loader

थरूर के फ़ेसबुक अधिकारियों को तलब करने की बात पर बीजेपी सांसद क्यों भड़के?

मशहूर अमेरिकी पत्रिका 'वॉल स्ट्रीट जर्नल' की एक ख़बर के बाद भारत की सियासत में भूचाल मचा हुआ है। ख़बर में दावा किया गया है कि फ़ेसबुक ने बीजेपी से जुड़े लोगों की नफ़रत फ़ैलाने वाली पोस्ट को नहीं हटाया। पत्रिका के मुताबिक़, ऐसे कम से कम तीन मामले सामने आए हैं। 

इस ख़बर के सामने आने के बाद कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने इसे लपका और ट्वीट कर कहा, ‘बीजेपी-आरएसएस भारत में फेसबुक और वॉट्सएप का नियंत्रण करते हैं। इस माध्यम से ये झूठी ख़बरें व नफ़रत फैलाकर वोटरों को फुसलाते हैं।’ ख़ुद को घिरता देख बीजेपी ने केंद्रीय क़ानून मंत्री रविशंकर प्रसाद और तमाम प्रवक्ताओं को इसका जवाब देने के लिए टेलीविजन चैनलों के मोर्चे पर तैनात किया। 

विवाद बढ़ने के बाद फ़ेसबुक ने इस पर सफाई दी और कहा है कि वह ऐसी सामग्री जिससे ‘नफ़रत को बढ़ावा मिलता हो’ या ‘हिंसा को उकसावा मिलता हो’ उसे रोक देता है। 

ताज़ा ख़बरें

लेकिन अब इसमें ताज़ा विवाद खड़ा हो गया है कांग्रेस सांसद और सूचना प्रोद्यौगिकी (आईटी) से संबंधित संसद की स्थायी समिति के चेयरमैन शशि थरूर के एक बयान के बाद। थरूर ने कहा है कि वह 'वॉल स्ट्रीट जर्नल' की ख़बर को लेकर फ़ेसबुक के अधिकारियों को तलब कर सकते हैं। 

बीजेपी सांसद का ट्वीट

थरूर के इतना कहते ही झारखंड से बीजेपी के सांसद निशिकांत दुबे न जाने क्यों बिगड़ गए और उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘शशि थरूर को फ़ेसबुक अधिकारियों को तलब करने का दावा करने से पहले संसद की स्थायी समिति में इसे लेकर चर्चा करनी होगी। इन मुद्दों को वे समिति के नियमों के मुताबिक़ ही उठा सकते हैं।’

इस तरह की भी ख़बरें हैं कि दुबे ने बीजेपी के सांसदों और आईटी से संबंधित स्थायी समिति में शामिल सहयोगी दलों के सांसदों से भी कहा है कि वे शशि थरूर के ख़िलाफ़ लोकसभा स्पीकर को पत्र लिखें। 

दुबे ने तीख़ा हमला करते हुए कहा, ‘शशि थरूर को यह समझना चाहिए कि संसद की स्थायी समिति संसद का ही एक अंग है और यह कांग्रेस पार्टी नहीं है।’ उन्होंने कहा कि संसद के नियमों के मुताबिक़, केवल स्पीकर ही निजी क्षेत्र के लोगों को बुला सकते हैं। 

दुबे ने यह भी कहा कि संसदीय समिति के सदस्यों द्वारा अपने नेताओं के अहंकार को संतुष्ट करने के लिए इसे राजनीति का प्लेटफ़ॉर्म नहीं बनाना चाहिए। उनका सीधा निशाना शशि थरूर पर ही था। 

दुबे की बयानबाज़ी के बाद तृणमूल कांग्रेस की तेज-तर्रार सांसद महुआ मोइत्रा इस विवाद में कूद गयीं। मोइत्रा ने कहा, ‘मैं भी आईटी समिति की सदस्य हूं। एजेंडे को लेकर पहले ही सहमति बन चुकी थी।’ मोइत्रा ने कहा कि किस मुद्दे पर कब बातचीत होनी है और किसे बुलाया जाना है, यह समिति के चेयरमैन का विशेषाधिकार है। 

अक़सर मुखर रहने वालीं मोइत्रा ने तंज कसते हुए कहा कि यह हैरान करने वाला है कि बीजेपी किस तरह फ़ेसबुक के हितों के लिए कुछ भी करने को तैयार है।

इसके बाद थरूर ने भी मोइत्रा के ट्वीट का जवाब देते हुए कहा, ‘आप ठीक कह रही हैं। मेरे फ़ैसले पर आरोप लगाकर निशिकांत दुबे ने समिति की छवि को ख़राब किया है और मैं इस मुद्दे को उठाऊंगा।’ थरूर ने कहा कि एक सांसद यह सुझाव दे रहे हैं कि आम लोगों से जुड़े इतने बड़े मुद्दे को हमें नहीं उठाना चाहिए। 

इसके बाद निशिकांत दुबे फिर बीच में आए और उन्होंने थरूर और मोइत्रा को जवाब दिया। दुबे ने मोइत्रा को नियम 269 पढ़ने की सलाह दी तो थरूर से कहा, ‘मिस्टर चेयरमैन, यह समय बताएगा कि समिति की छवि को किसने ख़राब किया है।’

देश से और ख़बरें

साफ होनी चाहिए स्थिति

दुनिया भर में भारत में फ़ेसबुक के सबसे ज़्यादा यूजर्स हैं। 'वॉल स्ट्रीट जर्नल' की ओर से छापी गई ख़बर के बाद हर आमजन के मन में यही सवाल है कि क्या फ़ेसबुक जैसे सोशल प्लेटफ़ॉर्म पर भी बीजेपी का नियत्रंण है। और जब बीजेपी इससे इनकार कर रही है तो उसे आख़िर आईटी समिति द्वारा फ़ेसबुक के अधिकारियों को तलब करने पर क्या दिक्कत है। 

क्योंकि इस मामले में स्थिति साफ़ होनी चाहिए। वरना, फ़ेसबुक की सफाई के बाद भी भारत के करोड़ों यूजर्स के मन में उसके एक पक्ष की ओर झुके रहने का सवाल बना रहेगा। इसलिए इस मामले में स्थिति को शीशे की तरह साफ किया जाना ज़रूरी है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें