loader

नीतीश-तेजस्वी साथ थे तो आरजेडी ने जीती थीं ज़्यादा सीटें, अब विरोधी हैं तो कौन पड़ेगा भारी?

देश में बेतहाशा बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के बीच बिहार विधानसभा चुनावों की घोषणा हो गई है। 243 सीटों वाली विधानसभा में सरकार बनाने के लिए 122 सीटों की बहुमत की ज़रूरत होगी। इस बार मुख्य मुक़ाबला नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले गठबंधन और तेजस्वी यादव के नेतृत्व वाले गठबंधन (महागठबंधन) के बीच होगा। इस बार का चुनाव पिछले चुनाव से इस मामले में भी अलग होगा कि गठबंधन में पार्टियाँ इधर से उधर हुई हैं और नये समीकरण बने हैं।

इस बार दो बड़े गठबंधनों- एनडीए यानी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन और महागठबंधन (यूपीए यानी संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन) के बीच काँटे की टक्कर है। इसके अलावा भी दो फ्रंट हैं। एक लेफ़्ट फ्रंट और दूसरा यूडीएसए यानी संयुक्त जनतांत्रिक धर्मनिरपेक्ष गठबंधन। 

ताज़ा ख़बरें

एनडीए 

  • जनता दल (यू)
  • बीजेपी
  • एलजेपी
  • एचएएम

महागठबंधन 

  • आरजेडी
  • कांग्रेस
  • आरएलएसपी
  • विकासशील इंसान पार्टी

लेफ़्ट फ्रंट

  • सीपीआई
  • सीपीआई (एमएल)
  • सीपीआई (एम)

यूडीएसए 

  • एआईएमआईएम
  • समाजवादी जनता दल लोकतांत्रिक

लेकिन पिछले चुनाव यानी 2015 के विधानसभा चुनाव में गठबंधन का समीकरण बिलकुल अलग था। महागठबंधन में नीतीश कुमार का जेडीयू और तेजस्वी का आरजेडी एक साथ थे। 

महागठबंधन

  • जनता दल (यू)
  • राष्ट्रीय जनता दल
  • कांग्रेस

एनडीए 

  • बीजेपी
  • एलजेपी
  • आरएलएसपी
  • एचएएम

इन दो गठबंधनों के अलावा लेफ़्ट फ्रंट और सोशलिस्ट सेक्युलर मोर्चा भी थे। 2015 का विधानसभा चुनाव पाँच चरणों में हुआ था। 12 अक्टूबर को पहले चरण और 5 नवंबर को पाँचवें चरण का चुनाव संपन्न हुआ था। 8 नवंबर को चुनाव के नतीजे आए थे। 2015 के चुनाव में सन 2000 के बाद सबसे ज़्यादा मत प्रतिशत रहा था। 56.6 फ़ीसदी लोगों ने वोट दिया था। चुनाव परिणाम घोषित हुआ था तब आरजेडी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी। 

2015 के चुनावी नतीजे

2015 में भी असल लड़ाई महागठबंधन और एनडीए के बीच ही थी। इसमें महागठबंधन एनडीए पर भारी पड़ा था। महागठबंधन को 178 सीटें मिली थीं तो एनडीए को सिर्फ़ 58 सीटें।

jdu, rjd performance in 2015 polls and possibility for bihar assembly election 2020 - Satya Hindi
jdu, rjd performance in 2015 polls and possibility for bihar assembly election 2020 - Satya Hindi

2015 के चुनाव में महागठबंधन को वोट भी सबसे ज़्यादा क़रीब 40 फ़ीसदी मिले थे, जबकि एनडीए को क़रीब 32 फ़ीसदी। हालाँकि उस चुनाव की एक ख़ास बात यह भी थी कि 53 सीट जीतने वाली बीजेपी को 24.4 फ़ीसदी वोट मिले थे जबकि महागठबंधन में 80 सीटें जीतने वाले आरजेडी को 18.4 फ़ीसदी और जदयू को 18.8 फ़ीसदी। दरअसल, ऐसा इसलिए हुआ था कि बीजेपी ने 157 सीटों पर चुनाव लड़ा था जबकि महागठबंधन की तरफ़ से आरजेडी व जेडीयू 101-101 सीटों पर। इस लिहाज़ से जीत की स्ट्राइक रेट आरजेडी व जेडीयू की ज़्यादा हो गई। चूँकि बीजेपी काफ़ी ज़्यादा सीटों पर चुनाव लड़ी थी इसलिए कुल वोटों की संख्या उसकी ज़्यादा हो गई थी। 

लेकिन इस बार यानी 2020 का विधानसभा चुनाव इस मायने में अलग है कि महागठबंधन की दो बड़ी पार्टियाँ ही इस बार अलग-अलग चुनाव लड़ रही हैं। दरअसल, वो एक-दूसरे के ख़िलाफ़ चुनाव लड़ रही हैं। नीतीश की जदयू एनडीए के साथ हो गया है। इस कारण पूरा समीकरण ही बदल गया है। हालाँकि नीतीश कुमार 15 साल से सत्ता में हैं तो एंटी-इन्कंबेंसी भी उनके ख़िलाफ़ काम कर सकता है। 

बिहार से और ख़बरें

इस बीच जाति का समीकरण भी महत्वपूर्ण है। कहा जाता है कि बिहार चुनाव में जाति काफ़ी प्रभाव डालती है। बिहार में ओबीसी 50 फ़ीसदी जिसमें से 14 फ़ीसदी यादव, 7 फ़ीसदी कुशवाहा, 5 फ़ीसदी कुर्मी और 24 फ़ीसदी अन्य पिछड़ी जातियाँ हैं। इसके अलावा दलित और महादलित 15 फ़ीसदी, मुसलिम 16.9 फ़ीसदी हैं। अगड़ी जातियाँ 19 फ़ीसदी हैं जिसमें से भूमिहा 5.5, ब्राह्मण 5.5, राजपूत 6.5 और कायस्थ 1.5 फ़ीसदी हैं। इसके अलावा 1.3 फ़ीसदी आदिवासी और अन्य 0.4 फ़ीसदी हैं। 

इन जातियों के आधार पर ही चुनावी गठबंधन और सीटों पर उम्मीदवारों को भी उतारा जाता है। 

बदले हुए समीकरण में कौन-सा गठबंधन किस तरह से परिस्थितियों को भुनाता है, यह चुनाव के आख़िर पल की परिस्थितियों पर निर्भर करेगा। क्योंकि अभी भी गठबंधनों में ही सीटों के बँटवारे से लेकर नेतृत्व तक पर खींचतान चल रही है। ये गठबंधन इससे कैसे निपटते हैं इसका भी चुनाव परिणाम पर असर पड़ सकता है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें