loader
स्पेशल डीजी पुरूषोत्तम शर्मा। फ़ोटो क्रेडिट- https://www.sarkarimirror.com/

मध्य प्रदेश: स्पेशल डीजी ने पत्नी को बेरहमी से पीटा, सरकार ने पद से हटाया

मध्य प्रदेश के एक स्पेशल डीजी के ख़िलाफ़ पत्नी के साथ कथित तौर पर बेरहमी से पिटाई और घरेलू हिंसा का मामला दर्ज हुआ है। सोमवार को मामला प्रकाश में आते ही राज्य सरकार ने इस अफसर को अभियोजन विंग से हटाकर जांच बैठा दी है।

स्पेशल डीजी का नाम पुरूषोत्तम शर्मा है और उनकी पत्नी ने उन पर घरेलू हिंसा का आरोप लगाया है। शर्मा भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के 1986 बैच के अफसर हैं। डीजी द्वारा पत्नी की बेरहमी से पिटाई करने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है।

जानकारी के अनुसार, पुरूषोत्तम शर्मा के आईआरएस बेटे ने अपनी मां के साथ मारपीट से जुड़ा यह वीडियो बनाया और वायरल किया है। बेटे ने यह वीडियो राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस और पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी को भी भेजा है।

ताज़ा ख़बरें

पिटाई से जुड़े वीडियो (सत्य हिन्दी डाॅट काॅम इसकी पुष्टि नहीं करता है) में शर्मा अपनी पत्नी से गुत्थम-गुत्था हैं और मारपीट कर रहे हैं। मारपीट शर्मा के घर में ही हो रही है। वीडियो में दो अन्य लोग भी नजर आ रहे हैं। इन्हें शर्मा का स्टाफ़र बताया जा रहा है। हैरान-परेशान कथित स्टाफर कई बार बीच बचाव करते भी दिखलाई पड़ रहे हैं।

किस्सा- पति-पत्नी और ‘वो’ का

अफसर शर्मा की पत्नी के आरोपों के अनुसार, घरेलू हिंसा उनके पति के कथित तौर पर एक अन्य महिला से अफ़ेयर को लेकर आपत्ति जताने की वजह से हो रही है। उनका यह भी आरोप है कि एक अन्य महिला के साथ रंगे हाथों पकड़ लिये जाने पर पति ने बर्बरता के साथ उनकी पिटाई की। घरेलू हिंसा के वीडियो के अलावा करीब सात मिनट का एक दूसरा वीडियो भी वायरल हुआ है। 

इस दूसरे वीडियो में पुलिस अफ़सर की पत्नी एक फ्लैट में पहुंची हुई हैं। तमाम मशक्कत करते हुए वह फ्लैट का दरवाजा खुलवाती हैं। फ्लैट में पति एक अन्य महिला के साथ मिलते हैं। दोनों (पति-पत्नी) के बीच कहासुनी होती है। बुरी तरह तमतमाये पुरूषोत्तम शर्मा उस फ्लैट से निकल जाते हैं।

श्रीमती शर्मा उस दूसरी महिला से भी तमाम सवाल-जवाब करती हैं। उससे अपना बेडरूम दिखाने के लिए कहती हैं। महिला बेडरूम दिखाती है। श्रीमती शर्मा की तमाम आशंकाओं को महिला निर्मूल बताती है। इस फ़्लैट से निकलने से पहले श्रीमती शर्मा अपने पति को रंगे हाथों पकड़ लेने का दावा भी करती हैं।

कोई अपराध नहीं किया: शर्मा

आईपीएस अफसर पुरूषोत्तम शर्मा ने सोमवार सुबह मीडिया से बातचीत में कहा, ‘मैंने कोई अपराध नहीं किया है। मामला पारिवारिक है। मैं और पत्नी संपर्क में हैं। खुद मसले को सुलझा लेंगे।’

मारपीट से जुड़े वायरल वीडियो के बारे में पूछे जाने पर शर्मा ने कहा, ‘मैंने कोई मारपीट नहीं की। सिर्फ धक्का-मुक्की और झूमा-झटकी हुई। सेल्फ डिफेंस करते हुए यह सब हुआ।’

वीडियो वायरल होने के सवाल पर पुरूषोत्तम शर्मा ने कहा, ‘वीडियो वायरल क्यों किया? इसका खुलासा तो मेरी पत्नी और बेटा ही कर सकता है। मेरी पत्नी ने पूरे घर में सीसीटीवी कैमरे लगा रखे हैं। मैं जहां जाता हूं, पत्नी मेरा पीछा करती है। मुझे स्टाॅक करती है।’

2008 में भी हुआ था विवाद

पुरूषोत्तम शर्मा का यह पारिवारिक विवाद पुराना है। साल 2008 में भी उनकी पत्नी ने उन पर घरेलू हिंसा का आरोप लगाते हुए शिकायतें कीं थीं। बाद में दोनों के बीच सुलह हो गई थी। अब 12 साल बाद दोनों के बीच ‘वो’ (अन्य महिला) से जुड़ा एक नया विवाद सुर्खियों में है।

पुरूषोत्तम शर्मा ने मीडिया से बातचीत में यह भी कहा, ‘अगर वह (पत्नी) मुझसे इतनी नाराज हैं तो मेरे साथ क्यों रहती हैं? मेरे पैसे का उपयोग और मेरे पैसों पर विदेश यात्राएं क्यों करती हैं? आज 12 साल बाद उन्हें मुझसे फिर तकलीफ क्यों हो गई है?’ वे आगे कहते हैं, ‘यह सब दुर्भाग्यपूर्ण है।’

मध्य प्रदेश से और ख़बरें

पत्नी पहुंचीं राज्य महिला आयोग

सोमवार दोपहर पुरूषोत्तम शर्मा की पत्नी महिला आयोग पहुंच गईं। घरेलू हिंसा का आरोप लगाते हुए उन्होंने आयोग से सुरक्षा की गुहार लगाई है। राज्य महिला आयोग ने स्पेशल डीजी के ख़िलाफ़ घरेलू हिंसा और पत्नी से मारपीट का मामला दर्ज कर लिया है।

आयोग की अध्यक्ष शोभा ओझा ने मीडिया से कहा है, ‘स्पेशल डीजी सरीखे अहम पद पर तैनात अफसर का कृत्य बेहद शर्मनाक और अक्षम्य अपराध है। राज्य सरकार को बिना देर किये उनके ख़िलाफ़ सख्त कार्रवाई करनी चाहिए।’ उधर, श्रीमती शर्मा ने पुलिस में भी पूरे मामले की शिकायत की है। संकेत हैं कि डीजी शर्मा पर पुलिस आपराधिक मुकदमा कायम करेगी।

राज्य सरकार ने दोपहर को एक आदेश जारी करते हुए पुरूषोत्तम शर्मा को लोक अभियोजन पद से हटा दिया है। गृह विभाग ने इस आशय के आदेश जारी कर दिये हैं। शर्मा को फिलहाल कोई नई पदस्थापना नहीं दी गई है। इससे पहले प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा था कि उन्हें इस घटना की सूचना मिली है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें