loader

तबरेज़ अंसारी मॉब लिन्चिंग: पुलिस ने फिर जोड़ी हत्या की धारा

झारखंड में बाइक चोरी के शक में रात भर खंभे से बांधकर पीटे गए तबरेज़ अंसारी की मौत के मामले में आख़िरकार पुलिस को सही रास्ते पर आना ही पड़ा। कुछ दिन पहले जब तबरेज़ की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई थी तो लोग चौंक गये थे। रिपोर्ट में कहा गया था कि तबरेज़ की मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई थी न कि भीड़ के द्वारा की गई पिटाई से। इसके अलावा इसी महीने की 10 सितंबर को पुलिस ने इस मामले में 11 अभियुक्तों पर से भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 302 यानी हत्या की धारा को भी हटा दिया था। लेकिन अब पुलिस ने तबरेज़ की मौत के मामले में हत्या की धारा फिर से जोड़ दी है। पुलिस ने तबरेज़ को पीटे जाने के वीडियो को भी सही पाया है। 

पुलिस ने मामले में बुधवार को फिर से चार्जशीट दाख़िल की है और इसमें ताज़ा मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर ही हत्या की धारा को फिर से जोड़ा गया है। इससे पहले पुलिस ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा था कि तबरेज़ अंसारी की हत्या सोच-समझकर या जानबूझकर नहीं की गई थी। पुलिस ने इस मामले में दो और लोगों के ख़िलाफ़ चार्जशीट दाख़िल की है और उन पर भी हत्या की धारा लगाई गई है। 

ताज़ा ख़बरें
पुलिस द्वारा हत्या की धारा हटाये जाने के बाद तबरेज़ की पत्नी शाइस्ता परवीन ने इस मामले की जाँच सीबीआई से कराने की माँग की थी और कहा गया था कि प्रशासन के दबाव में हत्या की धारा हटाई गई है। 
तबरेज़ को झारखंड के सरायकेला-खरसावां इलाक़े में भीड़ ने पीटा था। यह घटना 18 जून की थी और 22 जून को अस्पताल में उसकी मौत हो गई थी। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर ख़ूब वायरल हुआ था और तबरेज़ की हत्या के विरोध में देश भर में प्रदर्शन हुए थे।

भीड़ ने तबरेज़ से ‘जय श्री राम’ और ‘जय हनुमान’ के नारे भी लगवाए थे। अंसारी की पत्नी शाइस्ता परवीन की ओर से इस मामले में हत्या का मुक़दमा दर्ज कराया गया था जबकि पुलिस ने भी इस मामले में आईपीसी की धारा 304 (ग़ैर इरादतन हत्या) के तहत मुक़दमा दर्ज किया था। लेकिन जब पुलिस ने हत्या की धारा को हटा दिया था तो यह सवाल उठा था कि पुलिस आख़िर क्यों तबरेज़ की हत्या के अभियुक्तों को बचाने की कोशिश कर रही है। 

एक अधिकारी ने हत्या के आरोपों को सही ठहराते हुए न्यूज़ एजेंसी पीटीआई को बताया कि पुलिस ने इस मामले में विशेषज्ञ डॉक्टरों से भी राय ली क्योंकि इससे पहले आई मेडिकल रिपोर्ट में यह साफ़ नहीं था कि तबरेज़ की मौत हृदय गति रुकने से हुई है। 

अब जो ताज़ा मेडिकल रिपोर्ट आई है, उसके मुताबिक़ डॉक्टरों ने पाया कि हड्डियाँ किसी कठोर चीज से चोट लगने के कारण टूटी हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि तबरेज़ को दिल का दौरा उसे हड्डियों में लगी चोट और हृदय में ख़ून एकत्रित होने के कारण पड़ा। 

झारखंड से और ख़बरें

तबरेज़ के अभियुक्तों से हत्या की धारा हटाये जाने के बाद सरायकेला-खरसावां के एसपी कार्तिक एस. ने अंग्रेजी अख़बार ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ से बातचीत में कहा था, ‘हमने आईपीसी की धारा 304 के तहत चार्जशीट दो कारणों से दाख़िल की थी। पहला कारण यह कि तबरेज़ की मौत घटनास्थल पर नहीं हुई थी और ग्रामीणों का अंसारी की हत्या करने का कोई इरादा नहीं था। दूसरा कारण यह कि तबरेज़ की मेडिकल रिपोर्ट में हत्या की पुष्टि नहीं हुई थी।’ एसपी ने अख़बार से कहा था, ‘फ़ाइनल पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक़, अंसारी की मौत दिल का दौरा पड़ने से और सिर से ख़ून बहने के कारण हुई लेकिन सिर की यह चोट जानलेवा नहीं थी।’

संबंधित ख़बरें

तबरेज़ अंसारी की मौत की जाँच के मामले में पुलिस का रवैया शुरू से ही सवालों के घेरे में रहा है। क्योंकि पुलिस ने हिरासत के दौरान तबरेज़ का मोटरसाइकिल चोरी करने का कबूलनामा तो दर्ज कर लिया था लेकिन भीड़ के द्वारा उसे पीटे जाने को लेकर एक भी लाइन एफ़आईआर में नहीं लिखी थी। तब इसे लेकर बहुत हैरानी हुई थी कि आख़िर ऐसा कैसे हो सकता है क्योंकि तबरेज़ को भीड़ द्वारा बेरहमी से पीटे जाने का वीडियो तो सोशल मीडिया पर वायरल हो चुका है। 

अब जब पुलिस ने फिर से हत्या की धारा जोड़ दी है तो यह उम्मीद जगी है कि तबरेज़ को इंसाफ मिलेगा और उसके गुनाहगारों को सजा। क्योंकि तबरेज़ के परिजन आरोप लगा चुके हैं कि इस मामले को जानबूझकर कमज़ोर किया जा रहा है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

झारखंड से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें