loader

नगालैंड में AFSPA के खिलाफ 2 दिन का मार्च

नगालैंड में विवादित कानून AFSPA को हटाने की मांग को लेकर एक बार फिर लोग सड़कों पर हैं। नगा समुदाय के हजारों लोगों ने सोमवार से दीमापुर से लेकर नगालैंड की राजधानी कोहिमा तक 70 किलोमीटर का मार्च शुरू किया है। इन लोगों की मांग है कि AFSPA को खत्म किया जाए। 

नगालैंड में 4 दिसंबर को हुई फायरिंग के बाद से ही माहौल तनावपूर्ण है और लोग AFSPA को हटाने की मांग कर रहे हैं। फायरिंग की घटना में 14 नागरिकों और सेना के एक जवान की मौत हो गई थी। 

तब भी बड़ी संख्या में लोग नगालैंड में सड़कों पर उतरे थे और AFSPA को हटाने की मांग की थी। फायरिंग की घटना मोन जिले के ओतिंग गांव में हुई थी। यह जिला भारत और म्यांमार की सीमा से सटा हुआ है। 

ताज़ा ख़बरें
मार्च में शामिल लोगों ने AFSPA के खिलाफ हाथों में पोस्टर लिए हुए हैं। उन्होंने फायरिंग की घटना में मारे गए 14 लोगों को इंसाफ दिलाने की मांग की है। इस मार्च में कई बड़े नगा संगठनों के लोगों ने भाग लिया है और इसके लिए सोशल मीडिया पर भी बड़ा अभियान चलाया गया। 

मार्च के आयोजकों का कहना है कि जब तक सरकार उनकी मांगों को लेकर सकारात्मक जवाब नहीं देती है तब तक वे लोग अपना विरोध प्रदर्शन जारी रखेंगे।  

30 दिसंबर को केंद्र सरकार ने AFSPA को 6 महीने के लिए बढ़ा दिया था। मार्च में शामिल लोगों ने कहा कि वे केंद्र सरकार के फैसले को नहीं मानेंगे।
नगालैंड में फायरिंग की घटना के बाद जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती, नगालैंड के मुख्यमंत्री नेफ्यू रियो, मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा, एआईएमआईएम के सांसद असदउद्दीन ओवैसी सहित कई नेताओं ने मांग की थी कि AFSPA को हटा दिया जाना चाहिए।
राज्य से और खबरें

क्या है AFSPA?

पूर्वोत्तर के राज्यों में सुरक्षा बलों को विशेष अधिकार देने वाले AFSPA को लेकर लंबे समय से विवाद रहा है। यह क़ानून तब लगाया जाता है जब किसी इलाक़े को सरकार ‘अशांत इलाक़ा’ यानी ‘डिस्टर्बड एरिया’ घोषित कर देती है। इस क़ानून के लागू होने के बाद वहां सेना या सशस्त्र बलों को भेजा जाता है। अगर सरकार यह घोषणा कर दे कि अब राज्य के उस इलाक़े में शांति है तो इसे हटा लिया जाता है और जवानों को वापस बुला लिया जाता है। 

1958 में इसे असम, मिज़ोरम, मणिपुर, त्रिपुरा, मेघालय, अरुणाचल प्रदेश और नागालैंड सहित पूरे पूर्वोत्तर भारत में लागू किया गया था, जिससे उस दौरान इन राज्यों में फैली हिंंसा पर क़ाबू पाया जा सके। मेघालय से इसे पूरी तरह ख़त्म कर दिया गया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राज्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें