loader

जजों के लिए सबक़: कश्मीरी राजा और उसका न्याय

मैं इतिहासकार कल्हण द्वारा प्रसिद्ध बारहवीं शताब्दी के संस्कृत ग्रंथ, 'राजतरंगिणी' में सुनाई गई एक ऐतिहासिक घटना का उल्लेख कर रहा हूँ। एक न्यायी राजा के अधीन क़ानून की सर्वोच्चता बरकरार रही और कमज़ोर (मोची) शक्तिशाली (राजा के अधिकारियों) पर हावी रहा। शायद राजा चंद्रपीड का उदाहरण जस्टिस दीपक गुप्ता के मन में चल रही बात को दर्शाता है और यह बताता है कि एक सच्चे न्यायाधीश को कैसा होना चाहिए।
जस्टिस मार्कंडेय काटजू

जस्टिस दीपक गुप्ता, जो हाल ही में सुप्रीम कोर्ट से सेवानिवृत्त हुए हैं, उन्होंने अपने विदाई भाषण में कहा कि भारतीय न्यायिक प्रणाली आज, ग़रीबों के ख़िलाफ़ और अमीरों की पक्षधर हो गयी है। जबकि वास्तव में न्यायिक प्रणाली इसकी उलटी होनी चाहिए ग़रीबों के पक्ष में, क्योंकि सुरक्षा की आवश्यकता ग़रीबों को है अमीरों को नहीं।

इस संबंध में, मैं कश्मीरी इतिहासकार कल्हण द्वारा प्रसिद्ध बारहवीं शताब्दी के संस्कृत ग्रंथ, 'राजतरंगिणी' में सुनाई गई एक ऐतिहासिक घटना का उल्लेख कर रहा हूँ- इसमें बताया गया है कि कैसे एक कश्मीरी राजा चंद्रपीड ने अपने ही अधिकारियों से एक ग़रीब चर्मकार (मोची) की रक्षा की।

ताज़ा ख़बरें

राजा के अधिकारियों ने एक भूमि पर भगवान त्रिभुवनस्वामी का मंदिर बनाने की योजना बनाई थी जिसके एक हिस्से पर मोची की झोपड़ी स्थित थी। अधिकारियों के आदेश के बावजूद मोची ने अपनी झोपड़ी हटाने से इनकार कर दिया। जब अधिकारियों ने राजा को मोची की अशिष्टता की शिकायत की तो उसने झोपड़ी को ढहाने का आदेश देने के बजाय, अधिकारियों को मोची की ज़मीन पर अतिक्रमण करने की कोशिश करने के लिए फटकार लगाई।

राजा ने उनसे कहा:

नियम्यताम् विनिर्माणं यद् अन्यत्र विधीयताम्

परभूमि अपहरण सुकृतं कः कलंकेत

ये द्रष्टारः सदसताम् ते धर्म विनुगणा क्रियाः

वयमेव विदधमश्चेत यातु न्यायेण को अघ्वना

अर्थात:

‘निर्माण बंद करो या कहीं और मंदिर बनाओ!

अवैध रूप से एक व्यक्ति को अपनी भूमि से वंचित कर, कोई भी किस तरह मंदिर निर्माण जैसा पवित्र कार्य कर सकता है?

न्यायाधिपति होते हुए, सही या ग़लत का आधार स्थापित करने वाले, यदि हम ही ग़ैर-क़ानूनी कार्य करेंगे तो फिर क़ानून का पालन कौन करेगा? (राजतरंगिणी, अध्याय 4, पृष्ठ 59-60)

राजा के न्याय की भावना से अभिभूत, मोची ने उनसे मिलने की माँग की और जब उसे राजा के सामने लाया गया तो उसने कहा:

'जो महत्व यह महल आपके लिए रखता है, मेरी कुटिया भी मेरे लिए उतनी ही महत्वपूर्ण है। मैं उसके नष्ट हो जाने का विचार सहन न कर सका। फिर भी यदि आप भूमि मांगेंगे तो मैं आपके सदाचारी व्यवहार के कारण इसे छोड़ दूँगा।'

विचार से ख़ास

तब राजा ने उचित मुआवज़ा देकर उस भूमि को खरीदा

मोची ने फिर हाथ जोड़कर राजा से कहा:

राजधर्म अनुरोधेन पर्वत्ता तयोचिता

स्वस्ति तुभ्यं चिरं स्थेया धर्म्या वृत्तांत पद्धति

दर्शयन् ईदृशीह श्रद्धा श्रद्धेया धर्मचारिणाम

अर्थात:

‘राजधर्म के सिद्धांतों का पालन करते हुए, दूसरों की उन्नति के लिए सोचना, एक राजा के लिए उपयुक्त व्यवहार है। मैं आपके सुखद जीवन की कामना करता हूँ।

आप क़ानून के वर्चस्व बनाए रखते हुए दीर्घायु हों।’ (राजतरंगिणी अध्याय 4, पीपी। 75-77)

इस प्रकार, एक न्यायी राजा के अधीन क़ानून की सर्वोच्चता बरकरार रही और कमज़ोर (मोची) शक्तिशाली (राजा के अधिकारियों) पर हावी रहा।

शायद राजा चंद्रपीड का उदाहरण जस्टिस दीपक गुप्ता के मन में चल रही बात को दर्शाता है और यह बताता है कि एक सच्चे न्यायाधीश को कैसा होना चाहिए।

Satya Hindi Logo सत्य हिंदी सदस्यता योजना जल्दी आने वाली है।
जस्टिस मार्कंडेय काटजू
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें