loader

कोरोना की भयानक तबाही के लिए सरकार ज़िम्मेदार : अंतरराष्ट्रीय पैनल

कोरोना महामारी इतनी क्यों फैली? विशेषज्ञों के एक अंतरराष्ट्रीय पैनल ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि इसके लिए सीधे-सीधे सरकार ज़िम्मेदार है।

इस रिपोर्ट में साफ तौर पर कहा गया है कि 'विज्ञान-विरोधी नेतागण', कोरोना से लड़ने के संकल्प की कमी और सारी चेतावनियों की अनदेखी के 'घातक कॉकटेल' के कारण ही यह भयानक तबाही आयी है।

विज्ञान को नकारने वाले नेता

स्विटज़रलैंड स्थित इंडीपेंडेंट पैनल फॉर पैंडेमिक प्रीपेयर्डनेस एंड रिस्पॉन्स (आईपीपीपीआर) ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि कोरोना की तबाही से बचा जा सकता था। पर एक के बाद एक ग़लत फ़ैसले लिए गए, संस्थाएं लोगों की सुरक्षा में नाकाम रहीं, विज्ञान को नकारने वाले नेताओं ने स्वास्थ्य उपायों में लोगों का भरोसा कम किया और बड़ी तादाद में लोग मारे गए। 

हालांकि यह अंतरराष्ट्रीय पैनल है, जिसमें न्यूजीलैंड की पूर्व प्रधानमंत्री हेलन क्लार्क और चिकित्सा के लिए नोबेल पुरस्कार पाने वाले वैज्ञानिक शामिल थे, लेकिन इस रिपोर्ट को भारत की पृष्ठभूमि में देखना ज़रूरी है। 

भारत के सत्तारूढ़ दल बीजेपी और उससे जुड़ी संस्थाओं के कई नेताओं ने अलग-अलग समय में कई बार कहा है कि गोमूत्र पीने से कोरोना ठीक हो जाएगा, उनसे जुड़ी एक संस्था ने कोरोना से बचाव के लिए गोमूत्र पार्टी रखी थी, बीजेपी के एक बड़े नेता ने कहा था कि गाय ऑक्सीजन छोड़ती है और एक नेता ने ज़ोर देकर कहा था कि हवन करने से कोरोना दूर भाग जाएगा। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने कोरोना से बचने के लिए हनुमान चालीसा बंटवाया। 

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहले ताली बजवायी, फिर थाली और उसके बाद रात के नौ बजे नौ मिनट तक नौ दिए या मोमबत्ती जलाने की अपील की और देश की आबादी के एक बड़े हिस्से ने उसका पालन भी किया। हालांकि उनका कहना था कि यह मेडिकल कर्मचारियों के प्रति कृतज्ञता जताने के लिए ऐसा करना ज़रूरी है, लेकिन उनका यह काम वैज्ञानिक आधार पर टिका हुआ नहीं था। 

प्रधानमंत्री ने कहा था,

5 अप्रैल रविवार को रात 9 बजे मैं आप सबके 9 मिनट चाहता हूं। रात 9 बजे घर की लाइट बंद करके, दरवाजे या बालकनी पर खड़े रहकर मोबाइल की फ़्लैश लाइट, टॉर्च, दीपक, मोमबत्ती ज़रूर जलाएं।


नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

ग़लत रणनीतिक फ़ैसले

पैनल ने अपनी रिपोर्ट में कहा, 'ग़लत रणनीतिक फ़ैसले किए गए, ग़ैरबराबरी को ठीक करने की कोई इच्छा नहीं दिखाई गई, बगैर किसी संयोजन के सिस्टम ने एक ऐसा ज़हरीला कॉकटेल तैयार कर दिया, जिससे महामारी एक बहुत बड़ी मानवीय त्रासदी में तब्दील हो गई।' 
आईपीपीपीआर ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि चीन के वुहान शहर में दिसंबर 2019 में शुरू हुए कोरोना को लेकर तुरन्त उपाय नहीं किए गए, उसमें देरी हुई। लेकिन दूसरे देशों ने भी इस तरह की देरी की और इससे बहुत नुक़सान हुआ। 
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने यह रिपोर्ट तैयार करने को कहा था। पैनल के सदस्य और नोबेल पुरस्कार से सम्मानित डॉक्टर एलन जॉन्सन सरलीफ़ ने रिपोर्ट जारी करते हुए पत्रकारों से बुधवार को कहा,

आज हम जिस स्थिति में खुद को पाते हैं, उसे रोका जा सकता था। यह नाकामियों, कोरोना से निपटने की तैयारियों में कमी और प्रतिक्रिया में देरी के कारण है।


एलन जॉन्सन सरलीफ़, सदस्य, आईपीपीपीआर

डब्लूएचओ की आलोचना

पैनल ने विश्व स्वास्थ्य संगठन की भी आलोचना की है। उसने कहा है कि संगठन 22 जनवरी, 2020 की स्थिति को देखते हुए अंतरराष्ट्रीय मामले के तहत सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल घोषित कर सकता था, लेकिन उने इसके बजाय 8 और दिनों का इंतजार किया।

आईपीपीपीआर की यह रिपोर्ट भारत के लिए इसलिए भी ज़रूरी है कि जिस दिन यह रिपोर्ट जारी की गई, उसी दिन देश के 533 ज़िलों में पॉजिटिविटी रेट 10 से ज़्यादा है। 5 प्रतिशत पॉजिटिविटी रेट से ज़्यादा होने पर स्थिति बेहद ख़राब माना जाती है। केंद्र सरकार की ही रिपोर्ट कहती है कि देश के 90 फ़ीसदी हिस्से में उच्च पॉजिटिविटी रेट है।

भारत का हाल

पाँच राज्यों में 30 से अधिक ज़िलों में 10 प्रतिशत से अधिक पॉजिटिविटी के मामले आ रहे हैं। केंद्र ने मंगलवार को कहा कि मध्य प्रदेश में 45 जिले, उत्तर प्रदेश में 38, महाराष्ट्र में 36, तमिलनाडु में 34, और बिहार में 33 ज़िलों में 10 प्रतिशत से ज़्यादा पॉजिटिविटी रेट है। 

पॉजिटिविटी रेट से मतलब है कि जितने लोगों के सैंपल लिए गए उनमें से कितने लोग संक्रमित पाए गए। मिसाल के तौर पर 10 फ़ीसदी पॉजिटिविटी रेट का मतलब है कि 100 लोगों के सैंपल लिए गए तो उसमें से 10 लोगों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव की आई।स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता लव अग्रवाल ने एक दिन पहले ही मंगलवार को कहा कि हिमाचल प्रदेश और नागालैंड जैसे नए राज्यों में पॉजिटिविटी रेट ज़्यादा देखी जा रही है। 

वरिष्ठ पत्रकार शैलेश ने इस पर क्या कहा था, देखें यह वीडियो। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें