loader

आख़िर कांवड़ यात्रा क्यों कराना चाहते हैं सीएम योगी आदित्यनाथ?

कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर की आशंका के बीच क्या कांवड़ यात्रा कराई जानी चाहिए। जिस उत्तराखंड में लगभग 3 करोड़ कांवड़िए जल लेने जाते हैं, वहां के मुख्यमंत्री ने कांवड़ यात्रा कराने से इनकार कर दिया है लेकिन पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हर हाल में कांवड़ा यात्रा कराना चाहते हैं। 

कांवड़ यात्रा के दौरान उत्तर प्रदेश, हरियाणा के कई इलाक़ों से कांवड़िए जल लेने हरिद्वार और दूसरी जगहों पर आते हैं और वापस अपने शहरों में पहुंचकर भगवान शिव का जलाभिषेक करते हैं।

कांवड़ यात्रा हर साल होती है और इससे किसी को कोई दिक्कत नहीं है। लेकिन बीते दो साल से देश कोरोना संक्रमण की मार से जूझ रहा है। सरकार, डॉक्टर्स, एक्सपर्ट्स सभी ने ताक़त झोंकी हुई है कि किसी भी तरह संक्रमण के मामलों को शून्य के स्तर तक लाया जाए और यह तब होगा जब भीड़-भाड़ वाले आयोजन नहीं होंगे। 

ताज़ा ख़बरें

सुप्रीम कोर्ट ने लिया संज्ञान

कांवड़ यात्रा में आने वाले कांवड़ियों की संख्या जब 3 करोड़ के आसपास है तो ऐसे वक़्त में कैसे इसकी इजाजत दी जा सकती है। जैसे ही उत्तर प्रदेश सरकार ने कांवड़ यात्रा को हरी झंडी दी, सुप्रीम कोर्ट ने स्वत: संज्ञान लिया और केंद्र, उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड सरकार को नोटिस जारी कर दिया और साथ ही उत्तर प्रदेश सरकार से यह भी पूछा कि उसने कोरोना के वक़्त में कांवड़ यात्रा कराने के लिए हां क्यों की है। 

सवाल यह है कि एक ओर जब पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा है कि बाज़ारों और पर्यटन स्थलों पर बिना मास्क लगाए लोगों की तसवीरें चिंता का कारण हैं और सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन नहीं होना गंभीर विषय है तो ऐसे में उत्तर प्रदेश सरकार को कांवड़ यात्रा कराने के लिए जिद क्यों करनी चाहिए।

नज़दीक हैं विधानसभा चुनाव 

उत्तर प्रदेश में सात महीने बाद विधानसभा के चुनाव होने हैं और कांवड़ यात्रा में हिंदू नौजवानों के विशेष उत्साह को देखते हुए योगी आदित्यनाथ इस यात्रा को रद्द कर उनकी नाराज़गी को मोल लेना नहीं चाहते। पिछले साढ़े चार साल में योगी आदित्यनाथ हिंदुत्व की राजनीति के नए ब्रांड बनकर उभरे हैं और बीते कुछ महीनों में उत्तर प्रदेश की राजनीति में जो खटपट हुई थी, उसने उनकी छवि को और मजबूत किया है। 

देश से और ख़बरें

नहीं झुके योगी!

योगी के बारे में कहा जा रहा है कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित बीजेपी आलाकमान के सामने भी नहीं झुके। योगी आदित्यनाथ को कट्टर हिंदुत्व की राजनीति करने के लिए जाना जाता है हालांकि मुख्यमंत्री बनने के बाद उन्होंने कई बार प्रदेश के हर व्यक्ति के सम्मान, सुरक्षा और विकास की बात कही है। 

बीजेपी शासित राज्यों में योगी आदित्यनाथ सबसे चर्चित मुख्यमंंत्री हैं और 2022 के चुनाव में बीजेपी को अपने चेहरे पर जीत दिलाने की सियासी ख़्वाहिश रखते हैं।

कांवड़ यात्रा का प्रचार 

कांवड़िए जिस तरह कई किमी. लंबी पैदल यात्रा करते हैं, वह सोशल मीडिया, टीवी, अख़बारों में काफी चर्चित होती है। हिंदुत्व की राजनीति करने वाले राजनीतिक फ़ायदे के लिए इसका विशेष रूप से प्रचार करते हैं और निश्चित रूप से इससे उन्हें फ़ायदा भी मिलता है। इस दौरान कई जगहों पर कांवड़ियों के लिए खाने, आराम करने के पंडाल भी लगाए जाते हैं। 

यहां याद दिलाना होगा कि कुछ साल पहले कांवड़ियों पर हेलीकॉप्टर से फूल बरसाए गए थे और यह सब यही दिखाने के लिए किया गया था कि योगी आदित्यनाथ के प्रदेश में कांवड़ यात्रा पूरी शान के साथ हो रही है।

छवि पर पड़ेगा असर! 

अगर उत्तर प्रदेश में चुनाव से कुछ महीने पहले यह यात्रा नहीं होगी तो निश्चित रूप से योगी आदित्यनाथ की मज़बूत नेता वाली छवि पर असर पड़ेगा और यह कहा जाएगा कि वह इस यात्रा को नहीं करवा पाए। 

इसलिए योगी सरकार हर हाल में यात्रा कराना चाहती है लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इस पर अपनी नज़र टेढ़ी कर दी है। देखना होगा कि सुप्रीम कोर्ट इस बारे में क्या फ़ैसला लेता है। लेकिन यह साफ है कि योगी आदित्यनाथ अपनी फ़ायर ब्रांड हिंदुत्व नेता वाली छवि को बनाए रखने के लिए इस यात्रा का आयोजन कराना चाहते हैं और चुनाव तो इसके पीछे एक वजह है ही। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें