loader

मोहम्मद जुबैर का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा, शुक्रवार को होगी सुनवाई

पत्रकार और ऑल्ट न्यूज़ के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट का रुख किया। जुबैर के वकील कॉलिन गोंजाल्विस ने इलाहाबाद हाईकोर्ट के खिलाफ 13 जून को उनके खिलाफ एफआईआर रद्द करने से इनकार करने के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। यह मामला सीतापुर से जुड़ा हुआ है।
गोंजाल्विस ने कहा कि जुबैर को मौत की धमकी का सामना करना पड़ रहा है और उनकी सुरक्षा के बारे में वास्तविक चिंता है। सुप्रीम कोर्ट शुक्रवार को याचिका पर सुनवाई के लिए तैयार हो गया है।

ताजा ख़बरें
जुबैर को सोमवार को सीतापुर की एक अदालत ने 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। जुबैर पर आरोप है कि उन्होंने कुछ हिंदू संतों को "घृणा फैलाने वाले" कहा था, जिस पर उनके खिलाफ सीतापुर में एफआईआर दर्ज की गई थी। दिल्ली पुलिस ने जब किसी और केस में बुलाकर किसी और केस में जुबैर की गिरफ्तारी कर ली तो वो उन्हें सीतापुर कोर्ट भी ले गई। क्योंकि वहां भी एफआईआर दर्ज है। सीतापुर में पेश किए जाने के बाद दिल्ली पुलिस जुबैर को वापस दिल्ली ले गई। जुबैर ने सीतापुर में दर्ज मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट से जमानत मांगी थी, लेकिन इलाहाबाद हाईकोर्ट ने जमानत से इनकार कर दिया। उसी मामले को अब सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है।  
1 जून को हिंदू शेर सेना सीतापुर जिला अध्यक्ष भगवत शरण की शिकायत पर जुबैर के खिलाफ आईपीसी की धारा 295ए (धार्मिक भावनाओं को आहत करने के इरादे से जानबूझकर और दुर्भावनापूर्ण कार्य) और आईटी अधिनियम की धारा 67 के तहत एफआईआर दर्ज की गई थी।

देश से और खबरें
जुबैर को 17 जून को दिल्ली पुलिस ने एक "आपत्तिजनक ट्वीट" से संबंधित मामले में गिरफ्तार किया था, जिसे उन्होंने 2018 में एक हिंदू देवता के खिलाफ पोस्ट किया था। हालांकि दिल्ली पुलिस ने उन्हें दूसरे केस में पूछताछ के लिए बुलाया था।
दिल्ली पुलिस ने जुबैर के खिलाफ नए प्रावधान - भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 120 बी (आपराधिक साजिश) और 201 (सबूत नष्ट करना) और विदेशी योगदान (विनियमन) अधिनियम की धारा 35 लागू की है। इन धाराओं को बाद में एफआईआर में जोड़ा गया।

जुबैर का मामला अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी उठ चुका है। जिसकी सभी देशों में निन्दा की गई है। यूएन महासचिव के प्रवक्ता तक ने इस मामले में चिन्ता जताई थी। जुबैर ऑल्ट न्यूज के जरिए फैक्ट चेकिंग का काम भी करते थे। उन्होंने फैक्ट चेकिंग में नेताओं तक के झूठ को कई बार पकड़ा। इसीलिए वो हुक्मरानों को चुभ रहे थे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें