loader

प्रेमचंद 140 : 16वीं कड़ी : क्या प्रेमचंद साहित्य में कोरा आदर्शवाद है?

प्रेमचंद ने अपनी रचनाओं के माध्यम से यह चुनौती दी हम सबको: यह तुम हो सकते हो, क्या ऐसा होने की इच्छा और बल जुटाओगे? ऐसा नहीं कि मनुष्य और मानवीय जीवन और समाज की क्षुद्रताओं से उनकी कलम अपरिचित है या उनसे आँख चुराती है, लेकिन वह हमेशा ही उनका अतिक्रमण करने का एक मौक़ा मुहैया कराती है। वह मनुष्यता को कभी निरुपाय नहीं छोड़ती।

अपूर्वानंद

'सुनते तो हैं कि पाठक समुदाय में प्रेमचंद की कृतियाँअभी भी बड़ी लोकप्रिय हैं, पर जहाँँतक प्रबुद्ध पाठक का सवाल है, क्या प्रेमचंद की कृतियाँँउसे छूती भी नहीं हैं? क्या उनका स्पंदन ठंडा पड़ गया है, वे कहीं उद्वेलित नहीं करतीं न उत्प्रेरित करती हैं?...कुछ दोस्तों का कहना है कि प्रेमचंद का शिल्प और शैली बहुत पुराने हैं। कहानी आज बहुत विकसित हो चुकी है।'

प्रेमचंद जन्मशती वर्ष के मौके पर भीष्म साहनी ने लगता है एक दुखते हुए दिल से ये सवाल पूछे थे। उन्हें लेकर यह संदेह बार बार होता रहा है, खुद उनके प्रशंसकों को भी। क्या है प्रेमचंद में अगर वह कोरा आदर्शवाद नहीं है? उन्हें पढ़ें कैसे, यह ऐसी समस्या है, जिसपर उनके समकालीनों से लेकर आज तक सक्रिय रचनाकार विचार करते रहे हैं।
साहित्य से और खबरें

ज़िंदगी की तड़प 

फ़िराक गोरखपुरी अपनी तरुणावस्था से प्रेमचंद के मित्र बन गए थे। अंग्रेज़ी के उस्ताद का ओहदा उन्हें बाद में मिलने वाला था। उस वक़्त तो वे तालिबे इल्म ही थे। लेकिन शायर थे और प्रेमचंद ने उनमें एक फलसफाना रुझान नोट कर लिया था। फ़िराक बहुपठित थे। यूरोपीय साहित्य के अलावा भारतीय साहित्य से, खासकर बांग्ला साहित्य से उनकी अच्छी वाकफ़ियत थी। प्रेमचंद से अपनी दोस्ती के अलावा उनकी रचनाओं पर वे जो लिखते हैं उससे शायद हमें प्रेमचंद को पढ़ने का तरीका मिल सके: 

'यदि हम प्रेमचंदजी के बारे में यह कहें कि उनकी कलम जादू का सा काम करती थी तो यह उनके सम्बन्ध में कोई बड़ी बात न होगी। उनके प्रत्येक पृष्ठ में सभ्यता के प्रवर्तकों के पहले कदमों की चाप सुनाई देती है।'

यह गौरव बहुत कम रचनाकारों को मिलता है। उनमें वाग्विदग्धता और कला चातुर्य तो हो सकता है, लेकिन क्या वे ‘सामूहिक जीवन के समस्त अमर, स्थायी और दृढ अंगों में फिर से नवीन जीवन का संचार’ भी कर पाते हैं? फ़िराक अपने अध्ययन की विशालता के अधिकार के साथ आगे लिखते हैं, 

'इस तरह की कोई चीज़ बंकिमचन्द्र चटर्जी, रवीन्द्रनाथ टैगोर, शरदचन्द्र चट्टोपाध्याय ...ने भी दुनिया के सामने पेश नहीं की। यद्यपि उक्त लेखकों के उपन्यासों और कहानियों में बहुत अधिक गंभीरता और शक्ति है, लेकिन फिर भी अधिकतर वे मानसिक भावों की सूचक हैं और प्रायः अपनी आवश्यकता से अधिक सतर्कता के कारण वे गद्य कथानकों का सच्चा आदर्श नहीं हो सकतीं...'

फ़िराक के मुताबिक़, प्रेमचंद इन सबसे ऊपर इसलिए हैं कि 

'...उनमें साहत्यिक विशेषताओं के साथ ही साथ सर्वव्यापकता, विस्तार, तथ्य, आवेश और दृढ़ता सभी कुछ वर्तमान है। वह मानसिक भावों को उपस्थित करते समय बाल की खाल नहीं निकालते थे लेकिन उनके गद्य में ज़िंदगी की तड़प मौजूद है।'

‘साहित्य की सूक्ष्म आत्मा और रंगीनी, वास्तविकता की झलक, सूक्ष्म अनुभूतियों की अभिव्यक्ति और वह वसी तासीर’ जो प्रेमचंद में मिलती है वह शायद ही कहीं और दिखलाई पड़ती है। 

उनकी ‘अनुपम वर्णनात्मक लेख-शैली’ ‘फ्रांसीसी गद्य को ऊपरी तड़क-भड़क और आवश्यकता से अधिक जँचा-तुलापन और जर्मन गद्य की कृत्रिमता तथा उलझनवाली वर्णन शैली से बिलकुल रहित है।’ बांग्ला, फ्रांसीसी, जर्मन और अन्य भाषाओं के साहित्य को लेकर फ़िराक से बहस की जा सकती है लेकिन प्रेमचंद के बारे में उनके जो ख्याल हैं, उनसे इत्तफाक न रख पाना किसी भी सहृदय पाठक के लिए कठिन है। 

असीम करुणा और असीम ज्वाला 

फ़िराक की हमवतन यानी एक दूसरी इलाहाबादी महादेवी वर्मा प्रेमचंद के बारे में पूछती हैं, 

'लेखनी वह कैसी है?...ज्वाला में डूबी हुई है या गंगाजल में डूबी हुई है या दोनों में मिलाकर कैसे डूबती है?...

जैसे बादल जो जल से भरा रहता है, वही बिजली संभालता है। जिसके पास असीम करुणा होगी उसके पास असीम ज्वाला होगी।'

प्रेमचंद को लेकर बाहरी जगत और भीतरी जगत के द्वंद्व और उसमें प्रेमचंद के सतह पर अटके रह जाने की आह उनके पैरोकारों के मन में भी उठती है। वे समाज की हलचल तो दिखलाते हैं, लेकिन व्यक्ति के अंतर्मन को झलक नहीं देते, यह शिकायत प्रेमचंद से अक्सर की जाती है। महादेवी की अंतर्दृष्टि इस प्रसंग में अचूक है, 

'जो प्रेमचंद ने दी है वह वास्तव में जीवन की ऐसी झाँकी है जिसमें अंतर्जगत भी बहिर्जगत से मिल जाता है। जिसमें घटना भी है और घटना के भीतर मनोविज्ञान भी है, जो अंतर्जगत है, वह भी मिल जाता है..’

महादेवी उनका ऋण स्वीकार करती हैं एक कवि के रूप में: 

'प्रेमचन्दजी ने मेरी करुणा को बड़ा बल दिया है और उस बल को साधना एक बड़ा वरदान उनका मानती हूँ।'

'एक ऐसा व्यक्ति जो नितांत निश्छल है, जिसका ह्रदय इतना स्वच्छ है कि आर पार देख सकते हैं।..., ऐसा व्यक्ति जिसमें युग का बोध हो और जिसमें युगातीत बोध भी हो...अपने युग के पार देख लेना कि एक युग ऐसा आएगा जब मनुष्य ऐसा हो चुका होगा।'

मनुष्य की गरिमा के प्रति, उसके कल्याण के प्रति अटूट निष्ठा और एक अदम्य आस्था शुभ और शिव को चरितार्थ करने की मानवीय क्षमता में। या यह कह सकते हैं कि प्रेमचंद ने अपनी रचनाओं के माध्यम से यह चुनौती दी हम सबको: यह तुम हो सकते हो, क्या ऐसा होने की इच्छा और बल जुटाओगे?
ऐसा नहीं कि मनुष्य और मानवीय जीवन और समाज की क्षुद्रताओं से उनकी कलम अपरिचित है या उनसे आँख चुराती है, लेकिन वह हमेशा ही उनका अतिक्रमण करने का एक मौक़ा मुहैया कराती है। वह मनुष्यता को कभी निरुपाय नहीं छोड़ती।
तुर्की में हाया सोफिया को जब मसजिद में तब्दील कर इसलाम की प्रतिष्ठा का ऐलान किया जा रहा था, कतई इत्तेफाक था कि मैं ‘मानसरोवर’ के पहले खंड में संकलित कहानी ‘दिल की रानी’ पढ़ रहा था। हाया सोफिया जो कभी मूर्ति पूजकों का उपासनास्थल था, फिर गिरिजाघर और फिर वहाँ नक्श बुतों और तस्वीरों को पोशीदा करके जिसे मसजिद में तब्दील कर दिया गया।
कमाल अतातुर्क ने इतिहास की इन परतों को पलट कर देखते हुए इंसानी हिमाकत पर विचार करने के लिए, इस हिमाकत पर कि एक की पवित्रता दूसरे की पवित्रता को कुचलना कैसे अपना हक मानती है, उसे एक संग्रहालय में बदल दिया। लेकिन इतिहास इससे उदासीन चलता जाता है, कुछ हँसते और कुछ रोते हुए इन्सान की धृष्टता पर। यह धृष्टता जिसके लिए पवित्र, पाक से वफ़ादारी दरअसल अपना दुनियावी दबदबा कायम करने का बहाना है।
‘दिल की रानी’ तातारी तैमूर के तुर्की पर हमले और उसकी फ़तह के वर्णन से शुरू होती है। अनुरोध है कि इसका एक भी लफ्ज़ न गँवाइए:

'जिन वीर तुर्कों के प्रखर प्रताप से ईसाई-दुनिया काँप रही थी, उन्हीं का रक्त आज कुस्तुन्तुनिया की गलियों में बह रहा है। वही कुस्तुन्तुनिया जो सौ साल पहले तुर्कों के आतंक से आहत हो रहा था, आज उनके गर्म रक्त से अपना कलेजा ठंडा कर रहा है। और तुर्की सेनापति एक लाख सिपाहियों के साथ तैमूरी तेज के सामने अपनी किस्मत का फ़ैसला सुनने के लिये खड़ा है।'  

इस छोटे से हिस्से में युद्ध, मनुष्य के वर्चस्व के अहंकार की व्यर्थता और उसकी विजय की दयनीय क्षणिकता सब पर टिप्पणी कर दी गई है। व्यंग्य परिस्थिति के अनुकूल शांत है, बल्कि विडंबना का भाव उभर आता है। 

सभ्यता की सनद 

तैमूर मानता है कि वह धर्म की प्रतिष्ठा करने के लिए युद्ध कर रहा है। वह विलासिता में डूबे धर्म से विमुख हो चुके तुर्कों को परास्त कर सच्चा इसलाम  स्थापित करने का पाक फ़र्ज अदा कर रहा है, 

'तैमूर ने विजय से भरी आँखें उठाईं और सेनापति यजदानी की ओर देख कर सिंह के समान गरजा - क्या चाहते हो ज़िन्दगी या मौत?

यजदानी ने गर्व से सिर उठाकर कहा’- इज्ज़त की ज़िन्दगी मिले तो ज़िन्दगी, वरना मौत।'

तैमूर का क्रोध प्रचण्ड हो उठा, उसने बड़े-बड़े अभिमानियों का सिर नीचा कर दिया था। यह जवाब इस अवसर पर सुनने की उसे ताव न थी। इन एक लाख आदमियों की जान उसकी मुठठी में है। इन्हें वह एक क्षण में मसल सकता है। उस पर इतना अभिमान। इज्ज़त की ज़िंदगी। इसका यही तो अर्थ है कि ग़रीबों का जीवन अमीरों के भोग-विलास पर बलिदान किया जाए वही शराब की मजलिसें, वही अरमीनिया और काफ की परियाँ। नहीं, तैमूर ने ख़लीफ़ा बायजीद का घमंड इसलिए नहीं तोड़ा है कि तुर्को को फिर उसी मदांध स्वाधीनता में इसलाम का नाम डुबाने को छोड दे। तब उसे इतना रक्त बहाने की क्या ज़रूरत थी। मानव-रक्त का प्रवाह संगीत का प्रवाह नहीं, रस का प्रवाह नहीं-एक बीभत्स दृश्य है, जिसे देखकर आँखें मु‍ँह फेर लेती हैं दृश्य सिर झुका लेता है। तैमूर हिंसक पशु नहीं है, जो यह दृश्य देखने के लिए अपने जीवन की बाजी लगा दे।

वह अपने शब्दों में धिक्का्र भरकर बोला - जिसे तुम इज्ज़त की ज़िन्दगी कहते हो, वह ग़ुनाह और जहन्नुम की ज़िन्दगी है।'

तैमूर हिंसा हिंसा के लिए नहीं करता। उसकी हिंसा जायज़ और न्यायप्रिय है, एक मक़सद के लिए है, ऐसा उसका खयाल है। उसकी धार्मिकता शुष्क है। लेकिन बंदी सेनापति यजदानी इसका उत्तर देता है:

'जहाँपनाह इस वक़्त फतहमंद हैं, लेकिन अपराध क्षमा हो तो कह दूँ कि अपने जीवन के विषय में तुर्को को तातरियों से उपदेश लेने की ज़रूरत नहीं। पर जहाँ खुदा ने नेमतों की वर्षा की हो, वहाँ उन नेमतों का भोग न करना नाशुक्री है। अगर तलवार ही सभ्‍यता की सनद होती, तो गाल कौम रोमनों से कहीं ज्‍यादा सभ्‍य होती।'

तलवार सभ्यता की सनद नहीं है। बहस आगे चलती है और तैमूर जवाब देता है,

'तुम कहते हो, खुदा ने तुम्‍हें ऐश करने के लिए पैदा किया है। मैं कहता हूँ,, यह कुफ़्र है। खुदा ने इन्‍सान को बन्‍दगी के लिए पैदा किया है और इसके ख़िलाफ़ जो कोई कुछ करता है, वह काफ़िर है, जहन्‍नुमी है। रसूलेपाक हमारी ज़िन्‍दगी को पाक करने के लिए, हमें सच्‍चा इन्‍सान बनाने के लिए आये थे, हमें हराम की तालीम देने नहीं। तैमूर दुनिया को इस कुफ़्र से पाक कर देने का बीड़ा उठा चुका है। रसूलेपाक के कदमों की कसम, मैं बेरहम नहीं हूँ, जालिम नहीं हूँ, खूँखार नहीं हूँ, लेकिन कुफ्र की सजा मेरे ईमान में मौत के सिवा कुछ नहीं है।  

हिंसा के प्रवाह पर रोक 

अगर आपको ‘शतरंज के खिलाड़ी’ फ़िल्म की और उस पर हुई बहस की याद हो तो आप इस बहस को उससे जोड़ पाएँगे। प्रेमचंद ने वाजिद अली शाह के शासन का चित्रण करते समय किंचित्त् रुखाई बरती। सत्यजित रे का विचार अलग था। वाजिद अली शाह के प्रति उनकी सहानुभूति उसके कलाप्रिय होने के कारण थी। इसलिए फिल्म में उन्होंने बादशाह का चित्रण प्रेमचंद से अलग किया उसके प्रति सकारात्मक रुख अपनाते हुए।
तैमूर और यजदानी की इस बहस में हसतक्षेप करता है यजदानी के ठीक पीछे खड़ा एक सुदर्शन युवक:

'तू इन मुसलमानों को काफ़िर कहता है और समझता है कि तू इन्‍हें क़त्‍ल करके खुदा और इसलाम की ख़िदमत कर रहा है? मैं तुमसे पूछता हूँ, अगर वे लोग जो खुदा के सिवा और किसी के सामने सिजदा नहीं करतें, जो रसूलेपाक को अपना रहबर समझते हैं, मुसलमान नहीं हैं तो कौन मुसलमान हैं? मैं कहता हूँ, हम काफ़िर सही, लेकिन तेरे ...खुदा ने अगर तुझे ताक़त दी है, अख्तियार दिया है तो क्‍या इसीलिए कि तू खुदा के बन्‍दों का ख़ून बहाए? क्‍या गुनाहगारों को क़त्‍ल करके तू उन्‍हें सीधे रास्‍ते पर ले जाएगा? तूने कितनी बेहरमी से सत्‍तर हजार बहादुर तुर्को को धोखा देकर सुरंग से उड़वा दिया और उनके मासूम बच्‍चों और निपराध स्‍त्रियों को अनाथ कर दिया, तुझे कुछ अनुमान है। क्‍या यही कारनामे हैं, जिन पर तू अपने मुसलमान होने का गर्व करता है। क्‍या इसी क़त्‍ल, खून और बहते दरिया में अपने घोडों के सुम नहीं भिगोए हैं, बल्कि इसलाम को जड़ से खोदकर फ़ेंक दिया है। यह वीर तुर्को का ही आत्‍मोत्‍सर्ग है, जिसने यूरोप में इसलाम की तौहीद फैलाई। आज सोफिया के गिरजे में तुझे अल्‍लाह-अकबर की सदा सुनाई दे रही है, सारा यूरोप इसलाम का स्‍वागत करने को तैयार है। क्‍या यह कारनामे इसी लायक हैं कि उनका यह इनाम मिले? इस खयाल को दिल से निकाल दे कि तू खूरेजी से इसलाम की खिदमत कर रहा है। एक दिन तुझे भी परवरदिगार के सामने कर्मो का जवाब देना पड़ेगा और तेरा कोई उज्र न सुना जाएगा, क्‍योंकि अगर तुझमें अब भी नेक और बद की तमीज़ बाकी है, तो अपने दिल से पूछ। तूने यह जिहाद खुदा की राह में किया या अपनी हविस के लिए और मैं जानता हूँ, तुझे जो जवाब मिलेगा, वह तेरी गर्दन शर्म से झुका देगा।'
यह ओजपूर्ण वक्तृता मात्र जिहाद के नाम पर खूँरेजी की भर्त्सना नहीं है, बल्कि वह उस धोखे पर उँगली रखती है धर्म के नाम पर हिंसा करनेवालों के दावों में छिपा है। दूसरों को क़त्ल करने या उन्हें बेइज्जत करने वाली हिंसा को जिहाद कहनेवाले जानते हैं कि वे यह अपनी हविस के लिए कर रहे हैं, धर्म की प्रतिष्ठा के लिए नहीं।

प्रेमचंद की शैली पर लोक कथाओं का प्रभाव नोट किया गया है। किस्सागोई का भी।

विजयी तैमूर इस नौजवान की हिमाकत पर उसकी गर्दन उड़ा दे सकता था, लेकिन तब किस्सा कैसे बनता और बढ़ता?

'तैमूर उस युवक के चेहरे की तरफ स्थिर नेत्रों से देख रहा था। आज जीवन में पहली बार उसे निर्भीक शब्‍दों के सुनने का अवसर मिला। ...उसके खुशामदों ने उसकी अहम्‍न्‍यता को आसमान पर चढ़ा दिया था। उसे विश्‍वास हो गया था कि खुदा ने इसलाम को जगाने और सुधारने के लिए ही उसे दुनिया में भेजा है। उसने पैगम्‍बरी का दावा तो नहीं किया, पर उसके मन में यह भावना दृढ़ हो गई थी, इसलिए जब आज एक युवक ने प्राणों का मोह छोडकर उसकी कीर्ति का परदा खोल दिया, तो उसकी चेतना जैसे जाग उठी। उसके मन में क्रोध और हिंसा की जगह श्रद्धा का उदय हुआ। उसकी आँखों का एक इशारा इस युवक की ज़िन्‍दगी का चिराग गुल कर सकता था। उसकी संसार विजयिनी शक्ति के सामने यह दुधमुँहा बालक मानो  अपने नन्‍हे-नन्‍हे हाथों से समुद्र के प्रवाह को रोकने के लिए खड़ा हो।'

साहस और सत्य का आकर्षण 

इसके बाद साहस, सत्य और उसके आकर्षण पर ठेठ प्रेमचंदी दर्शन:

'कितना हास्‍यास्‍पद साहस था, उसके साथ ही कितना आत्‍मविश्‍वास से भरा हुआ। तैमूर को ऐसा जान पड़ा कि इस निहत्‍थे बालक के सामने वह कितना निर्बल है। मनुष्‍य मे ऐसे साहस का एक ही स्रोत हो सकता है और वह सत्‍य पर अटल विश्‍वास है। उसकी आत्‍मा दौडकर उस युवक के दामन में चिपट जाने ‍के लिए अधीर हो गई। वह दार्शनिक न था, जो सत्‍य में शंका करता है वह सरल सैनिक था, जो असत्‍य को भी विश्‍वास के साथ सत्‍य बना देता है।

साहस की अभिव्यक्ति सुरक्षा के आश्वासन के साये में नहीं होती। बहरहाल! तैमूर यजदानी के बेटे हबीब को अपना वज़ीर बनाकर अपने साथ ले जाना चाहता है। इस पूरे प्रसंग को भी फलाँग न जाइए भले ही वह यहाँ उद्धृत नहीं किया जा रहा। और इसकी वजह यह है कि हड़बड़ी में आप ऐसे नगीनों से वंचित रह जाएँगे जिनके बिना प्रेमचंद की कथा भाषा को समझा ही नहीं जा सकता।

'मूसा आग लेने गये थे, पैगम्‍बरी मिल गई।' 

भाषा किस तरह संस्कृति की स्मृतियों से बनती है, यह इस तरह के वाक्यों से समझा जा सकता है। और ऐसे वाक्य प्रेमचंद में बिख्ररे हुए हैं।

यजदानी का परिवार तैमूर के प्रस्ताव पर दुविधा में है। पहली वजह तो यह कि हबीब लड़का नहीं, लड़की है। यजदानी शुरू से मुसलमान न था। आतिशपरस्त था। माँ-बाप के धर्म परिवर्तन के साथ ही बेटी ने उनका रास्ता नहीं अपना लिया था। जिस विचार स्वातंत्र्य की बहस हम 'नबी का नीति निर्वाह' में सुन चुके हैं, वह यहाँ भी है। प्रेमचंद सिर्फ किस्सा नहीं सुना रहे, जीने का रास्ता भी सुझा रहे हैं, 

'हबीब यजदानी का लड़का नहीं लड़की थी। उसका नाम उम्‍मतुल हबीब था। जिस वक़्त यजदानी और उसकी पत्‍नी मुसलमान हुए, तो लड़की की उम्र कुल बारह साल की थी, पर प्रकृति ने उसे बुद्धि और प्रतिभा के साथ विचार-स्‍वातंत्र्य भी प्रदान किया था। वह जब तक सत्‍यासत्‍य की परीक्षा न कर लेती, कोई बात स्‍वीकार न करती। माँ-बाप के धर्म-परिवर्तन से उसे अशांति तो हुई, पर जब तक इसलामम की दीक्षा न ले सकती थी। माँ-बाप भी उस पर किसी तरह का दबाव न डालना चाहते थे। जैसे उन्‍हें अपने धर्म को बदल देने का अधिकार है, वैसे ही उसे अपने धर्म पर आरूढ़ रहने का भी अधिकार है। लड़की को संतोष हुआ, लेकिन उसने इसलाम और जरथुश्‍त धर्म - दोनों ही का तुलनात्‍मक अध्‍ययन आरंभ किया और पूरे दो साल के अन्‍वेषण और परीक्षण के बाद उसने भी इसलाम  की दीक्षा ले ली। माता-पिता फूले न समाए। लड़की उनके दबाव से मुसलमान नहीं हुई है, बल्कि स्‍वेच्‍छा से, स्‍वाध्‍याय से और ईमान से। दो साल तक उन्‍हें जो शंका घेरे रहती थी,, वह मिट गई।'

बहस इसपर नहीं है कि इसलाम  श्रेष्ठ है या नहीं, कोई भी मत बिना परीक्षा के नहीं अपनाया जा सकता।माँ-बाप की आशंका और असमंजस के बावजूद हबीब तैमूर का प्रस्ताव कबूल करके उसके साथ जाने का जोखिम लेती है। यह इसलिए कि उसे यकीन है कि अब तक तैमूर ग़लत राह पर था, लेकिन वह उसे रास्ता बदलने को प्रेरित कर सकती है, 

'मुझे यकीन है कि अमीन तैमूर को मैं अपनी दियानत, बेगरजी और सच्‍ची वफादारी से इन्‍सान बना सकती हूँ और शायद उसके हाथों खुदा के बंदों का खून इतनी कसरत से न बहे। वह दिलेर है, मगर बेरहम नहीं। कोई दिलेर आदमी बेरहम नहीं हो सकता। उसने अब तक जो कुछ किया है, मजहब के अंधे जोश में किया है। आज खुदा ने मुझे वह मौका दिया है कि मै उसे दिखा दूँ कि मजहब खिदमत का नाम है, लूट और क़त्‍ल का नहीं।' 
दियानत, बेगरजी और सच्ची वफ़ादारी के रास्ते इंसानियत; दिलेरी और रहम; मजहब और खिदमत का रिश्ता! अभी भी, बल्कि अभी और ज्यादा इस सबक को दुहराने की ज़रूरत है।

राह में खुशबू फैलाती शख्सियत 

हबीब तैमूर के साथ चल पड़ता है। तैमूर अब उसका सबसे बड़ा खैरख्वाह है, और उसकी वजह वह बयान करता है,

'तुम जिधर से निकलते हो, मुहब्‍बत और रोशनी फैला देते हो। जिसको तुम्‍हारा दुश्‍मन होना चाहिए,वह तुम्‍हारा दोस्‍त है। मैं जिधर से निकलता नफरत और शुबहा फैलाता हुआ निकलता हूँ। जिसे मेरा दोस्‍त होना चाहिए वह भी मेरा दुश्‍मन है।'

ऐसी शख्सियत जिसके जाने के बाद राह में खुशबू रह जाए और दूसरी जो कटुता ही पैदा करे। प्रेमचंद का वक़्त ऐसी शख्सियतों का वक्त था, गांधी उनमें सबसे बड़ा नाम थे, जैसा जॉर्ज ऑरवेल ने कहा था और वे अंग्रेजों के भी अजीज़ थे। और यही बात अमृता शेरगिल ने नेहरू के बारे में उन्हें लिखे अपने ख़त में कही थी। 

तो जैसा हम पहले कह आए हैं, कहानी किस्सा है, घटनाओं का बयान और विचित्रताएँ वहाँ चाहिए लेकिन एक रौशनी वह देती है जो अपनी ज़िंदगी की राह आसान करने में हमारी मदद करे।

तैमूर के साम्राज्य में बग़ावत होती है जिसे दबाने को बावजूद तैमूर के मना करने के हबीब निकल पड़ता है। इस्तखर आर्मीनियाई ईसाइयों का इलाक़ा है, जिसपर तैमूर की वजह से मुसलमानों का कब्जा है। ईसाइयों पर पाबंदियाँ हैं, वे गिरिजे में घंटा नहीं बजा सकते और उन्हें जज़िया देना पड़ता है। शराब पीने पर भी रोक लगा दी गई है। जब मुसलमानों ने शस्त्र बल से इन्हें लागू करना चाहा तो ईसाइयों ने इनका विरोध किया। मुसलमान सूबेदार क़ैद कर लिया गया और किले पर सलीबी झंडा फहरा दिया गया।
हबीब को इस बग़ावत को कुचलना था। लेकिन जीवन के अपने आदर्शों के कारण उसके मन में दुविधा थी:

'उसका उदार हदय कहता था, ईसाइयों पर इन बंधनों का कोई अर्थ नहीं। हरेक धर्म का समान रूप से आदर होना चाहिए, लेकिन मुसलमान इन कैदों को हटा देने पर कभी राजी न होगें। और यह लोग मान भी जाएँ तो तैमूर क्‍यों मानने लगा। उसके धार्मिक विचारों में कुछ उदारता आई है, फिर भी वह इन कैदों को उठाना कभी मंजूर न करेगा, लेकिन क्‍या वह ईसाइयों को सज़ा दे कि वे अपनी धार्मिक स्‍वाधीनता के लिए लड़ रहे हैं। जिसे वह सत्‍य समझता है, उसकी हत्‍या कैसे करे। नहीं, उसे सत्‍य का पालन करना होगा, चाहे इसका नतीजा कुछ भी हो। अमीन समझेंगे मैं जरूरत से ज्‍यादा बढ़ा जा रहा हूँ। कोई मुजायका नहीं।
दूसरे दिन हबीब ने प्रातः काल डंंके की चोट ऐलान कराया- जज़िया माफ़ किया गया, शराब और घण्‍टों पर कोई क़ैद नहीं है।'

इसलाम पर ईमान ले आई हबीब के लिए उसूल अभी भी वही है, धार्मिक स्वतंत्रता, प्रत्येक धर्म और जीवन शैली का आदर। भारत में यह बहस चल ही रही है और कोई हबीब अब नहीं दीखता। कभी गांधी और नेहरू प्रेमचंद के इस पात्र की जुबान बोल रहे थे: हिंदुओं की जीवन शैली भारत में रहनेवाले सब धर्मालंबियों की नहीं हो सकती। 

ईमान का उसूल 

वज़ीर के इस फ़ैसले से मुसलमानों में तहलका मच गया। हबीब को न रोका गया तो इसलाम की जड़ खुद जाएगी। अब वे वज़ीर के ख़िलाफ़ बगावत कर देते हैं, शाही फ़ौज भी अपने पाशा के ख़िलाफ़ हथियार उठा लेती है। हबीब किले में क़ैद है और उसे मुसलमानों ने घेर रखा है।

खबर तैमूर तक लेकर लेकर कासिद पहुँचता है। यह सुनकर कि हबीब ने जज़िया माफ़ कर दिया, गिरिजों पर घंटे की इजाज़त दे दी और शराब पर पाबंदी हटा दी, तैमूर एक पल तो सोचता है लेकिन उसकी प्रतिक्रिया हबीब जैसी ही है:

....बेशक जज़िया मुआफ़ होना चाहिए। मुझे मजाज [भ्रम] नहीं कि दूसरे मजहब वालों से उनके ईमान का तावान लूँ। कोई मजाज नहीं है, अगर मसजिद में अजान होती है, तो कलीसा में घंटा क्‍यों बजे। घंटे की आवाज में कुफ़्र नहीं है। काफ़िर वह है, जो दूसरों का हक़ छीन ले जो ग़रीबों को सताए, दगाबाज हो, खुदगरज हो। काफिर वह नहीं, जो मिटटी या पत्‍थर के एक टुकड़े में खुदा का नूर देखता हो, जो नदियों और पहाड़ों मे, दरख्‍तों और झाडि़यों में खुदा का जलवा पाता हो। यह हमसे और तुझसे ज़्यादा खुदापरस्‍त है, जो मसजिद में खुदा को बंद समझते हैं। ….किसी को काफ़िर समझना ही कुफ़्र है। हम सब खुदा के बंदे हैं, बस। जा और उन बाग़ी मुसलमानों से कह दे, अगर फौरन मुहासरा [घेरा] न उठा लिया गया, तो तैमूर कयामत की तरह आ पहुँचेगा।'
तैमूर खुद फ़ौज लेकर इस्तखर की तरफ कूच करता है। किले से घेरा उठा लिया गया है, लेकिन हबीब को शुबहा है कि कहीं वह हमला करने न आ रहा हो। लेकिन तैमूर सफ़ेद झंडा उड़ाता सुलह के लिए आगे बढ़ता है। हबीब और तैमूर आमने सामने हैं:

'तैमूर ने मुस्‍कराकर पूछा - तुम मुझसे लड़ने को तैयार थे।

हबीब ने शरमाते हुए कहा - हक़ के सामने अमीन तैमूर की भी कोई हकीक़त नहीं।

बेशक-बेशक। तुममें फरिश्‍तों का दिल है, तो शेरों की हिम्‍मत भी है, लेकिन अफ़सोस यही है कि तुमने यह गुमान ही क्‍यों किया कि तैमूर तुम्‍हारे फ़ैसले को मंसूख कर सकता है। यह तुम्‍हारी जात है, जिसने तुझे बतलाया है कि सल्‍तनत किसी आदमी की जायदाद नही बल्कि  एक ऐसा दरख्‍त है, जिसकी हरेक शाख और पत्ती एक-सी खुराक पाती है।

प्रेमचंद की इस बोलती हुई भाषा का स्रोत क्या हो सकता है? हक़ और हकीक़त, फरिश्तों सा दिल और शेरों की हिम्मत! यह कमाल हिंदी से क्यों खोता गया आख़िर!

तैमूर इस इलाक़े पर से अपना कब्जा हटा लेता है, 

'मैं आपकी सल्‍तनत भी आपको वापस करता हूँ क्‍योंकि खुदा की निगाह में सभी इन्‍सान बराबर हैं और किसी कौम या शख़्स को दूसरी कौम पर हुक़ूमत करने का अख्तियार नहीं है। आज से आप अपने बादशाह हैं। मुझे उम्‍मीद है कि आप भी मुस्लिम आबादी को उसके जायज़ हक़ों से महरूम न करेंगे। मगर कभी ऐसा मौका आए कि कोई जाबिर कौम आपकी आज़ादी छीनने की कोशिश करे, तो तैमूर आपकी मदद करने को हमेशा तैयार रहेगा।'

तैमूर की जुबान से गांधी बोल रहे हैं या खुद प्रेमचंद? यह आधुनिक राज्य का सिद्धांत है। किसी को किसी पर हुक़ूमत का अधिकार नहीं और हर आबादी को बराबरी की इज्ज़त से रहने का हक, तादाद उनकी कितनी ही कम क्यों न हो!

क्या यह सब कुछ सिर्फ हमारे कथाकार की कल्पना है? क्या हमें हबीब और तैमूर न चाहिए?      

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
अपूर्वानंद
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

साहित्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें