loader
टीएमसी में शामिल हुए टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस।

गोवा में चुनाव लड़कर क्या साबित करना चाहती हैं ममता बनर्जी?

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का पूरा फ़ोकस इन दिनों बंगाल से बाहर जाकर चुनाव लड़ने पर है। ममता की पार्टी टीएमसी गोवा के चुनाव मैदान में उतर रही है और ख़ुद ममता यहां का दौरा कर रही हैं। लेकिन सवाल यहां यह है कि ममता आख़िर बंगाल के बाहर के राज्यों में चुनाव लड़कर क्या साबित करना चाहती हैं। विशेषकर ऐसे राज्यों में जहां उनका सियासी आधार शून्य है। 

एक ओर ममता बनर्जी बीजेपी के ख़िलाफ़ एक मज़बूत फ्रंट बनाने की बात कहती हैं, दिल्ली आकर सोनिया व राहुल गांधी से मिलती हैं, वहीं दूसरी ओर वह सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी कांग्रेस को कमजोर करती दिखाई देती हैं। 

ताज़ा ख़बरें

कांग्रेस नेताओं पर है नज़र 

गोवा जैसे राज्य में जिसकी अपनी सियासी हैसियत बहुत ज़्यादा नहीं है और टीएमसी का वहां कोई संगठन भी नहीं है, ऐसे में ममता बनर्जी के वहां जाकर चुनाव लड़ने का मतलब समझ नहीं आता। ममता के गोवा में चुनाव लड़ने का सबसे ज़्यादा विपरीत असर कांग्रेस पर ही होगा। वह तोड़ भी कांग्रेस के नेताओं को ही रही हैं। उन्होंने गोवा के मुख्यमंत्री और कांग्रेस के बड़े नेता लुईजिन्हो फलेरो को टीएमसी में शामिल किया है। 

Mamata Banerjee in Goa election 2022 - Satya Hindi

यह बात तय है कि फलेरो भी बिना कांग्रेस संगठन की मदद के टीएमसी के साथ जाकर कुछ ख़ास नहीं कर पाएंगे। लेकिन वह चूंकि कांग्रेस के नेता रहे हैं, इसलिए कांग्रेस के ही वोटों में सेंध लगाएंगे। इसका सीधा नुक़सान कांग्रेस को होगा और बीजेपी को सत्ता में वापस आने में मदद मिलेगी। 

ममता इसके अलावा त्रिपुरा, असम और उत्तर प्रदेश में भी चुनाव लड़ना चाहती हैं। लेकिन यहां भी उनकी नज़र कांग्रेस के नेताओं पर ही है। असम में उन्होंने कांग्रेस की बड़ी नेता सुष्मिता देव को तो उत्तर प्रदेश में राजेशपति और ललितेशपति त्रिपाठी को पार्टी में शामिल किया है। ये पूर्व मुख्यमंत्री कमलापति त्रिपाठी के परिवार के लोग हैं, जिनका एक वक़्त में पूर्वांचल के कुछ जिलों में अच्छा आधार था। उत्तर प्रदेश में भी लगभग शून्य आधार रखने वाली टीएमसी को प्रियंका के करीबी नेता ललितेशपति को पार्टी में शामिल करके क्या मिलेगा, यह समझना मुश्किल है। 
निश्चित रूप से ममता की यह सियासी कोशिश पश्चिम बंगाल के बाहर मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस को कमजोर करने की मालूम पड़ती है।

कांग्रेस का तंज

कांग्रेस ने कहा है कि टीएमसी इस बात पर आत्ममंथन करे कि वह गोवा में चुनाव लड़कर बीजेपी को ही मज़बूत कर रही है। कांग्रेस ने तंज कसा है कि चुनाव कोई पर्यटन या सैर-सपाटा नहीं है। 

बीजेपी को मिलेगी मदद?

गोवा में लुईजिन्हो फलेरो लगातार कांग्रेस नेताओं को टीएमसी में शामिल कर रहे हैं। ममता भी वहां कार्यक्रम कर रही हैं और ऐसा करना उनकी जम्हूरी हक़ भी है। लेकिन उन्हें यह समझना होगा कि उनके इस क़दम से बीजेपी का सत्ता में आना आसान हो जाएगा। 

ऐसा भी नहीं है कि ममता गोवा में चुनाव लड़कर वहां दो-चार सीटें झटकने की हालत में हों, सरकार बनाना तो बहुत दूर की बात है। ऐसे में वहां के चुनाव मैदान में उतरकर वह कांग्रेस को कमज़ोर ही करेंगी।

कांग्रेस की जगह लेने की कोशिश

ममता की ख़्वाहिश 2024 के आम चुनाव तक टीएमसी को देश में कांग्रेस की जगह पर मुख्य विपक्षी दल बनाने की जान पड़ती है। लेकिन यह बेहद मुश्किल काम है। क्योंकि बंगाल के बाहर ममता कांग्रेस और दूसरे दलों से आए नेताओं के दम पर चुनाव में सिर्फ़ रेंग सकती हैं, खड़े होना बहुत दूर की बात है।

गोवा से और ख़बरें

कांग्रेस नाराज़?

तो क्या ममता बनर्जी ऐसा करके बदले की राजनीति कर रही हैं। ममता का टीएमसी का सियासी विस्तार करना ग़लत नहीं है लेकिन यह सियासी विस्तार विपक्षी एकता को कमज़ोर करने की क़ीमत पर हो तो सवाल ज़रूर खड़े होते हैं। ऐसा क्या वे किसी के इशारे पर कर रही हैं?

लेकिन उनके ऐसा करने से राष्ट्रीय स्तर पर एंटी बीजेपी फ्रंट नहीं बन सकता क्योंकि निर्विवाद रूप से इस संभावित फ्रंट का सबसे बड़ा दल कांग्रेस ही है और कांग्रेस को ममता की यह चुनावी चाल क़तई रास नहीं आ रही है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

गोवा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें