loader

आर्थिक मोर्चे पर एक और झटका, कॉमर्शियल सेक्टर में नकदी का प्रवाह 88% घटा

शायद ही कोई दिन ऐसा होता होगा जब अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर निराश करने वाली ख़बर न आती हो। कुछ ही दिन पहले ख़बर आई थी कि सितंबर 2019 में मोदी सरकार पर उपभोक्ताओं का भरोसा पिछले 6 सालों में सबसे निचले स्तर पर पहुंच गया है। यह भी ख़बर आई थी कि आरबीआई ने सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी वृद्धि दर में कटौती कर इसे 6.9 प्रतिशत से कम कर 6.1 प्रतिशत कर दिया है। 

अब आरबीआई के आंकड़ों से एक और निराशाजनक ख़बर सामने आई है कि अर्थव्यवस्था में चल रही सुस्ती के बीच चालू वित्त वर्ष के पहले छह महीनों के दौरान वाणिज्यिक क्षेत्र में आने वाले वित्तीय प्रवाह में लगभग 88 प्रतिशत की गिरावट आई है। इससे स्पष्ट है कि अर्थव्यस्था मंदी के दौर में प्रवेश कर चुकी है। 

ताज़ा ख़बरें

आरबीआई के ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक़, बैंकों और ग़ैर-बैंकों से वाणिज्यिक क्षेत्र में धन का प्रवाह 2019-20 में (अप्रैल से मध्य सितंबर तक) 90,995 करोड़ रुपये रहा जबकि इसी अवधि में यह पिछले साल 7,36,087 करोड़ रुपये रहा था। वाणिज्यिक क्षेत्र में खेती, विनिर्माण और परिवहन को शामिल नहीं किया गया है। आंकड़ों के मुताबिक़, वाणिज्यिक क्षेत्र से गैर-जमा वाली एनबीएफ़सी और जमा लेने वाली एनबीएफ़सी में 1,25,600 करोड़ रुपये का रिवर्स फ़्लो हुआ, जबकि पिछली अवधि में यह 41,200 करोड़ रुपये रहा था। 

आंकड़े यह भी बताते हैं कि कॉमर्शियल सेक्टर में बैंकों द्वारा होने वाला नॉन फ़ूड क्रेडिट फ़्लो भी घटकर 1,65,187 करोड़ से घटकर 93,688 करोड़ रुपये रह गया है। विदेशी स्रोतों के बीच बाहरी कॉमर्शियल उधार और फ़ॉरेन डायरेक्ट इनवेस्टमेंट (एफ़डीआई) में वृद्धि दर्ज की गयी है।

आरबीआई का कहना है कि कॉमर्शियल सेक्टर में वित्तीय प्रवाह के कम होने के पीछे मुख्य रूप से कमजोर मांग का होना है। चिंताजनक बात यह है कि रेटिंग फ़र्म क्रिसिल की एक रिपोर्ट के अनुसार कुल मिलाकर वित्त वर्ष 2020 में विकास दर कम रहने की उम्मीद है।

इसके अलावा सितंबर के जीएसटी कलेक्शन के आंकड़ों में गिरावट आई है और यह 19 महीने में सबसे ज़्यादा है। अगस्त महीने में 8 कोर सेक्‍टर की विकास दर में बड़ी गिरावट दर्ज की गई है। लेकिन इससे भी बड़ी चिंता की बात यह है कि 5 कोर सेक्टर में निगेटिव ग्रोथ हुई है। 

अर्थतंत्र से और ख़बरें
केंद्र सरकार को आरबीआई के इन आंकड़ों के आने के बाद ऐसे ठोस क़दम उठाने चाहिए जिससे यह निराशा का माहौल समाप्त हो क्योंकि पिछले काफ़ी समय से ऑटो इंडस्ट्री की ख़राब हालत, कई कंपनियों में उत्पादन कम होना, लोगों की नौकरियां जाना, जीडीपी का 5 फ़ीसद पर पहुंच जाना जैसी ख़बरें आती रही हैं। इससे पता चलता है कि अर्थव्यवस्था की हालत डांवाडोल है और ख़ुद नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार कह चुके हैं कि पिछले 70 सालों में उन्होंने नक़दी का ऐसा भयंकर संकट पहले कभी नहीं देखा। देश भर के दिग्गज उद्योगपति स्वीकार कर चुके हैं और चेता चुके हैं कि आर्थिक मोर्चे पर हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं लेकिन लगता है कि सरकार की ओर से उठाये गये तमाम क़दम नाकाफ़ी साबित हो रहे हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें