loader

कोरोना की दूसरी लहर कितनी घातक? सरकारी आँकड़ों से ही जानिए

कोरोना संकट की गंभीरता हर रोज़ 4 लाख से ज़्यादा पॉजिटिव केस आने और क़रीब 4 हज़ार मौतों से तो पता चलती ही है, लेकिन अब सरकार ने गंभीर मरीज़ों सहित कोरोना से जुड़े जो आँकड़े जारी किए हैं, वे क्या संकेत देते हैं? क्या कोरोना पहली लहर से ज़्यादा घातक है? इन आँकड़ों से ख़ुद अंदाज़ा लगाइए। क़रीब 50 हज़ार कोरोना मरीज़ आईसीयू में हैं। 14 हज़ार 500 वेंटिलेटर पर हैं। और 1.37 लाख मरीज़ ऑक्सीज़न सपोर्ट पर हैं। ये आँकड़े स्वास्थ्य मंत्रालय ने ही शनिवार को जारी किए हैं। हालाँकि रिपोर्ट में यह साफ़ नहीं किया गया है कि कितने मरीज़ आईसीयू में भर्ती होने की स्थिति में हैं लेकिन उन्हें बेड नहीं मिल पा रहा है, कितने मरीज़ों को वेंटिलेटर की ज़रूरत है और कितने मरीज़ों को ऑक्सीजन सपोर्ट की। 

ताज़ा ख़बरें

यह कोरोना की दूसरी लहर है। लेकिन पहली लहर में ऐसे हालात नहीं थे। न तो हर रोज़ संक्रमण के मामले इतने आ रहे थे और न ही इतनी संख्या में मौतें हो रही थीं। पहली लहर में एक दिन में सबसे ज़्यादा संक्रमण के मामले क़रीब 97 हज़ार आए थे, जो दूसरी लहर में हर रोज़ आ रहे 4 लाख से काफ़ी कम थे। जाहिर है पहली लहर में गंभीर मरीज़ों की संख्या भी इतनी ज़्यादा नहीं थी। 

अब ताज़ा हालात हैं उसमें अस्पताल के बेड कम पड़ रहे हैं। आईसीयू बेड, वेंटिलेटर कम पड़ रहे हैं। मेडिकल ऑक्सीजन की कमी होने लगी है। दवाएँ कम पड़ रही हैं। 

हालाँकि पहली लहर के दौरान भी कई राज्यों में अस्पताल बेड और स्वास्थ्य कर्मियों के कम पड़ने की रिपोर्टें आई थीं। पिछले साल इतनी बड़ी संख्या में कोरोना के मरीज़ नहीं थे। 'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार जब पहली लहर सितंबर में शिखर पर थी तब 23 हज़ार मरीज़ आईसीयू में थे, 4000 से कम मरीज़ वेंटिलेटर पर थे और क़रीब 40 हज़ार ऑक्सीजन सपोर्ट पर थे।

शनिवार को कोरोना को लेकर जो ताज़ा आँकड़े स्वास्थ्य विभाग ने जारी किए हैं उसके अनुसार 7 मई को सक्रिए मामले क़रीब 37.23 लाख थे इसमें से 1.34 फ़ीसदी मरीज़ यानी 49 हज़ार 894 आईसीयू में थे।

वेंटिलेटर वाले मरीज़ों और ऑक्सीजन सपोर्ट वाले मरीज़ों की संख्या भी पहली लहर से क़रीब साढ़े तीन गुना ज़्यादा हो गई।

कोरोना की पहली लहर और दूसरी लहर के बीच कोरोना सक्रिए मामलों में भी बहुत बड़ा अंतर है। पहली लहर के शिखर पर होने दौरान क़रीब 10.17 लाख कोरोना के सक्रिए मामले थे, लेकिन अब यह तीन गुने से भी ज़्यादा 37.23 लाख केस पहुँच गया है। 

government data shows steep rise in critical care demand - Satya Hindi

पहली और दूसरी लहर की तुलना करने पर साफ़ पता चलता है कि क्रिटिकल केयर की ज़रूरत वाले मरीज़ों की संख्या काफ़ी ज़्यादा बढ़ गई है लेकिन इसी हिसाब से सक्रिये मामलों की संख्या भी बढ़ी है। हर रोज़ के संक्रमण के मामले भी बढ़े हैं। 

स्वास्थ्य मंत्रालय के बयान में कहा गया है कि अब तक 4 लाख 88 हज़ार 861 मरीज़ गंभीर स्थिति में पहुँचे जिन्हें आईसीयू बेड की ज़रूरत हुई, 1 लाख 70 हज़ार 841 मरीज़ों को वेंटिलेटर सपोर्ट की ज़रूरत हुई और 9 लाख 2 हज़ार 291 मरीज़ों को ऑक्सीज़न सपोर्ट की ज़रूरत हुई। 

देश से और ख़बरें

बता दें कि अब तक देश में कुल 2.18 करोड़ कोरोना से संक्रमित हुए हैं। इस हिसाब से अब तक 2.23 फ़ीसदी मरीज़ों को आईसीयू में भर्ती होने की ज़रूरत पड़ी है, 0.78 फ़ीसदी को वेंटिलेटर और 4.12 फ़ीसदी को ऑक्सीज़न सपोर्ट की ज़रूरत पड़ी है। क़रीब 93 फ़ीसदी लोग बिना किसी क्रिटिकल केयर के ही ठीक हो चुके हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें