loader
प्रतीकात्मक तसवीर।फ़ोटो साभार: सीडीसी

हर महामारी में क्यों सक्रिय हो जाते हैं नीम हकीम?

महामारी ऐसा संकटकाल है जिससे हम उम्मीद तो यही करते हैं कि इससे विज्ञान और आधुनिक चिकित्सा पर लोगों का विश्वास बढ़ेगा लेकिन कई बार इसका उलटा होता हुआ भी दिखता है। कई बार अचानक ही वैज्ञानिक सोच अपने ज्ञान की सीमाओं को समझते हुए बेबस खड़ी दिखाई देती है और अवैज्ञानिक सोच हंगामा करने लगती है।

इसे ज़्यादा अच्छी तरह से समझना हो तो हमें 19वीं सदी के अंत में आ धमकने वाले प्लेग को देखना होगा। प्लेग ने जब दस्तक दी और मुंबई के अस्पतालों में बड़ी संख्या में लोग मरने लगे तो लोगों को यह धारणा देने की कोशिशें भी होने लगीं कि अस्पताल में किसी को ले जाने का अर्थ है उसे मौत के मुँह में धकेलना। मरीज़ों को लोग अस्पताल में ले जाने से बचने लगे। अब उनके पास एक ही आसरा था शहर के नीम-हकीम। महामारी में नीम-हकीमों की उन दिनों बन आई थी।

ताज़ा ख़बरें

उन्हीं दिनों मुंबई में एक नाम चर्चा में आया- प्लेग का डाॅक्टर। डाॅक्टर तो वो नहीं ही था, शायद हकीम भी नहीं था। तंतनपुरा की कापस गली में अपना धंधा चलाने वाला यह शख्स ख़ुद को हकीम के बजाए डाॅक्टर कहलाना ही पसंद करता था। उसका कहना था कि शरीर में जहरीले ख़ून की वजह से यह रोग होता है और ख़ून के इस ज़हर को निकाल कर वह मरीज़ को ठीक कर देता है। ख़ून से ज़हर निकालने का उसका तरीक़ा बहुत क्रूर था। वह अपने पास एक बड़े मर्तबान में बहुत सारी जोक रखता था। वह जोक को प्लेग मरीज़ के शरीर में उभरी गाँठों में लगा देता और वे खून चूसतीं। ये गाँठें आमतौर पर प्लेगग्रस्त लोगों की गर्दन के पास होती थीं, कई मामलों में ये जांघों के पास या बगल में भी होती थीं। उसका दावा था कि इससे उसके ज़्यादातर मरीज़ ठीक हो जाते हैं, कुछ जो नहीं ठीक हो पाते वो ऊपर वाले की मर्जी।

मुंबई में जब प्लेग फैला था तो एक समय सामाजिक तनाव इतना ज़्यादा बढ़ गया था कि आर्थर रोड के बाम्बे प्लेग हाॅस्पिटल पर भीड़ ने आकर दंगे तक करने शुरू कर दिए थे। जहाँ एक तरफ़ लोग मरीज़ को इस अस्पताल में लाने से बचते थे वहीं तंतनपुरा के इस डाॅक्टर के यहाँ भीड़ लगी रहती थी। इसकी चर्चा इतनी ज़्यादा बढ़ गई थी कि बाम्बे प्लेग हाॅस्पिटल के चीफ़ मेडिकल ऑफिसर डाॅक्टर नौसरवानजी एच चैकसे पूरा माजरा समझने के लिए ख़ुद तंतनपुरा गए। यह बात अलग है कि इलाज का पूरा तरीक़ा जानने के बाद उन्होंने अपना सर पीट लिया।

लेकिन ऐसे इलाज की बात सिर्फ़ जोक तक ही नहीं रुकी। कुछ लोगों ने तो इससे आगे जाकर साँप के जहर से प्लेग का इलाज ढूंढने का दावा तक किया। यह दावा इतने बड़े पैमाने पर हुआ कि अंतरराष्ट्रीय चर्चा में आ गया।

साँप के जहर से प्लेग का इलाज

प्रसिद्ध मेडिकल जर्नल लांसेट के आठ जुलाई, 1898 के अंक में इस पर बाकायदा एक रिपोर्ट छपी जिसे भारत से इस पत्रिका के विशेष संवाददाता ने भेजा था। इस रिपोर्ट के अनुसार भारत में उस समय साँप के जहर से प्लेग के इलाज पर प्रयोग चल रहा था। प्रयोग करने वालों का कहना था कि पश्चिमी इलाज पद्धति सांप के जहर के चिकित्सकीय गुणों से वाकिफ नहीं है, जबकि भारत में इसका जो परंपरागत ज्ञान है वह प्लेग से मुक्ति दिलवा सकता है। बाद में इस प्रयोग के बारे में इंडियन मेडिकल गजट में भी कुछ चिट्ठियाँ छपी थीं। यह प्रयोग किसने किया, कहाँ हुआ और इसके क्या नतीजे निकले, इस बाबत कोई डिटेल उपलब्ध नहीं है।

यह ऐसा दौर था जब देश में दो ही चीजों का विस्तार हो रहा था, एक तो प्लेग की महामारी का जो तमाम कोशिशों के बावजूद पूरे देश में फैल रही थी। इसके साथ ही पूरे देश में अस्पताल खोले जा रहे थे और आधुनिक चिकित्सा का अभूतपूर्व विस्तार हो रहा था। इस विस्तार ने परंपरागत चिकित्सकों, वैद्यों और हकीमों को परेशान कर दिया था। उन्हें लग रहा था कि वे अप्रासंगिक होते जा रहे हैं।

इसी दौरान लाहौर से छपने वाले अख़बार सिविल एंड मिलिट्री गैजेट में एक दिलचस्प ख़बर छपी। जून, 1898 की इस ख़बर के अनुसार शहर के सभी नामी-गिरामी हकीमों ने एक बैठक की जिसमें एक प्रस्ताव तैयार किया गया। इस प्रस्ताव में वैज्ञानिकों के उस दावे का खंडन किया गया जिसमें यह कहा गया था कि प्लेग का जीवाणु पिस्सू की वजह से एक व्यक्ति से दूसरे में जाता है। हकीमों का कहना था कि ऐसा सिर्फ़ दूषित हवा के कारण हो रहा है।
विचार से ख़ास
पिस्सू का यह मामला उन दिनों काफ़ी चर्चा में इसलिए भी था कि लाहौर से एक हज़ार किलोमीटर दूर कराची में अपने होटल के कमरे में चूहों पर शोध करते हुए फ्रेंच वैज्ञानिक पाॅल लुइस साइमंड इस नतीजे पर पहुँचे थे कि प्लेग को फैलाने का काम पिस्सू करते हैं। इस प्रस्ताव में हकीमों ने मरीज़ों के क्वॉरेंटीन और आइसोलेशन का भी काफ़ी विरोध किया था।

यह वही दौर था जब प्लेग की वैक्सीन लगभग तैयार हो चुकी थी। हालाँकि देश के पूरी तरह प्लेगमुक्त होने में तो काफ़ी समय लगा लेकिन वैक्सीन ने एक तरफ़ तो इस त्रासदी को काफ़ी कम कर दिया तो दूसरी तरफ़ लोगों को एक नई उम्मीद दी।

वह प्लेग का दौर ही था जिसके बाद भारत में आधुनिक चिकित्सा पद्धति मुख्यधारा में आ गई और परंपरागत चिकित्सा पद्धतियाँ हाशिये पर चली गईं।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
हरजिंदर
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें