loader

बिहार: नीतीश के शासन में अपराध को छुपाने की कोशिश!

टाइम्स ऑफ़ इंडिया, पटना में एक दिसंबर की ख़बर है कि बिहार में 24 घंटे के अंदर 11 हत्याएं और एक गैंग रेप की शिकायत दर्ज की गयी है। बीते रविवार को पटना के व्यस्त रहने वाले चिरैंयाटांड़ पुल पर एक दम्पति से लूटपाट में शिक्षिका की गोली मारकर हत्या कर दी गयी। 

इस हत्या से एक दिन पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने विधि-व्यवस्था की समीक्षा बैठक कर पुलिस अफसरों से हर हाल में अपराध पर काबू रखने की बात कही थी। उन्होंने अपराधियों में कानून का भय और रात्रि गश्ती बढ़ाने पर जोर दिया। इसी दिन गोपालगंज से यह खबर भी आयी कि जेडीयू विधायक के दो करीबी लोगों को गोलियों से भून डाला गया।

ताज़ा ख़बरें

ये उदाहरण यह बताने के लिए हैं कि बिहार में अपराध के बारे में 2005 से पहले और इसके बाद के काल को कैसे बताया-समझाया जाता है। अगर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को लगता है कि अपराधियों में कानून का भय और रात्रि गश्ती बढ़ाने की ज़रूरत है तो यह सोलहवें साल में पहुंचे उनके शासन काल पर एक गंभीर सवाल है क्योंकि अपराध पर नियंत्रण को एक तरह से उनकी यूएसपी की तरह प्रचारित किया जाता है। 

बैठक में नीतीश ने थाने में लैंडलाइन फोन और स्टेशनरी आदि के लिए फंड की व्यवस्था करने की बात भी कही। इतने दिनों के ‘सुशासन’ में भी बिहार के थानों की इस बदहाली के लिए कोई चर्चा नहीं हुई।

Crime in Bihar in Nitish government - Satya Hindi

अपराध की घटनाएं बढ़ीं

एक जमाने में नीतीश कुमार अपने पुलिस अधिकारियों से यह कहते हुए अपराध नियंत्रण पर जोर देते थे कि उन्हें वोट ही इसी के लिए मिला है। पुलिस अधिकारी और व्यापारी वर्ग के लोग यह कहते हैं कि नीतीश कुमार के शासन के शुरुआती 5-6 सालों में अपराध नियंत्रण का पता चलता था। लेकिन इसके बाद अपराध की घटनाएं बढ़ने लगीं।

मीडिया नीतीश के साथ!

नीतीश कुमार के शासन में अपराध के बारे में यह तर्क दिया जाता है कि यह संगठित नहीं है। पूर्व संपादक और वरिष्ठ पत्रकार सुकान्त नागार्जुन कहते हैं कि यह सब उच्च वर्ग और उच्च वर्ण संपोषित मीडिया के गढ़े हुए शब्द हैं या उन राजनीतिज्ञों को खुश करने की कोशिश में प्रचारित शब्द हैं जो सत्ता में हैं और अखबारों की आर्थिक हालत के लिए महत्वपूर्ण हैं। उनका मानना है कि लालू राज के बहुत से सरगना ऐसे थे जो वर्तमान शासन से जुड़े दल में थे। 

Crime in Bihar in Nitish government - Satya Hindi

लालू के राज पर प्रचार ज़्यादा

बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान लालू-राबड़ी शासन काल के बार में यह बात खूब प्रचारित की गयी थी कि उस समय शाम के समय के बाद कोई घर से निकलता नहीं था। इसके बारे में वरिष्ठ पत्रकार सुरूर अहमद कहते हैं कि यह सब एक माहौल बनाने का मामला है। वे पूछते हैं कि रणवीर सेना के ब्रह्मेश्वर मुखिया की हत्या किस तरह का अपराध था? उनके अनुसार उसके बाद मचाये गये उत्पात से जो भय का माहौल बना था उसे मीडिया ने उजागर करना तो दूर, उसे पूरी तरह दबा दिया। इसी तरह मुजफ्फरपुर में पूर्व मेयर समीर कुमार को गोलियों से छलनी करने का मामला संगठित अपराध था या असंगठित? ऐसे और कई उदाहरण दिये जा सकते हैं।

सुरूर अहमद कहते हैं कि लालू-राबड़ी राज में पटना में क्रिकेट वर्ल्ड कप हुआ। उस जमाने में और कई बड़ी गतिविधियां हुईं। आरोप लगता है कि लोग शाम के बाद घरों से बाहर नहीं निकलते थे तो उस जमाने में जेनरेटर से रौशन बाजार किनके लिए खुले रहते थे। लोग शाम के शो देखकर सिनेमाघरों से निकलते थे।

अहमद कहते हैं कि इसका अर्थ यह नहीं कि अपराध की बात को झुठलाया जाए लेकिन हो यह रहा है कि एक राज के अपराध को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया जाता है और दूसरे के शासन में अपराध को कम दिखाने के लिए तर्क ढूंढे जाते हैं।

ढीले पड़ गए नीतीश!

आम आदमी को इससे क्या मतलब कि अपराधी संगठित हैं या असंगठित, उनके साथ जो घटनाएं हो रही हैं उसे रोकने में विफलता को देखना चाहिए। सुकान्त कहते हैं कि जिस दिन नीतीश कुमार ने भूमि सुधार की सिफारिशों से हाथ खींच लिया उनके काम करने के संकल्प पर असर पड़ना शुरू हो गया। शुरू में नीतीश कुमार ने जरूर अपराध पर काबू पाने पर जोर दिया लेकिन बाद में वे न सिर्फ शिथिल पड़ गये बल्कि कई चीजें उनके सामने होती रहीं। अब आर्थिक अपराध बढ़े हैं और ऐसे लोगों को कहीं न कहीं से संरक्षण प्राप्त रहता है। वे पूछते हैं कि चुनाव में इतने बड़े पैमाने पर नकदी का खेल कैसे होता है।

बिहार से और ख़बरें
सेन्ट्रल बिहार चैम्बर ऑफ़ काॅमर्स के पूर्व अध्यक्ष डॉ. अनूप केडिया कहते हैं कि 2005 से पहले अपराधी जाने-पहचाने होते थे और उन्हें राजनीतिक संरक्षण प्राप्त होता था। उनके मुताबिक पहले नीतीश कुमार का मिशन था बिहार में अपराध नियंत्रण लेकिन शुरू के पांच-छह साल के बाद उनकी प्राथमिकता में यह बात उस तरह नहीं रही जैसी पहले थी। इसका नुकसान तो हो रहा है।
बिहार के पूर्व डीजीपी अभयानंद कहते हैं, ‘अपराध आंकड़ों की नहीं बल्कि एहसास की बात होती है। अपराध बढ़ा है या घटा है, इसे जानने के लिए आंकड़ों के साथ-साथ यह भी देखा जाना चाहिए कि समाज का क्या एहसास है।’

अभयानंद कहते हैं कि मोटे तौर पर 2006 से 2010 और इसके एक-दो साल बाद तक अपराध पर नियंत्रण का जो तरीका अपनाया गया था, वह इसके बाद खिसकते गया। वे कहते हैं किसी स्तर पर एक चेहरा होना चाहिए जो यह संदेश देने में कामयाब हो कि चाहे भगवान भी चाह लें तो सबूत के साथ पकड़ा गया अपराधी छूट नहीं पाएगा। शायद इसकी कमी बिहार में महसूस की जा रही है। अभयानंद कहते हैं कि अपराधियों को छुड़ाने के लिए पैरवी तो अब भी होती है। 

कम हो रही माॅनिटरिंग 

उन्होंने कहा कि 2006 से अगले 5-7 साल तक अपराधियों के स्पीडी ट्रायल पर बहुत जोर था। इससे अपराधियों में एक भय का माहौल बना था। इसके अलावा आर्म्स एक्ट के तहत अपराधियों को पकड़कर सजा दिलाने का काम जल्दी होता था। उन्हें लगता है कि अब माॅनिटरिंग का काम ढीला पड़ गया है। इन कारणों से अपराध पर काबू पाने में जो सफलता पहले मिली थी, वह अब नहीं है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
समी अहमद
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें