loader
ऋषिकेश उपाध्याय और दीप नारायण उपाध्याय। फ़ोटो साभार: फ़ेसबुक/दीप नारायण उपाध्याय

बीजेपी मेयर के भतीजे ने 20 लाख की खरीदी ज़मीन 2.5 करोड़ में ट्रस्ट को बेची!

कथित तौर पर पाँच मिनट में ही 2 करोड़ रुपये की ख़रीदी हुई ज़मीन को 18.5 करोड़ रुपये में राम मंदिर ट्रस्ट को बेचे जाने की ख़बर के बाद अब ऐसा ही एक और मामला सामने आया है। एक मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 20 लाख रुपये की खरीदी गई ज़मीन को दो महीने बाद ही राम मंदिर ट्रस्ट को 2.5 करोड़ रुपये में बेच दिया गया। रिपोर्ट के अनुसार, और जिन्होंने यह काम किया वह अयोध्या के मेयर और बीजेपी नेता ऋषिकेश उपाध्याय के भतीजे दीप नारायण उपाध्याय हैं। फ़ेसबुक पेज पर उन्होंने ख़ुद को बीजेपी का सक्रिय सदस्य बताया है। 

यह ख़बर जिस ज़मीन को लेकर है वह इस साल फ़रवरी तक देवेंद्र प्रसादाचार्य नाम के एक महंत की थी। न्यूज़लाउंड्री की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 20 फ़रवरी को दीप नारायण ने उस ज़मीन गाटा नंबर 135 को 20 लाख रुपये में ख़रीद ली। रिपोर्ट के अनुसार, इसी ज़मीन को फिर दीप नारायण ने 11 मई को राम मंदिर ट्रस्ट को 2.5 करोड़ रुपये में बेच दिया। यह पूरा मामला तब हुआ जब स्थानीय अधिकारियों के अनुसार ज़मीन का सर्कल रेट 35.6 लाख रुपये था। 

ताज़ा ख़बरें

दीप नारायण द्वारा ख़रीदी गई इस ज़मीन के रिकॉर्ड के अनुसार अयोध्या में सदर तहसील के अंतर्गत कोट रामचंद्र, हवेली अवध में है।

जबकि इससे पहले जो ज़मीन खरीद का मामला आया था वह अयोध्या के बागबीजैसी गाँव में है। इस मामले में आम आदमी पार्टी के नेता और राज्यसभा सदस्य संजय सिंह और पूर्व विधायक पवन पांडेय ने आरोप लगाया है कि रामजन्मभूमि ट्रस्ट ने दो करोड़ रुपए की ज़मीन 18.50 करोड़ रुपए में खरीदी, इसमें करोड़ों रुपये का घपला किया गया। इस ज़मीन को हरीश पाठक ने अयोध्या के बागबीजैसी गाँव में 18 मार्च को 1.2 हेक्टेयर ज़मीन सुल्तान अंसारी और रवि मोहन तिवारी को 2 करोड़ रुपये में बेची। अंसारी और तिवारी ने इसी ज़मीन को राम मंदिर ट्रस्ट को 18.5 करोड़ रुपये में बेच दी। ख़बर यह भी है कि उसी दिन पाठक ने 1.03 हेक्टेयर ज़मीन सीधे राम जन्मभूमि ट्रस्ट को 8 करोड़ में बेची थी।

इस ज़मीन खरीद के पहले मामले का विवाद शांत भी नहीं हुआ है कि न्यूज़लाउंड्री ने इस दूसरी ज़मीन की ख़रीद-बिक्री की क़ीमतों में भारी अंतर की रिपोर्ट छापी है। कोट रामचंद्र, हवेली अवध में यह ज़मीन रामजन्मभूमि बुलाई जाने वाली जगह के क़रीब है।

रिपोर्ट के अनुसार दीप नारायण ने जो ज़मीन राम मंदिर ट्रस्ट को बेची है और उसका 11 मई को 2.5 करोड़ रुपये का जो भुगतान पाया है उसके रिकॉर्ड के अनुसार गवाह के रूप में अनिल मिश्रा हैं। वह ट्रस्ट के एक सदस्य हैं।

रिपोर्ट के अनुसार दीप नारायण ने 20 फ़रवरी को जिस दिन महंत प्रसादाचार्य से 890 स्क्वायर मीटर ज़मीन ख़रीदी थी उसी दिन उन्होंने कोट रामचंद्र में ही गाटा नंबर 36 मि ज़मीन को ट्रस्ट को 1 करोड़ में बेची थी। जबकि यह ज़मीन 676.86 स्क्वायर मीटर ही थी। इस ज़मीन का मूल्य 27.08 लाख बताया जाता है। इस ख़रीद में भी अनिल मिश्रा गवाह थे। 

देश से और ख़बरें

न्यूज़लाउंड्री ने एक दिन पहले ही पहले ज़मीन खरीद विवाद वाले मामले में रिपोर्ट दी थी कि अयोध्या के बागबीजैसी गाँव में राम मंदिर ट्रस्ट ने एक भगोड़े हरीश पाठक से ज़मीन ख़रीदी है। 'न्यूज़लाउंड्री' की रिपोर्ट के अनुसार, हरीश पाठक और उसकी पत्नी कुसुम पाठक के ख़िलाफ़ बाराबंकी, फैज़ाबाद, संत कबीरनगर सहित उत्तर प्रदेश के कई ज़िलों में मुक़दमे दर्ज हैं। हरीश पाठक का बेटा विकास इसी साल जनवरी में धोखाधड़ी के एक मामले में गिरफ़्तार किया गया था जो फ़िलहाल ज़मानत पर बाहर है। इस मामले में उसके माता-पिता हरीश और कुसुम दोनों आरोपी हैं। 

ख़ास ख़बरें

रिपोर्ट के अनुसार, 2016 में धोखाधड़ी के एक मामले में हरीश और कुसुम भगोड़े हैं। कैंट पुलिस थाने के अनुसार जब दोनों स्थानीय अदालत में पेश नहीं हुए तो अगस्त 2018 में उन्हें भगोड़ा घोषित कर दिया गया और उनकी संपत्ति जब्त करने को पुलिस को कहा गया। पुलिस ने तब हरीश की कार जब्त की थी। रिपोर्ट के अनुसार हरीश पाठक द्वारा संचालित साकेत गोट फार्मिंग के बॉन्ड स्कीम में धोखाधड़ी के भी कई मामले दर्ज हैं। 

हरीश पाठक ने जो ये ज़मीनें बेची थीं वह भी विवाद वाली ज़मीन है। रिपोर्ट के अनुसार आरोप लगाया गया है वह ज़मीन वक़्फ बोर्ड की थी जिसे ग़लत तरीक़े से बेच दिया गया। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें