loader

बंगाल चुनाव: गठबंधन पर आनंद शर्मा की कांग्रेस आलाकमान को चुनौती

पश्चिम बंगाल के चुनाव मैदान में उतरने से पहले ही कांग्रेस में घमासान शुरू हो गया है। कांग्रेस-लेफ़्ट फ़्रंट की चुनाव में गठबंधन के लिए इंडियन सेक्युलर फ़्रंट (आईएसएफ़) के साथ बातचीत चल ही रही थी कि वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने इस मामले में पार्टी को निशाने पर ले लिया है। शर्मा कांग्रेस आलाकमान से नाराज़ चल रहे बाग़ी नेताओं यानी G23 गुट के सदस्य हैं। बीते दिनों जम्मू में हुए शांति सम्मेलन में भी शर्मा और बाक़ी नेताओं ने इशारों-इशारों में कांग्रेस आलाकमान को निशाना बनाया था। 

शर्मा ने सोमवार शाम को ट्वीट कर कहा, “आईएसएफ़ और ऐसे अन्य दलों के साथ कांग्रेस का गठबंधन पार्टी की मूल विचारधारा, गांधीवाद और नेहरूवादी धर्मनिरपेक्षता के ख़िलाफ़ है और ये सब बातें कांग्रेस पार्टी की आत्मा हैं। इन मुद्दों पर कांग्रेस कार्य समिति में चर्चा होनी चाहिए थी।”

ताज़ा ख़बरें

सांप्रदायिकता पर दिया ज्ञान

शर्मा यहीं नहीं रुके और उन्होंने एक और ट्वीट दाग दिया। उन्होंने कांग्रेस आलाकमान को सांप्रदायिकता पर ज्ञान देते हुए कहा कि सांप्रदायिकता के ख़िलाफ़ लड़ाई में कांग्रेस चयनात्मक नहीं हो सकती है और हमें सांप्रदायिकता के हर रूप से लड़ना है। 

28 फ़रवरी को कांग्रेस और लेफ़्ट की कोलकाता के ब्रिगेड परेड ग्राउंड में हुई रैली में आईएसएफ़ के प्रमुख पीरजादा अब्बास सिद्दीक़ी के साथ ही पश्चिम बंगाल कांग्रेस के अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी भी शामिल रहे थे। अधीर की इस रैली में मौजूदगी को लेकर ही शायद शर्मा ने उन पर हमला बोला और कहा कि रैली में पश्चिम बंगाल कांग्रेस अध्यक्ष की उपस्थिति और समर्थन शर्मनाक है और उन्हें अपना पक्ष स्पष्ट करना चाहिए।

Congress left front alliance in bengal and ISF - Satya Hindi

अधीर ने दिया जवाब 

इसके बाद अधीर भी मैदान में आ गए और उन्होंने आनंद शर्मा को खुलकर जवाब दिए। अधीर ने ट्विटर पर लिखा, “सीपीएम के नेतृत्व वाला लेफ़्ट फ़्रंट पश्चिम बंगाल में सेक्युलर गठबंधन की अगुवाई कर रहा है और कांग्रेस इसका अहम अंग है। हम बीजेपी की सांप्रदायिक और विभाजनकारी राजनीति को हराने के लिए प्रतिबद्ध हैं।” 

अधीर ने अगले ट्वीट में आईएसएफ़ के साथ गठबंधन की स्थिति को साफ करते हुए कहा कि सीट बंटवारे में कांग्रेस को उसका पूरा हिस्सा मिला है और लेफ़्ट फ्रंट आईएसएफ़ को अपने हिस्से से सीटें दे रहा है। बेबाक बयानी के लिए पहचाने जाने वाले अधीर ने शर्मा से कहा कि सीपीएम के नेतृत्व वाले गठबंधन को सांप्रदायिक कहकर आप सिर्फ़ बीजेपी के ध्रुवीकरण के एजेंडे का समर्थन कर रहे हैं। 

अधीर ने कहा कि वे लोग जो बीजेपी की ज़हरीली सांप्रदायिक राजनीति के खिलाफ लड़ना चाहते हैं, वे कांग्रेस के लिए पांच राज्यों में चुनाव प्रचार करें न कि बीजेपी के सुर में सुर मिलाकर पार्टी को कमज़ोर करने की कोशिश करें।

उन्होंने G23 के बड़े नेता ग़ुलाम नबी आज़ाद के द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हाल में की गई तारीफ़ को लेकर उन्हें निशाने पर लिया और कहा कि ऐसे लोग व्यक्तिगत हित वाले मुद्दों से ऊपर उठें और प्रधानमंत्री की तारीफ़ में समय जाया न करें। 

बंगाल चुनाव पर देखिए चर्चा- 

जम्मू में G23 गुट के नेताओं के द्वारा शांति सम्मेलन करने के बाद से ही सवाल उठ रहा है कि क्या कांग्रेस में एक और टूट हो सकती है। G23 गुट के नेता बीते साल में कांग्रेस आलाकमान को चिट्ठी लिखने के बाद से ही पार्टी में एक अलग गुट बनाकर चल रहे हैं और इसमें शामिल अधिकतर नेता पार्टी में लंबा वक़्त बिता चुके हैं और काफ़ी अनुभव भी रखते हैं। 

लेकिन इतने अहम मौक़े पर जब कांग्रेस पांच राज्यों का चुनाव लड़ने की तैयारियों में जुटी है, बड़े नेताओं द्वारा पार्टी पर सवाल उठाने से निश्चित रूप से इसकी फजीहत तो हो ही रही है, पहले से ही बुरी हालत में चल रही कांग्रेस और कमजोर होगी, इससे इनकार नहीं किया जा सकता। 

कौन हैं पीरजादा अब्बास सिद्दीक़ी

पीरजादा अब्बास सिद्दीक़ी को उनके समर्थक भाईजान कहकर बुलाते हैं। हुगली जिले में स्थित धार्मिक स्थल फुरफुरा शरीफ से आने वाले अब्बास सिद्दीक़ी ने कुछ वक़्त पहले ही अपनी पार्टी लांच की है और वह चुनावी सभाओं में टीएमसी को हराने की बात करते हैं। उनकी हालिया सभाओं में काफी भीड़ जुटी है और हुगली इलाक़े के मुसलिम मतदाताओं में उनका ख़ासा असर माना जाता है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को भी मुसलिम मतदाताओं के भरपूर वोट मिलते रहे हैं, ऐसे में आईएसएफ़ के चुनाव लड़ने से ममता की पार्टी टीएमसी को नुक़सान हो सकता है। 

पश्चिम बंगाल से और ख़बरें

पीरजादा अब्बास सिद्दीक़ी सीट बंटवारे को लेकर कांग्रेस से नाख़ुश बताए जाते हैं और उन्होंने कहा है कि आईएसएफ़ को उसका पूरा हक़ मिलना चाहिए। 

कांग्रेस की मुसीबत बढ़ी

लेफ़्ट फ़्रंट इस बात से इनकार करता है कि आईएसएफ़ किसी तरह की सांप्रदायिक राजनीति करता है लेकिन जब कांग्रेस के बड़े नेता आईएसएफ़ को खुलकर सांप्रदायिक बता रहे हैं तो ऐसे में कांग्रेस-लेफ़्ट फ़्रंट का गठबंधन बीजेपी के सवालों का जवाब कैसे देगा क्योंकि बीजेपी का कहना है कि आईएसएफ़ सांप्रदायिक है और इसे लेकर कांग्रेस में ही घमासान छिड़ा हुआ है। आईएसएफ़ को इस गठबंधन में शामिल किया जाएगा या नहीं, इस पर फ़ैसला होना बाक़ी है लेकिन आनंद शर्मा के ट्वीट्स ने पार्टी को मुसीबत में ज़रूर डाल दिया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पश्चिम बंगाल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें