loader

ब्रिटेन से 15 गुणा कम कोरोना जाँच भारत में, अगस्त में सबसे तेज़ संक्रमण 

केंद्र सरकार भले ही यह दावा करे कोरोना से लड़ाई में उसने कई देशों से बेहतर काम किया है और लाखों लोगों की ज़िन्दगी बचाई है, सच यह है कि कोरोना जाँच में ही भारत फिसड्डी साबित हुआ है। सही संख्या में जाँच होने पर ही संक्रमण की स्थिति का पता लगाया जा सकता है, उस पर अध्ययन किया जा सकता है और रोकथाम की योजना बनाई जा सकती है। 
पर यदि जाँच ही न हो या कम हो या रोकथाम नहीं बल्कि मामला छुपाना उसका मक़सद हो तो रोग के ख़िलाफ़ नहीं लड़ा जा सकता है। इसके बावजूद यदि रोज़ाना 50 हज़ार से ज़्यादा मामले सामने आएं तो स्थिति की भयावहता का अनुमान लगाया जा सकता है।
देश से और खबरें
कोरोना जाँच के मामले में भारत किस तरह पिछड़ा हुआ है, इसका अनुमान इससे लगाया जा सकता है कि सबसे अधिक कोरोना मामलों वाले 20 देशों में सिर्फ तीन देश पाकिस्तान, मेक्सिको और बांग्लादेश इससे पीछे हैं।

कोरोना जाँच की दर

टाइम्स आफ इंडिया में छपी रिपोर्ट के मुताबिक़ भारत में प्रति दस लाख की जनसंख्या पर 18,000 लोगों की कोरोना जाँच की जा गई है। यह ब्रिटेन, अमेरिका और रूस की तुलना में बहुत ही कम है। ब्रिटेन में प्रति दस लाख जनसंख्या पर 2.70 लाख की जाँच हुई है। 
अमेरिका में प्रति 5 व्यक्ति पर एक की जाँच हुई है यानी प्रति दस लाख लोगों पर दो लाख लोगों का टेस्ट किया गया है। भारत में प्रति 50 आदमी पर एक की जाँच हुई है। यानी अमेरिका मे कोरोना जाँच की जो रफ़्तार है, भारत में उसके पाँचवे हिस्से की ही जाँच हो रही है।
बड़े 20 देशों से तुलना करने पर पाया गया है कि उनके औसत से बहुत पीछे भारत का औसत है। इन देशों में प्रति दस लाख लोगों पर 62 हज़ार लोगों की कोरोना जाँच हुई है, पर भारत में वह दर 18 हज़ार है यानी, एक तिहाई से भी कम।

ब्रिटेन में 15 गुणे ज़्यादा जाँच

टाइम्स आफ इंडिया में छपे एक अध्ययन से साफ़ पता चलता है कि भारत में प्रति दस लाख लोगों पर जितने लोगों की जाँच की गई है, ब्रिटेन में उससे 15.2 गुणे अधिक जाँच हुई है। अमेरिका, रूस, फ्रांस जैसे विकसित और बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं वाले देशों की बात हम न करें तो सऊदी अरब में भी भारत की तुलना में 6 गुणे अधिक टेस्ट हुए हैं। 
और तो और, लातिन अमेरिकी देश चिली में भारत की तुलना में 5.4 गुणे तो पेरू में 4.4 गुण अधिक टेस्ट हुए हैं। इस मामले में ब्राज़ील, तर्की, अर्जेंटीना तो छोड़िए, ईरान तक में भारत से अधिक कोरोना टेस्ट हुए हैं।

22 लाख संक्रमित

भारत में इतने कम लोगों की जाँच होने के बावजूद अब तक 22.68 लाख लोगों में कोरोना का संक्रमण पाया जा चुका है। बीते 24 घंटे में 53,601 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।
स्थिति की गंभीरता का अंदाज इससे लगाया जा सकता है कि बीते रविवार को पूरी दुनिया में जितने कोरोना मामले सामने आए, उनका 29 प्रतिशत सिर्फ भारत से था। जितने लोग इस रोग से मारे गए, उसका 21 प्रतिशत लोग भारत से थे।

अगस्त में भारत में सबसे तेज़ रफ़्तार

इसे एक और संख्या से देखते तो हैं तो अधिक भयानक तसवीर उभर कर सामने आती है। इस महीने यानी अगस्त के पहले के 9 दिनों में भारत में कुल 5,19,351 नए लोग कोरोना से संक्रमित निकले। इस दौरान अमेरिका में 4,93,376 और ब्राजील में 3,69,284 लोगों में कोरोना पाया गया। यानी, इन 9 दिनों में सबसे ज्यादा कोरोना मामले भारत में पाए गए, अमेरिका और ब्राज़ील से ज़्यादा। अब भारत में कोरोना से होने वाली मौतों पर एक नज़र डालते हैं। सोमवार यानी 10 अगस्त तक भारत में कोरोना से मरने वालों की तादाद 45 हज़ार पार कर चुकी थी।

एमआईटी की भविष्यवाणी सच होगी?

ऐसे में कुछ दिन पहले अमेरिकी संस्थान मैसाच्युसेट्स इंस्टीच्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी ने जो शोध नतीजे दिए, उस ओर लोगों का ध्यान जाता है। मैसाचुसेट्स इंस्टीच्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी ने चेतावनी दी है कि यदि समय रहते टीका या दवा की इजाद नहीं की गई तो भारत की स्थिति सबसे बुरी होगी और यहाँ संक्रमितों की तादाद 2.87 लाख प्रतिदिन हो सकती है।
एमआईटी के स्लोअन स्कूल ऑफ़ मैनेजमेंट ने कोरोना संक्रमण के फैलने पर एक शोध किया है। हाज़िर रहमानदाद, टी. वाई. लिम और जॉन स्टर्मन की टीम ने शोध में पाया कि जाड़े के अंत तक 2021 में भारत में कोरोना रोगियों की संख्या सबसे अधिक हो सकती है।
तो क्या भारत वाकई उसी दिशा में बढ़ रहा है?

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें