loader

बहुविवाह मुसलिमों में ही नहीं, हिंदुओं में भी; आदिवासियों में तो आम बात! 

सोशल मीडिया पर अक्सर एक से ज़्यादा पत्नी रखने के लिए मुसलिमों को निशाना बनाया जाता रहा है, लेकिन क्या सिर्फ़ मुसलिम ही बहुविवाह करते हैं? उन समुदायों के बारे में क्या जिसमें ऐसी शादियाँ आम बात है?

आप यह जानकर चौंक जाएँगे कि मुसलिमों से कहीं ज़्यादा बहुविवाह आदिवासी बहुल राज्यों में होता है। ऐसा तब है जब बहुविवाह या एक से अधिक पत्नी रखने की प्रथा केवल मुसलमानों के लिए भारत में क़ानूनन वैध है। लेकिन राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण यानी एनएफ़एचएस के आँकड़े बताते हैं कि बहुविवाह लगभग अन्य समुदायों में भी प्रचलित है। इसमें हिंदू भी शामिल हैं और दूसरे समुदाय भी। आम तौर पर आदिवासियों की प्रथाओं के मामलों में भी सरकार का दखल उतना नहीं होता है। माना जाता है कि आदिवासियों के अपने तौर-तरीक़े हैं और उनसे छेड़छाड़ ठीक नहीं। 

ताज़ा ख़बरें

एनएफ़एचएस के 2019-20 के ताज़ा आँकड़ों के अनुसार, बहुविवाह का प्रचलन मुसलमानों में 1.9%, हिंदुओं में 1.3% और अन्य धार्मिक समूहों में 1.6% है। 

मुंबई में इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ पॉपुलेशन स्टडीज के फैकल्टी द्वारा किए गए 2005-06, 2015-16 और 2019-20 के तीन एनएफएचएस दौर के आंकड़ों के विश्लेषण में यह खुलासा हुआ। टीओआई ने इस पर एक रिपोर्ट छापी है। इसमें यह कहा गया है कि कुल मिलाकर, ग़रीब, अशिक्षित, ग्रामीण और वृद्ध महिलाओं में बहुपत्नी विवाह अधिक पाया गया। आँकड़ों के विश्लेषण से संकेत मिलता है कि क्षेत्र और धर्म के अलावा बहुविवाह के लिए सामाजिक-आर्थिक कारण भी हैं।

ज़्यादा जनजातीय आबादी वाले पूर्वोत्तर राज्यों में बहुविवाह करने वाली महिलाओं का अनुपात सबसे अधिक है। यह मेघालय में 6.1% से लेकर त्रिपुरा में 2% तक है। दक्षिणी राज्यों और पूर्व में बिहार, झारखंड, ओडिशा और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों में उत्तर भारत की तुलना में बहुविवाह का प्रचलन अधिक है।

जाति समूहों में बहुविवाह अनुसूचित जनजातियों में सबसे अधिक 2.4% है। 2005-06 में यह 3.1% था। इसके बाद अनुसूचित जाति में 2019-20 में बहुविवाह 1.5% था, यह भी 2005-06 में 2.2% के मुक़ाबले कम है।

कई राज्यों में मुसलिमों से ज़्यादा बहुविवाह हिंदुओं में

मोटे तौर पर देखें तो ज़्यादा आदिवासी आबादी वाले राज्यों में बहुविवाह का प्रचलन सबसे अधिक है। जहां अधिकांश राज्यों में हिंदुओं की तुलना में मुसलमानों में बहुविवाह का प्रचलन अधिक है, वहीं छत्तीसगढ़, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और तमिलनाडु जैसे राज्यों में स्थिति इसके विपरीत है।

एनएफ़एचएस 2019-20 के अनुसार छत्तीसगढ़ में हिंदुओं में बहुविवाह 2 प्रतिशत था जबकि मुसलिमों में 1.6 और अन्य में 1.2 फीसदी। इसी तरह आँध्र प्रदेश में हिंदुओं में बहुविवाह 1.9 फ़ीसदी था तो मुसलिमों में 1.8 फ़ीसदी और अन्य में 3.1 फ़ीसदी। तेलंगाना में हिंदुओं में यह 3 फ़ीसदी है तो मुसलिमों में 2.1 फ़ीसदी। तमिलनाडु में हिंदुओं में बहुविवाह दो फीसदी है तो मुसलिमों में यह 2.1 फ़ीसदी। 

देश से और ख़बरें

जातिवार स्थिति

यदि जातिवार स्थिति देखें तो बहुविवाह के सबसे ज़्यादा मामले आदिवासियों में ही आते हैं। अनुसूचित जनजाति में बहुविवाह 2.4 फ़ीसदी है तो अनुसूचित जाति में 1.5 फ़ीसदी, ओबीसी में 1.3 फ़ीसदी और अन्य में 1.2 फ़ीसदी। 

धर्म के आधार पर

बहुविवाह हिंदुओं में 1.3 फ़ीसदी, मुसलिम में 1.9 फ़ीसदी, ईसाई में 2.1 फ़ीसदी, सिख में 0.5 फ़ीसदी, बौद्ध में 1.3 फ़ीसदी और अन्य में 2.5 फ़ीसदी। 

शिक्षा के स्तर पर

जो अपेक्षाकृत कम पढ़े लिखे होते हैं उनमें बहुविवाह का चलन ज़्यादा देखने को मिला है। आँकड़ों के अनुसार जो शिक्षित नहीं हैं उनमें बहुविवाह 2.4 फ़ीसदी, जो प्राथमिक स्तर तक पढ़े लिखे हैं उनमें 2.1 फ़ीसदी, माध्यमिक स्तर पर पढ़े लिखे 0.9 फ़ीसदी और उच्च शिक्षा पाने वालों में 0.3 फ़ीसदी है। 

ग़रीबी का असर

बहुविवाह कम ज़्यादा होने का एक कारण ग़रीबी भी है। यह एनएफ़एचएस के आँकड़ों में ही दिखता है। सबसे ग़रीब में बहुविवाह 2.4 फ़ीसदी है, ग़रीबों में 1.8 फ़ीसदी, मध्य वर्ग में 1.5 फ़ीसदी, अमीरों में 0.9 फ़ीसदी और सुपर धनाढ्यों में 0.5 फ़ीसदी।

ख़ास ख़बरें

महिलाओं की उम्र

बहुविवाह के आँकड़ों में महिलाओं की उम्र में भी एक अलग ट्रेंड देखने को मिला है। उम्रदराज महिलाओं में बहुविवाह का प्रतिशत बढ़ते जाता है। 15-24 साल की महिलाओं में 0.8 फ़ीसदी, 25-34 साल की महिलाओं में 1.2 फ़ीसदी और 35 साल से ज़्यादा उम्र की महिलाओं में बहुविवाह 1.8 फ़ीसदी रहा है।

हालाँकि, इस सबमें एक ख़ास बात यह है कि बहुविवाह के मामले पहले के मुक़ाबले अब कम हुए हैं। और यह क़रीब-क़रीब हर समूह में हुआ है। भारत में बहुपत्नी विवाह 2005-06 में 1.9% से घटकर 2019-20 में 1.4% हो गया है। पूरे देश में 2005-06 में जहाँ हिंदुओं में बहुविवाह 1.9 फ़ीसदी, मुसलिमों में 2.9 फ़ीसदी और अन्य में 2.9 फ़ीसदी था वहीं यह 2019-20 में हिंदुओं में 1.3 फ़ीसदी, मुसलिमों में 1.9 फ़ीसदी और अन्य में 1.6 फ़ीसदी रह गया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें