loader

डोकलाम के पास चीनी घुसपैठ? सैटेलाइट तसवीरों में गांव, कारें दिखीं

एक रिपोर्ट के अनुसार उपग्रह की नयी तसवीरों से संकेत मिलता है कि डोकलाम पठार से 9 किमी पूर्व में निर्मित एक चीनी गांव पूरी तरह बस गया है। यानी उन घरों में अब लोग रहने लगे हैं। अब उपग्रह की तसवीरों के हवाले से रिपोर्ट में कहा गया है कि लगभग हर घर के दरवाजे पर कारें खड़ी हैं। जिस डोकलाम क्षेत्र में वह गांव है उसी क्षेत्र में 2017 में भारतीय और चीनी सेना का आमना-सामना हुआ था।

रिपोर्ट के अनुसार चीन उस गांव को पंगडा कहता है और वह भूटानी क्षेत्र में है। पंगडा तेजी से बहने वाली अमो चू नदी के किनारे है और यह भूटानी क्षेत्र में 10 किमी अंदर बताया जाता है। एनडीटीवी ने ख़बर दी है कि भारत के लिए अमो चू नदी के पास निर्माण का साफ़ मतलब है कि चीनी सेना को निकटवर्ती डोकलाम पठार में एक रणनीतिक रिज तक पहुंच मिल सकती है। यह उन्हें भारत के संवेदनशील सिलीगुड़ी कॉरिडोर पर नज़र रखने में मदद भी कर सकता है।

ताज़ा ख़बरें

अब एक चिंता यह है कि चीन इस वैकल्पिक माध्यम से उसी रिज के पास पहुंचकर पश्चिम में भारतीय रक्षा को भेदने की कोशिश कर सकता है। डोकलाम का यह वह इलाक़ा है जहाँ 2017 में भारतीय सैनिकों ने चीनी श्रमिकों को उस रिज पर जाने से रोक दिया था। 

डोकलाम विवाद 2017 में 16 जून से 28 अगस्त तक क़रीब ढाई महीने तक रहा था। जानकारों के अनुसार भारत-चीन-भूटान ट्राई-जंक्शन क्षेत्र के पास सड़क बनाने के चीन के प्रयास के बाद उपजी भारत और चीन के बीच शत्रुता समाप्त हो गई थी, लेकिन डोकलाम पठार के पार चीनी सेना के निर्माण कार्य को नहीं रोका जा सका। जबकि दोनों देशों के बीच आपसी सहमति है कि दोनों देश वास्तविक नियंत्रण रेखा के आसपास ऐसी कोई निर्माण की गतिविधि नहीं करेंगे। 

रिपोर्टें आती रही हैं और विशेषज्ञ भी कहते रहे हैं कि डोकलाम में चीन ने पहले घुसपैठ की थी, फिर पीछे हटा था, लेकिन उसके बाद भी वह सीमा के पास सैनिक ढाँचा खड़ा करता रहा, सड़कें बनाता रहा और अपनी स्थिति मज़बूत करता रहा। 

तो क्या डोकलाम जैसे क्षेत्रों में विवादित जगहों पर पीछे हटने के नाम पर चीन भारत को धोखा देता रहा है?

एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार मैक्सर से प्राप्त सैटेलाइट तसवीरों से संकेत मिलता है कि अमो चू नदी घाटी में एक दूसरा गांव अब लगभग पूरा हो गया है, जबकि चीन ने दक्षिण में तीसरे गांव या आवास के निर्माण को आगे बढ़ाया है। इस तीसरे गाँव के स्थल पर अमो चू के पार एक पुल का निर्माण किया गया है जिसमें खुदाई की गतिविधि स्पष्ट रूप से दिखाई दे रही है। यहां छह इमारतों की नींव दिखाई दे रही है।

ताज़ा ख़बरें

रिपोर्ट के अनुसार इन तसवीरों का विश्लेषण करने वाले इंटेल लैब के भू-स्थानिक खुफिया शोधकर्ता डेमियन साइमन ने कहा, 'इस दूरस्थ क्षेत्र की गति और विकास उल्लेखनीय है, यह रेखांकित करता है कि चीन अपनी सीमाओं का निर्विरोध विस्तार कैसे कर रहा है।' 

रिपोर्ट के अनुसार भारत के पूर्वी सेना कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल प्रवीण बख्शी (सेवानिवृत्त) कहते हैं, 'पंगडा गांव और इसके उत्तर और दक्षिण के दूसरे गाँव झाम्पेरी रिज और डोकलाम पठार पर अपनी वैधता स्थापित करने की कोशिश कर रहे चीनियों के उत्कृष्ट उदाहरण हैं। सीमा से सटे गांवों के निर्माण के लिए चीन द्वारा विवादित क्षेत्र में किए जा रहे व्यापक प्रयास क्षेत्रों पर दावों को वैधता पाने का एक तरीका है।'

सम्बंधित खबरें

सेना मुख्यालय के सूत्रों ने एनडीटीवी को बताया, 'सेना अपनी सीमाओं के साथ सभी गतिविधियों पर निरंतर और निर्बाध निगरानी रखती है, खास तौर पर वे जो देश की क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता को प्रभावित करती हैं। इसके लिए किसी भी आकस्मिकता से निपटने के लिए आवश्यक तंत्र और सुरक्षा उपाय हैं।'

रिपोर्ट के अनुसार नई दिल्ली में भूटान के राजदूत, मेजर जनरल वेत्सोप नामग्याल ने अमो चू घाटी में चीन के निर्माण की स्थिति पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। भारत के विदेश मंत्रालय ने भी नए घटनाक्रम पर कोई टिप्पणी नहीं की। हालाँकि, चीन की गतिविधियों से कई सवाल खड़े होते हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें