loader

बीजेपी के निशाने पर है नेहरू-गांधी परिवार?

हरियाणा की बीजेपी सरकार द्वारा राज्य में गांधी-नेहरू परिवार द्वारा कथित रूप से जब्त की गई संपत्तियों की जांच का आदेश देने के बाद यह सवाल एक बार फिर खड़ा हुआ है कि क्या गांधी-नेहरू परिवार बीजेपी शासित केंद्र और राज्य सरकारों के निशाने पर है। 

हरियाणा सरकार ने अपने विभागों से कहा है कि वे इस संबंध में जांच शुरू करें और गांधी-नेहरू परिवार की संपत्तियों की सूची तैयार करें। 

हरियाणा में हर बार विधानसभा चुनाव या लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गाधी वाड्रा के पति रॉबर्ट वाड्रा की ज़मीनों का मामला उछाला जाता है। लेकिन खट्टर सरकार आज तक वाड्रा के ख़िलाफ़ कोई ठोस कार्रवाई नहीं कर सकी है। 

ताज़ा ख़बरें

राजनीतिक पैंतरा?

पिछले विधानसभा चुनाव में बहुमत से कुछ सीटें दूर रही बीजेपी को हरियाणा में बनी नई-नवेली जननायक जनता पार्टी के साथ मिलकर सरकार चलानी पड़ रही है। बहुमत के लिए दूसरी पार्टियों के विधायकों पर डोरे डाल रही बीजेपी ने सोनीपत जिले की बरौदा सीट पर होने वाले उपचुनाव को देखते हुए तो कहीं यह दांव नहीं खेला है। 

हरियाणा में रॉबर्ट वाड्रा की ज़मीनों को लेकर बीजेपी की ओर से लगाए जाने वाले तमाम आरोप राजनीतिक बयानबाजियों तक ही सिमटे रह गए। 

राजस्थान में 2018, नवंबर तक बीजेपी की सरकार रहने के दौरान भी रॉबर्ट वाड्रा की ज़मीनों के मामले को लेकर तमाम ख़बरें आती रहीं लेकिन वहां भी सरकार इस मामले में सिर्फ़ राजनीतिक बयानबाज़ी तक ही सीमित रह गई। 

इसके अलावा इस महीने की शुरुआत में केंद्र सरकार ने प्रियंका गांधी वाड्रा से कहा था कि वह नई दिल्ली में उन्हें मिला सरकारी बंगला 1 अगस्त को खाली कर दें। पिछले साल सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका की एसपीजी सुरक्षा भी वापस ले ली गई थी। 

एसोसिएट जर्नल्स लिमिटेड (एजेएल) को गुड़गांव में अलॉट किया गया एक और प्लॉट भी हरियाणा सरकार की जांच के घेरे में है। ईडी पहले ही हरियाणा के पंचकुला में एक विवादित प्लॉट को जब्त कर चुकी है। एजेएल का नियंत्रण गाँधी परिवार के हाथ में है। 

आरोप है कि हुड्डा ने यह प्लॉट एजेएल को 23 साल पुरानी क़ीमतों पर 2005 में मुख्यमंत्री रहते हुए दिया था। हालांकि हुड्डा ने क़ीमतों में गड़बड़ी के आरोपों से इनकार किया था।

हरियाणा से और ख़बरें

इससे पहले सीबीआई, ईडी जैसी बड़ी एजेंसियां वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी. चिदंबरम के पीछे लगी रहीं और उन्हें कई दिन जेल में गुजारने पड़े। 

क़रीबी भी निशाने पर 

गांधी-नेहरू परिवार के अलावा राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के भाई के ठिकानों पर हाल में छापेमारी, कर्नाटक कांग्रेस के अध्यक्ष डीके शिवकुमार, वरिष्ठ कांग्रेस नेता अहमद पटेल, उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत, हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के ख़िलाफ़ भी जांच एजेंसियां समय-समय पर छापेमारी करती रही हैं। 

कांग्रेस के इन तमाम पुराने नेताओं और गांधी-नेहरू परिवार के करीबी समझे जाने वालों के ख़िलाफ़ कार्रवाई को लेकर तमाम सवाल भी उठते रहे हैं। 

राजीव गांधी फ़ाउंडेशन की जांच 

इसी महीने की शुरुआत में गृह मंत्रालय ने राजीव गांधी फ़ाउंडेशन (आरजीएफ़) और गांधी परिवार से जुड़े दो अन्य ट्रस्ट को हुई फ़ंडिंग की जांच में सहायता के लिए एक कमेटी बनाई थी। केंद्र सरकार ने कहा था कि यह कमेटी आरजीएफ़ के अलावा राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट और इंदिरा गांधी मेमोरियल ट्रस्ट द्वारा भी प्रीवेंशन ऑफ़ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए), इनकम टैक्स एक्ट और फॉरेन कांट्रीब्यूशन रेग्युलेशन एक्ट (एफ़सीआरए) के कथित रूप से कानूनी प्रावधानों के उल्लंघन के आरोपों की जांच करेगी। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
पवन उप्रेती
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

हरियाणा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें