि कोई भारतीय कंपनी कोरोना टीका के ह्यूमन ट्रायल तक पहुँची है। लेकिन यह एस्ट्राज़ेनेका के टीके से बहुत पीछे है। वह अभी क्लिनिकल ट्रायल के फ़ेज थ्री में है। इसके अलावा मॉडर्ना एम-आरएनए टीका के तीसरे चरण के ट्रायल में है। इसे नेशनल इंस्टीच्यूट ऑफ़ एलर्जी एंड इनफ़्केसस डिजीज़ बना रहा है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें