loader

भीमा कोरेगाँव : अब सत्य के लिए धर्मयुद्ध लड़ेगा दलित 

अभी एक धर्मयुद्ध होना बाक़ी है। सतयुग और त्रेता युग में तो कई धर्म युद्ध हुए। पुराणों में ढेरों ज़िक्र हैं - कैसे देवता और दानवों की लड़ाई हुई, कैसे सत्य और असत्य में युद्ध हुआ, कैसे समुद्र मंथन हुआ और हर बार यह बताया गया कि देवता जीते। ये कौन देवता हैं? क्यों हर बार दानव ही हारते हैं? क्या देवता ही सच हैं? दानव हमेशा असत्य के साथ रहते हैं? यह एक विमर्श है। यह वह विमर्श है जिसे उच्च जातियों ने लिखा। जिसके लेखक हमेशा ब्राह्मण ही रहे। 

दलितों ने कब लिखा? वह जो हमेशा से, सदियों से, हाशिये पर था, ग़ुलामी की ज़िंदगी जी रहा था, उसने कब लिखा? शायद कभी नहीं? उसे तो अपनी बात कहने का हक़ नहीं था। वह सिर उठा कर नहीं चल सकता था। उसका वर्णन हमेशा दानवों में ही हुआ होगा। उसे असत्य की काल कोठरी में क़ैद कर दिया गया होगा। पर अब वह जाग गया है। वह अपने पुराण लिखना चाहता है। वह अब कलियुग में नया धर्म युद्ध लड़ेगा। वह सत्य को अपने हिसाब से परिभाषित करेगा। वह आज का दलित है। वह दलित, जो हर साल 1 जनवरी को भीमा कोरेगाँव में इतिहास से अपना हिसाब माँगने जाता है। 

Bhima Koregaon issue Bhim Army chandrashekhar azad - Satya Hindi

दलितों को नहीं रोक सकी सरकार 

वह दलित पिछले साल फिर कोरेगाँव गया था। उसके ऊपर पत्थर फेंके गए थे। वह डरा नहीं। इस बार फिर वह कोरेगाँव में इकट्ठा हुआ। महाराष्ट्र सरकार जिसके मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस हैं, उन्होंने काफ़ी तैयारियाँ की पर वह दलितों को रोक नहीं पाए। यह जानते हुए भी कि पिछले साल जो हिंसा हुई, उसके गुनहगारों को अब तक सजा नहीं मिली है। जिन सँभाजी भिड़े और मिलिंद एकबोटे के बारे में शुरू में कहा गया था कि उनकी वजह से हिंसा हुई, उनके ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई नहीं हुई। 

आज़ाद घूम रहा है भिड़े

मिलिंद तो कुछ समय के लिए सीखचों के पीछे भी रहा पर एफ़आईआर में नाम होने के बाद भी भिड़े का कोई बाल भी बाँका नहीं कर पाया। वह स्वतंत्र है। आज़ाद है। शुरू में कहा गया था कि हिंसा के लिए हिंदुत्ववादी संगठन ज़िम्मेदार हैं। साल ख़त्म होते-होते नए गुनहगार आ गए। अब हिंसा के लिए “अर्बन नक्सल” को ज़िम्मेदार बताया जा रहा है। दस लोगों को गिरफ़्तार भी किया गया है। यह संदेश दिया जा रहा है कि ये बड़े बुद्धिजीवी नक्सल समर्थक हैं और प्रधानमंत्री मोदी की हत्या की साज़िश रच रहे थे। वह भी पत्र लिख कर।

पिछले साल भीमा कोरेगाँव में हुई हिंसा के बाद से ही दलितों में इसे लेकर आक्रोश है कि पुलिस इस मामले की सही ढंग से जाँच नहीं कर रही है और हिंदुत्ववादियों को बचा रही है।

पिछले साल भीमा कोरेगाँव की लड़ाई के दो सौ साल हुए थे। बड़ी संख्या में दलित जुटे थे। दलितों का आरोप है कि इस आयोजन में विघ्न डालने के लिए भिड़े और एकबोटे इलाक़े में काफ़ी सक्रिय थे। क़रीब दो महीने से इनके संगठन के लोग स्थानीय स्तर पर लोगों का ब्रेन वाश कर रहे थे। दलित कार्यकर्ता जैसे ही वडू बुदरुक से कोरेगाँव को लिए बढ़े, उन पर छतों से पत्थर की बौछार शुरू हो गई। दलितों की तरफ़ से भी जवाब दिया गया। इस हिंसा में एक आदमी की मौत हुई और सैकड़ों लोग घायल हुए। पुलिस ने 22 एफ़आईआर दर्ज़ कीं और 114 लोगों को गिरफ़्तार किया। 

यह भी आरोप लगाया गया कि पुणे के शनिवारवाडा में यलग़ार परिषद की जो कॉन्फ़्रेंस हुई थी उसमें भड़काऊ भाषण दिए गए। भाषण देने वालों में दलित नेता जिग्नेश मेवाणी और उमर ख़ालिद के नाम प्रमुखता से लिए गए। इन दोनों के खिलाफ केस भी दर्ज़ हुआ। दिलचस्प बात यह है कि यलग़ार परिषद की बैठक सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज और प्रेस काउंसिल के पूर्व चेयरमैन जस्टिस पी. बी. सावंत ने बुलाई थी। स्थानीय एनजीओ कबीर कला मंच इस आयोजन में बराबर का साझीदार था। पुलिस ने अपनी रिपोर्ट में लिखा कि कबीर कला मंच के सदस्यों और सुधीर धावले ने आपत्तिजनक गाने प्रस्तुत किए, राष्ट्रविरोधी भाषण दिए गए और समाज को बाँटने की कोशिश की गई। जिसकी वजह से भीमा कोरेगाँव में हिंसा हुई। जस्टिस सावंत ने इससे साफ़ इनकार किया पर पुलिस अपनी थ्योरी पर क़ायम रही। अब सारा फ़ोकस हिंदुत्ववादियों से हट कर माओवादियों पर आ गया है। दलितों को यह बात पसंद नहीं आ रही है। 

Bhima Koregaon issue Bhim Army chandrashekhar azad - Satya Hindi

भिड़े, एकबोटे पर हिंसा का आरोप

जस्टिस सावंत ने हफ़िंगटन पोस्ट को दिए एक इंटरव्यू में पुलिस की थ्योरी को ग़लत बताया। उन्होंने साफ़ कहा कि यलग़ार परिषद के लोगों का माओवादियों ये कोई लेना-देना नहीं हैं। इसलिए यह कहना कि यलग़ार परिषद को माओवादियों ने फ़ंड किया था और आयोजन के असली कर्ता-धर्ता वही थे, ग़लत है। जस्टिस सावंत का कहना है कि भिड़े और एकबोटे ने हिंसा कराई। उनके मुताबिक़, भिड़े इस इलाक़े में पिछले पचीस साल से ग़ैर ब्राह्मण लड़कों को ग़लत तरीके से इतिहास बताता है और मुसलमानों के ख़िलाफ़ नफ़रत फैला रहा है।

जस्टिस सावंत के अनुसार, सरकार हिंदुत्ववादियों को बचा रही है। उन्होंने कहा, यह हमेशा ही ऐसे हिंदुत्ववादियों को बचाते हैं जो हिंसा करते हैं और मुझे हैरानी नहीं होगी अगर दलितों पर हिंसा करने वाले हिंदुत्ववादियों को बचाने में पुलिस भी शामिल हो। जस्टिस सावंत का कहना है कि वह यह नहीं कहते कि सरकार ने पुलिस को ऐसा करने के निर्देश दिए हैं लेकिन अगर ऐसा होता है तो उन्हें संदेह नहीं होगा क्योंकि यही मोदी और अमित शाह का इतिहास है। 

यहाँ यह बताना ज़रूरी है कि गुजरात में हुए 2002 के दंगों की जाँच के लिए जस्टिस कृष्णा अय्यर की अगुवाई में इंडियन पीपुल्स ट्रिब्यूनल बना था। जस्टिस सावंत इसके सदस्य थे। ट्रिब्यूनल ने मोदी और अमित शाह पर मुक़दमा चलाने की सिफ़ारिश की थी। इस रिपोर्ट के कारण ही मोदी को दूसरे देशों ने वीज़ा देना बंद कर दिया था।

Bhima Koregaon issue Bhim Army chandrashekhar azad - Satya Hindi

भीमा कोरेगाँव में हारे थे मराठे 

जस्टिस सावंत का कहना सच हो सकता है। पर इस सच से भी बड़ा सच यह है कि दलित इस बात को मानते हैं कि सरकार दलितों के पक्ष में जाँच नहीं करवा रही है, हिंसा के लिए असली ज़िम्मेदार हिंदुत्ववादियों को बचाया जा रहा है।  इसका कारण वह इतिहास में देखता है। भीमा कोरेगाँव की लड़ाई वैसे तो अंग्रेज़ों और मराठों के बीच हुई थी। इसमें मराठों की हार हुई। इस हार को हिन्दुत्ववादी हिंदू राज के अंत के तौर पर देखते हैं पर दलित ब्राहमणवाद पर अपनी विजय के तौर पर।

पेशवाशाही में हुआ दलितों का उत्पीड़न

हिंदुत्ववादियों की नज़र में शिवाजी महाराज ने जिस मराठा शासन की नींव रखी थी वह भारतीय इतिहास में सही मायनों में हिंदू राज था और ब्राह्मण पेशवाओं के नेतृत्व में हिंदू राज ने मुग़ल सल्तनत की बुनियाद हिला दी थी और उस गौरव को पाया जिसका वर्णन वैदिक काल में मिलता है। लेकिन पेशवाशाही में दलितों की हालत बहुत बुरी थी। उन्हें अपनी कमर में झाड़ू बाँध कर चलना पड़ता था ताकि चलने के साथ साथ वे सड़क साफ़ करते चलें और उच्च जाति के लोग अपवित्र न हों। दलितों को गले में लोटा भी लटका कर चलना होता था। वह सड़क पर नहीं थूक सकता था। उसे लोटे में ही थूकने की इजाज़त थी। सवाल फिर से उच्च जातियों के अपवित्र होने का था। 

आंबेडकर भी आए थे कोरेगाँव 

भीमा कोरेगाँव में अंग्रेज़ों की सेना में बड़े पैमाने पर महार जाति के लोग थे जिन्हें दलित माना जाता था। इस वजह से 1818 की इस लड़ाई में मराठों की अंग्रेजों के हाथों हुई हार को दलित, मराठों पर अपनी जीत मानते हैं। 1927 में बाबा साहेब आंबेडकर ने भीमा कोरेगाँव की यात्रा की। तब से दलित यहाँ हर साल इकठ्ठा होते हैं और अपनी जीत का जश्न मनाते हैं । ये बात हिंदुत्ववादियों को नागवार गुज़रती है। उन्हें लगता है कि दलित उनकी हार पर नमक छिड़कते हैं। 2018 में दो सौवीं वर्षगाँठ के मौक़े पर दलित बड़ा भव्य आयोजन करना चाहते थे। हिंदुत्ववादियों को यह गंवारा न था। लिहाज़ा हिंसा की जमीन तैयार हो गई।

भीमा कोरेगाँव में हुई हिंसा पर सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज जस्टिस सावंत का कहना है, ‘सरकार हिंदुत्ववादियों को बचा रही है और मुझे हैरानी नहीं होगी अगर दलितों पर हिंसा करने वाले हिंदुत्ववादियों को बचाने में पुलिस भी शामिल हो’।

भीमा कोरेगाँव में एक और कारण से तनाव था। शिवाजी के पुत्र संभाजी का क़त्ल कर, उनके शरीर के टुकड़े कर नदी में बहा दिए गए थे। मुग़ल बादशाह औरंगज़ेब ने यह एलान भी किया था कि जो भी संभाजी का अंतिम संस्कार करेगा उसे भी मौत की सजा मिलेगी। गोविंद गायकवाड़ नाम के एक दलित ने बादशाह के फ़रमान के बावजूद उनके शव का अंतिम संस्कार किया। बादशाह ने उसे भी मौत की सजा दी। 

गोविंद की याद में वडु बुदरुक गाँव में एक स्मारक भी बनाया गया है। मराठे इस बात को सिरे से नकारते हैं। उनका कहना है कि संभाजी का संस्कार मराठों ने ही किया था। दलितों के द्वारा संस्कार की बात कहकर उन्हें नीचा दिखाया जाता है, उनका अपमान किया जाता है। पिछले साल गोविंद गायकवाड़ के स्मारक को तहस-नहस करने की कोशिश भी की गई। इस तनाव ने भी हिंसा को भड़काने में बड़ी भूमिका निभाई। 

निर्णायक मोड़ पर पहुँचेगी लड़ाई

ज़ाहिर है कि सदियों से जो लड़ाई चल रही है अब वह एक निर्णायक मोड़ पर पहुँचने को आतुर है। भीमा कोरेगाँव की लड़ाई उसका एक इशारा है। ये लड़ाई हिंदू धर्म के अंदर की है। हिंदुत्ववादी भले ही बाहर से इस्लाम से लड़ने का दावा कर रहे हों, वह यह लड़ाई भारत के संदर्भ में जीत भी सकते हैं पर उनकी असली लड़ाई तो दलितों से हैं। वह दलित जो मानता है कि हिंदू धर्म में उसे न्याय नहीं मिला, उसे अपने समाज का हिस्सा नहीं माना गया। उसे इंसान से भी बदतर दर्ज़ा दिया गया।
Bhima Koregaon issue Bhim Army chandrashekhar azad - Satya Hindi

आख़िर क्यों उत्पीड़न सहे दलित

यही दुख तो था जिसकी वजह से बाबा साहेब आंबेडकर ने कहा था कि वह हिंदू पैदा तो हुए हैं पर मरेंगे हिंदू नहीं। आख़िरी वक़्त में वह बौद्ध हो गए। आज जब केंद्र की सत्ता में हिन्दुत्ववादी हावी हैं, दो तिहाई राज्यों में उनकी सरकारें हैं तो ऊना में गाय के नाम पर दलित को पीटा जा रहा है। रोहित वेमुला को आत्महत्या करनी पड़ रही है। भीम आर्मी के चंद्रशेखर को अकारण राष्ट्रीय सुरक्षा क़ानून लगाकर जेल में बंद किया जा रहा है तो फिर दलित कैसे चुप रहे। वह अब धर्म युद्ध के लिए तैयार है। यह युद्ध ही तय करेगा हिंदू धर्म की नई दिशा।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
आशुतोष
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विश्लेषण से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें