loader

असम पंचायत चुनावों में बीजेपी और पार्टनर एजीपी में जंग

असम के पंचायत चुनावों में एक विचित्र स्थिति दिख रही है। यहाँ बीजेपी और एजीपी जो मिल कर सरकार चला रहे हैं, पंचायत चुनावों में एक-दूसरे पर हमला कर रही हैं। असम में पंचायत चुनाव के पहले चरण के लिए 5 दिसंबर को मतदान हो चुका है और दूसरे चरण का मतदान 9 दिसंबर को होगा।  

पहले गठबंधन, अब हमला

बीजेपी ने असम के विधानसभा चुनाव के दौरान असम गण परिषद (एजीपी) के साथ गठबंधन किया। बीजेपी बिग ब्रदर बनी, उसने एजीपी को कम सीटें दीं और ज़्यादा अपने पास रखीं। बीजेपी को अकेले ही बहुमत के लायक सीटें मिली हैं। अब पंचायत चुनाव में बीजेपी जमकर एजीपी पर हमला कर रही है। एजीपी, बीजेपी के साथ सरकार में भी है। लेकिन यह गठबंधन कब टूट जाए, कहा नहीं जा सकता।
Votes in Panchayat Election Assam bjp attacking  Asom Gana Parishad - Satya Hindi

विधेयक के विरोध में है अगप

एजीपी प्रस्तावित नागरिकता संशोधन विधेयक के ख़िलाफ़ है। वह सरकार में रहते हुए विधेयक का विरोध कर रही है जबकि बीजेपी इसके पक्ष में है। वह धर्म के आधार पर विभाजित कर इस विधेयक के जरिए हिंदुओं को नागरिकता देने के पक्ष में है। लेकिन असम समझौते के ज़रिए सत्ता में आई एजीपी इसका विरोध कर रही है। असम के राजनीतिक दल और संगठन इस विधेयक का विरोध कर रहे हैं। एजीपी और इन दलों-संगठनों का कहना है कि यदि विधेयक को पारित कर दिया गया तो असम समझौते का कोई अर्थ नहीं रह जाएगा। असम समझौते के अनुसार 24 मार्च 1971 के बाद असम आए सभी लोगों को जाना होगा। असम और विदेशियों का बोझ नहीं उठा सकता।

एजीपी के ख़िलाफ़ खोला मोर्चा

बीजेपी को लगता है कि विधेयक का विरोध करने के चलते अगप की स्थिति सृदृढ़ होगी। इसलिए उसने पंचायत चुनाव में ही एजीपी के ख़िलाफ़ मोर्चा खोल दिया है। आने वाले लोकसभा चुनाव के पहले ज़मीनी स्तर पर क़ब्ज़ा करने के लिए बीजेपी ने पूरी ताकत झोंक दी है। पंचायत चुनाव का प्रचार हेलिकॉप्टरों से किया जा रहा है।  
मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल और डॉ. हिमंत विश्वशर्मा हेलिकॉप्टरों से प्रचार कर रहे हैं। एक घंटे तक हेलिकॉप्टर उड़ाने के लिए लगभग एक लाख रुपये का ख़र्च आता है। ऐसे में अनुमान लगाया जा सकता है कि बीजेपी पंचायत चुनाव पर कितना ख़र्च कर रही है।
पूर्व मुख्यमंत्री तथा एजीपी के संस्थापक अध्यक्ष रहे प्रफुल्ल कुमार महंत कहते हैं कि इससे भ्रष्टाचार ही बढ़ेगा। पूर्व मुख्यमंत्री तथा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता तरुण गोगोई का कहना है कि बीजेपी के पास हेलिकॉप्टरों से प्रचार के लिए पैसे कहाँ से आ रहे हैं।

बीजेपी की स्थिति कमज़ोर

पंचायत चुनाव में वैसे तो बीजेपी की स्थिति कमज़ोर लगती है क्योंकि खुद मुख्यमंत्री सोनोवाल को अपने विधानसभा क्षेत्र माजुली में एक ही दिन में सात सभाएँ करनी पड़ी हैं। सोनोवाल ने पूरी ताकत झोंक दी है। मुख्यमंत्री सोनोवाल अब तक अपनी सहयोगी पार्टी एजीपी पर कुछ नहीं बोले थे। लेकिन पंचायत चुनाव में उन्होंने हिमंत के एजीपी पर हमला करने के बाद ख़ुद भी हमला तेज़ कर दिया है। ढाई साल में राज्य सरकार का ग्राफ़ तेज़ी से नीचे गिरा है। भ्रष्टाचार के मामलों में कार्रवाई करने के वादे से आई सरकार ने कुछ मामलों में कार्रवाई कर चमक पैदा की तो कई अन्य मामलों में उसकी भूमिका संदिग्ध रही। यदि पंचायत चुनाव में बीजेपी की लोकप्रियता राज्य में घट गई तो उसकी सरकार में लोकसभा चुनाव से पहले नेतृत्व परिवर्तन देखने को मिलेगा। उसे प्रस्तावित नागरिकता संशोधन विधेयक के मामले में भी अपने रुख में बदलाव करना पड़ेगा।

अल्फ़ा में शामिल हो रहे युवा

बीजेपी सरकार के शासन में राज्य के उग्रवादी फिर सक्रिय हो रहे हैं। विधेयक के ख़िलाफ़ राज्य में विरोध और केंद्र की लचर भूमिका को देखते हुए युवक-युवतियाँ अल्फ़ा में शामिल हो रहे हैं। हत्याओं, अपहरणों और बम विस्फोटों का दौर फिर से आ गया है। यह 90 के उग्रवाद प्रभावित असम की याद दिलाता है। इन सब वज़हों से लोगों का बीजेपी के प्रति राज्य में मोहभंग होता दिख रहा है। पर पाँच राज्यों के चुनाव के नतीजों के एक दिन बाद यानी 12 दिसंबर को पंचायत चुनाव के नतीजे आएँगे। इससे साफ़ होगा कि लोग बीजेपी के पक्ष में हैं या नहीं। यदि इसमें एजीपी की स्थिति सुदृढ़ नहीं हुई तो वह एक बार फिर बीजेपी के दबाव में उसके साथ लोकसभा चुनाव के लिए तालमेल कर लेगी। इस तरह उसका अस्तित्व ही ख़त्म हो जाएगा। पर एजीपी ने अच्छा प्रदर्शन किया तो लोकसभा चुनाव में वह अकेले मैदान में उतरेगी। इससे राज्य में एक बार फिर लंबे समय बाद क्षेत्रीय दलों का उज्जवल भविष्य दिखेगा।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राज्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें