loader

इंग्लैंड में डीजल-पेट्रोल मुक्त कार भारत के लिए भी ख़ुशख़बरी!

इंग्लैंड की एक ख़बर भारत में इलेक्ट्रिक कार की संभावनाओं के द्वार खोल सकती है। इलेक्ट्रिक कार यानी डीजल-पेट्रोल की बेतहाशा बढ़ती क़ीमतों और ज़हरीले धुएँ से मुक्ति। वैसे, भारत में भी इलेक्ट्रिक कारें चलती हैं लेकिन लंबी दूरी जाने पर चार्जिंग की बड़ी समस्या और ऐसी ही दूसरी समस्याएँ इसकी बढ़ती संभावनाओं के आड़े आ जाती हैं। इन्हीं समस्याओं के समाधान की राह इंग्लैंड ने दिखाई है। 2030 से पूरे इंग्लैंड में डीजल-पेट्रोल की नयी कारें व वैन नहीं बेची जा सकेंगी। यानी इंग्लैंड ने इसके लिए तैयारी पूरी कर ली है। इंग्लैंड ने यह सब कैसे किया और क्या भारत में यह संभव है? 

ख़ास ख़बरें
भारत में क्या है स्थिति, यह जानने से पहले इंग्लैंड में क्या हुआ है यह जान लीजिए। इंग्लैंड के प्रधानमंत्री बॉरिस जॉनसन ने घोषणा की है कि 2030 से इंग्लैंड में नई कारें या वैन डीजल-पेट्रोल वाली नहीं बेची जा सकेंगी। हालाँकि इसमें हाइब्रिड कारों को मंजूरी दी जा सकेगी। हाइब्रिड कारों से मतलब है- इलेक्ट्रिक कारों में ही डीजल-पेट्रोल की वैकल्पिक व्यवस्था। जॉनसन का यह फ़ैसला 'ग्रीन इंडस्ट्रीयल रिवॉल्यूशन' यानी 'हरित औद्योगिक क्रांति' योजना के तहत है। 

इंग्लैंड की इस योजना को दरअसल 2040 के आसपास लागू किया जाना था, लेकिन बॉरिस जॉनसन सरकार ने इसे एक दशक पहले ही लागू करने की घोषणा कर दी। इससे कार मालिकों से लेकर कार चालकों और कार निर्माताओं में कई सवाल उठे। बिल्कुल उसी तरह से जैसे भारत में यदि कोई व्यक्ति इलेक्ट्रिक कार ख़रीदने जाएगा तो उसके दिमाग़ में सवाल उठेगा। 

  1. एक बार चार्ज करने पर कार कितने किलोमीटर चलेगी?
  2. ज़्यादा दूरी चलाना हो तो बीच रास्ते में कैसे चार्ज की जा सकेगी?
  3. कितने घंटे में गाड़ी को चार्ज किया जा सकेगा? 
  4. चार्ज करने में कितना ख़र्च आएगा, गाड़ी कितनी महंगी होगी?

यही वे सवाल हैं जिससे दुनिया के किसी भी देश में अभी तक डीजल-पेट्रोल की कारों या वैन पर प्रतिबंध नहीं लग पाया है। यानी इलेक्ट्रिक कार सड़कों पर नहीं के बराबर ही दिखती हैं। 

इंग्लैंड ने इन समस्याओं के समाधान के लिए योजना बनाई है। इस योजना में सबसे बड़ी समस्या है चार्जिंग की। सरकार इसके लिए इंफ़्रास्ट्रक्चर विकसित करेगी।

चार्जिंग प्वाइंट

सड़कों पर चार्जिंग प्वाइंट लगाए जा रहे हैं। इंग्लैंड में फ़िलहाल 30 हज़ार से ज़्यादा चार्जिंग प्वाइंट हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार इंग्लैंड में इतने डीजल-पेट्रोल पंप भी नहीं हैं। कई इलेक्ट्रिक कारों में पहले से ही ऐप इंस्टॉल की हुई रहती हैं जो बताती हैं कि सबसे नज़दीकी कौन सी जगह पर चार्जिंग प्वाइंट उपलब्ध है। सार्वजनिक के साथ-साथ निजी कंपनियों के भी चार्जिंग प्वाइंट हैं जहाँ पर चार्जिंग का भुगतान कर कारों को चार्ज किया जा सकता है। कुछ चार्जिंग प्वाइंट हैं कि आधे से पौने एक घंटे में फुल चार्ज कर देते हैं। 

england to ban new petrol and diesel cars from 2030, electric cars are future - Satya Hindi

इन कारों को घर पर भी चार्ज किया जा सकता है। कारों और इसके आकार की बैट्री के अनुसार इसको चार्ज करने में अलग-अलग समय लगता है। घर में इस्तेमाल होने वाले चार्जिंग प्वाइंट में कार को चार्ज करने पर 14 से 24 घंटे तक लग सकते हैं। जल्द चार्जिंग के लिए चार्जिंग प्वाइंट इंस्टॉल करने पर काफ़ी पैसे ख़र्च होते हैं। इंग्लैंड सरकार की योजना है कि ऐसे प्वाइंट इंस्टॉल करने पर 75 फ़ीसदी सरकार ख़र्च उठाएगी। ये चार्जिंग प्वाइंट 12 घंटे में पूरी बैट्री चार्ज कर देंगे। 

भारत में भी इलेक्ट्रिक वाहन की योजना

फ़रवरी महीने में ऑटो एक्सपो 2020 का उद्घाटन करते हुए केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा था कि आने वाले दिनों में भारत दुनिया का सबसे बड़ा इलेक्ट्रिक वाहन बनाने वाला देश होगा। नितिन गडकरी का इलेक्ट्रिक वाहनों के इस्तेमाल पर काफ़ी ज़ोर रहा है और वह इसके प्रति काफ़ी सक्रिय रहे हैं। उन्होंने 2017 में ही कार निर्माता कंपनियों को कहा था कि 2030 तक इलेक्ट्रिक कार ती तरफ़ स्विच करें। उन्होंने चार्जिंग स्टेशनों की योजना और इलेक्ट्रिक वाहन नीति लाने की बात की थी। 

नितिन गडकरी ने तो उस दौरान यहाँ तक चेतावनी दे दी थी कि यदि इस दौरान कंपनियों ने इलेक्ट्रिक कार का उत्पादन नहीं बढ़ाया तो तेल पीने वाली और धुआँ उगलने वाली कारों पर बुल्डोजर चलवा दिया जाएगा।

फ़िलहाल, भारत में भी इलेक्ट्रिक कारें बिक रही हैं, लेकिन ये चलन में उतनी ज़्यादा नहीं हैं। बेंगलुरु में इलेक्ट्रिक कारों का चलन बढ़ा है। देश के दूसरे हिस्सों में भी अब धीरे-धीरे इलेक्ट्रिक कारों के प्रति लोगों का ध्यान गया है लेकिन चार्जिंग की समस्या और एक बार चार्ज किए जाने पर सीमित दूरी तक चलने के कारण इसके प्रति वैसा आकर्षण नहीं हो पा रहा है। दुनिया भर में कार बनाने वाली कंपनियाँ इस मामले में अनुसंधान कर रही हैं।

england to ban new petrol and diesel cars from 2030, electric cars are future - Satya Hindi

एक दिक्कत यह भी है कि इलेक्ट्रिक कारों की क़ीमतें भी अपेक्षाकृत ज़्यादा हैं। हालाँकि क़रीब 25 लाख रुपये तक के ख़र्च में भी अब ऐसी कारें मिल जा रही हैं। 

इलेक्ट्रिक कारों की सबसे ख़ास बात यह है कि डीजल-पेट्रोल की अपेक्षा इसकी यात्रा काफ़ी किफायती है। एक अनुमान है कि भारत में सामान्य कारें क़रीब 20 किलोमीटर का एवरेज देती हैं। अब यदि 80 रुपये प्रति लीटर पेट्रोल हो तो 320 रुपये में 60 किलोमीटर पहुँचा जा सकता है। अब इलेक्ट्रिक कार पर आने वाले ख़र्च को देखें। महिंद्रा ई2ओ को चार्जिंग के लिए कंपनी दावा करती है कि फुल चार्ज होने के लिए 10 यूनिट बिजली चाहिए होती है। 4 रुपये प्रति यूनिट की दर से 40 रुपये ख़र्च होंगे। क़रीब-क़रीब इतने ही ख़र्च दूसरी कंपनियों के वाहनों पर भी आएँगे।

अब यदि इस नफ़ा-नुक़सान को छोड़ दें तो इलेक्ट्रिक कारों का सबसे अव्वल फ़ायदा तो यह होगा कि इंसानों को ज़िंदा रहने के लिए ज़रूरी साफ़ हवा को बनाए रखने में मदद मिलेगी। इससे बेहतर और क्या हो सकता है!

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विविध से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें