loader

मोदी की रैली में भीड़ कम थी तो बेनीवाल की रैली का फ़ोटो दिखाया

ऋषि बागड़ी एक मोदीभक्त हैं। इतने बड़े भक्त कि ट्विटर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी उनको फ़ॉलो करते हैं।अब इतने बड़े भक्त ने जब देखा कि राजस्थान में मोदी की रैली में बहुत कम लोग जुट रहे हैं तो उन्होंने मोदी की ख़बर के साथ पुराने फ़ोटो लगा दिए। ये फ़ोटो 2013 के थे जब वाक़ई मोदी को सुनने के लिए भारी भीड़ जुटती थी। इतना ही नहीं, उन्होंने बीजेपी से अलग हुए हनुमान बेनीवाल की रैली के फ़ोटो को भी मोदी की रैली की तस्वीर बता डाला। आइए, नीचे हम पूरा मामला समझते हैं कि कब और क्या हुआ।बागड़ी ने 4 दिसंबर, 2018 को तीन फ़ोटो के साथ ट्वीट किया। इस ट्वीट में उन्होंने दावा किया कि जोधपुर में प्रधानमंत्री की चुनावी रैली में भारी भीड़ आई। बागड़ी ने लिखा कि जोधपुर (अशोक गहलोत के गढ़) के इन फ़ोटो ने कांग्रेस नेतृत्व को ज़ोर का झटका दिया है। उन्होंने लिखा कि राज्य में कांग्रेस और बीजेपी के बीच चुनावी मुक़ाबला बराबरी (50-50) का हो गया है जिसमें पहले कांग्रेस की जीत तय मानी जा रही थी। नीचे देखें बागड़ी के ट्वीट का फ़ोटो। मूल ट्वीट को अब डिलीट कर लिया गया है।
fake photo used pm modi rally in jodhpur - Satya Hindi
बागड़ी के ट्वीट के बाद कई लोगों ने ट्विटर पर दावा किया कि ये फ़ोटो 3 दिसंबर 2018 को जोधपुर में हुई मोदी की रैली के नहीं बल्कि साल 2013 में हुई रैली के है।
fake photo used pm modi rally in jodhpur - Satya Hindi

पहले फ़ोटो की पड़ताल

इस फ़ोटो को भाजपा IT सेल के इंचार्ज अमित मालवीय ने 29 नवंबर 2013 को ट्वीट किया था। इस फ़ोटो को आप ऊपर बागड़ी के ट्वीट के दूसरे फ़ोटो से मिलाएँ। भीड़ के बीच दो सफ़ेद गाड़ियाँ है। बीच में एक लंबा-सा पोल है। हूबहू एक जैसी हैं दोनों तसवीरें।

दूसरे फ़ोटो की पड़ताल

बागड़ी ने जो दूसरा फ़ोटो पोस्ट किया है, उसमें बस ऐंगल अलग है। दूसरा फ़ोटो भी कई सोशल मीडिया यूज़र्स ने 30 नवंबर 2013 को ट्वीट किया था। आप दोनों फ़ोटो को देखें। पीली शर्ट पहने एक लंबा-सा व्यक्ति दोनों तस्वीरों में सामने खड़ा है। 
fake photo used pm modi rally in jodhpur - Satya Hindi

तीसरे फ़ोटो की पड़ताल

एक सोशल मीडिया यूज़र के अनुसार, तीसरा फ़ोटो राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संस्थापक हनुमान बेनीवाल द्वारा आयोजित की गई किसान हुंकार रैली के विडियो का फ़ीचर्ड फ़ोटो है। इसे 29 जनवरी 2018 को यूट्यूब पर पोस्ट किया गया था। किसान हुंकार रैली, बाड़मेर का विडियो इन्टरनेट पर पहले से उपलब्ध है और इसका फ़ीचर्ड फ़ोटो बागड़ी द्वारा पोस्ट किए गए फ़ोटो जैसा ही है।
fake photo used pm modi rally in jodhpur - Satya Hindi
आपने देखा, ऋषि बागड़ी ने जो फ़ोटो पोस्ट किए हैं, उनमें से पहले दो फ़ोटो पीएम मोदी की साल 2013 की रैली के हैं न कि 3 दिसंबर 2018 को हुई रैली की। तीसरा फ़ोटो विधायक हनुमान बेनीवाल की किसान हुंकार रैली के विडियो से लिया गया फ़ोटो है।बीजेपी समर्थकों की इस जालसाज़ी से साफ़ लगता है कि बीजेपी की हालत राजस्थान में बहुत ही पतली है और उसे तगड़ा दिखाने के लिए वे झूठ का सहारा ले रहे हैं।(यह सामग्री और जानकारी हमने Altnews.in से ली है।)

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

असत्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें