loader

ट्रेन-बसों की घोषणा से भी मज़दूरों की राह आसान नहीं हुई! झाँसी में फँसे हज़ारों लोग

लॉकडाउन में फँसे मज़दूरों के लिए विशेष ट्रेनें चलाने, राज्यों की ओर से बसें भेजे जाने की कवायद ने भी हालात के मारे लोगों की राह आसान नहीं की है।

उत्तर प्रदेश व मध्य प्रदेश की सीमा पर झाँसी ज़िले में दो दिनों में हज़ारों की तादाद में बाहर से लौट रहे मज़दूर फँसे हुए हैं। अचानक पहुँचे उन मज़दूरों को झाँसी में रोक लिया गया और आगे नहीं जाने दिया गया। बिना इंतज़ाम के रोके गए इन लोगों को 24 घंटे तक खाना-पानी के लिए भटकना पड़ा। जहाँ बड़ी तादाद में मज़दूरों को झाँसी की भोजला मंडी में रखा गया वहीं उनसे भी ज़्यादा लोग अलग-अलग जगहों पर फँसे रहे। शुक्रवार से फँसे इन मज़दूरों में कुछ को रविवार तड़के से रवानगी की जा सकी। हालाँकि सभी की किस्मत इतनी अच्छी नहीं रही और वे अब भी अलग-अलग जगहों पर खुले आसमान के नीचे पड़े हैं। झाँसी में पहुँचे इन मज़दूरों में से कुछ महाराष्ट्र व गुजरात तो कुछ मध्य प्रदेश से आए हैं जिन्हें पूर्वी उत्तर प्रदेश के ज़िलों में अपने-अपने घरों को जाना है। कल ही महाराष्ट्र से लखनऊ जा रहे 18 मज़दूरों को सीमेंट मिक्सर वाले ट्रक से मध्य प्रदेश सीमा पर निकाला गया था।

ताज़ा ख़बरें

भोजला मंडी से बसों में भेजा

स्थानीय नेताओं व सामाजिक कार्यकर्ताओं का दबाव बढ़ने पर झाँसी से ज़िला प्रशासन ने भोजला मंडी में रोके गए मज़दूरों को बसों से शनिवार की रात रवाना कर दिया। भोजला मंडी में क़रीब 6000 मज़दूरों को जमा किया गया था। हालाँकि बसों में ले जाए गए मज़दूरों में से कुछ को 50 तो कुछ को 100 किलोमीटर आगे ले जाकर उतार दिया गया। वहाँ से इन मज़दूरों को आगे के लिए पैदल ही भेज दिया गया। एक सामाजिक कार्यकर्ता संजय सिंह बताते हैं कि बसों में बैठने वाले लोगों को पहले बताया गया था कि उन्हें गंतव्य स्थान तक ले जाया जाएगा और इन बसों में बैठाए गए मज़दूरों से रास्ते में किराया भी वसूला गया। भोजला मंडी से बसों में भेजे गए सोनभद्र के शिव सिंह से जब इस संवाददाता की बात हुई तो उन्होंने बताया कि रास्ते में ज़्यादा पैसे की माँग करते हुए उन लोगों को उतार दिया गया। आगे का रास्ता पैदल तय करने के बाद वे लोग यह समाचार लिखे जाने तक कानपुर-इलाहाबाद राजमार्ग पर सफर कर रहे थे।

thousands migrant workers stuck in jhansi facing hardships - Satya Hindi

पेट भरने का खाना नहीं, बिस्किट से काम चलाया

महाराष्ट्र व गुजरात से लौट रहे मज़दूरों के लिए भोजला मंडी में प्रशासन ने जो खाने के पैकेट भेजे वो भी नाकाफ़ी साबित हुए। सीमा पर फँसे मज़दूरों को तो वह भी नसीब नहीं हुआ। इसी झुंड में शामिल सोनभद्र के एक मज़दूर ने बताया कि जब खाने के पैकेट ख़त्म हो गए तो कुछ विस्किट भेजे गए और पानी के टैंकर खड़े करवा दिए गए।

बड़ी तादाद में लोगों को बिस्किट खाकर ही काम चलाना पड़ा। शनिवार देर शाम कुछ सामाजिक संगठनों की ओर से ज़रूर खाने के कुछ पैकेट बाँटे गए। जो मज़दूर पैदल ही अपने घरों के लिए चल दिए हैं उनके पास खाने-पीने को कुछ नहीं है और न ही अब रास्ते में किसी तरह की गुँज़ाइश है।
उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

उरई और रक्सा बॉर्डर पर भी फँसे हैं लोग

बेहाल हज़ारों मज़दूर अभी भी मध्य प्रदेश के शिवपुरी ज़िले से यूपी में प्रवेश के रक्सा बॉर्डर पर एनएच-25 पर फँसे हुए हैं। झाँसी से भेजे गए बड़ी तादाद में मज़दूर उरई तक पहुँच पाए हैं और आगे का रास्ता तय करने की जुगत में हैं। काफ़ी संख्या में मज़दूर रास्ते में मिलने वाले ज़रूरी सामान ढो रहे वाहनों से चिरौरी विनती कर कुछ पैसा देकर भी आगे की ओर जा रहे हैं। आगरा से समाजवादी नेता सीपी राय का कहना है हरियाणा-पंजाब व अन्य राज्यों से लौट रहे सैकड़ों मज़दूरों को पैदल अपने घरों को जाते हुए देखा जा सकता है।

'सत्य हिन्दी'
सदस्यता योजना

'सत्य हिन्दी' अपने पाठकों, दर्शकों और प्रशंसकों के लिए यह सदस्यता योजना शुरू कर रहा है। नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से आप किसी एक का चुनाव कर सकते हैं। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है, जिसका नवीनीकरण सदस्यता समाप्त होने के पहले कराया जा सकता है। अपने लिए सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। हम भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
कुमार तथागत
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें