loader

बीजेपी, आप की जंग में 'महाराणा प्रताप', 'औरंगजेब' की एंट्री!

मनीष सिसोदिया के ख़िलाफ़ सीबीआई की कार्रवाई को लेकर बीजेपी और आप में बढ़ा अब ताजा विवाद महाराणा प्रताप और औरंगजेब तक पहुँच गया है। सिसोदिया ने सोमवार को जब यह दावा किया कि उनको बीजेपी में शामिल होने का ऑफर दिया गया तो इसके साथ ही उन्होंने यह भी कह दिया कि वह 'महाराणा प्रताप के वंशज' हैं। इसके बाद बीजेपी नेताओं ने पलटवार किया और उन्हें 'औरंगजेब की औलाद' बताने की कोशिश की। इसको लेकर सोशल मीडिया पर आप और बीजेपी नेताओं के बीच तीखी बहस हुई।

इस बहस की शुरुआत दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के ट्वीट से हुई। उन्होंने कहा कि 'मैं महाराणा प्रताप का वंशज हूँ, राजपूत हूँ। सर कटा लूँगा लेकिन भ्रष्टाचारियों-षड्यंत्रकारियों के सामने झुकूँगा नहीं...।'

सीबीआई द्वारा मनीष सिसोदिया के घर नई आबकारी नीति में कथित गड़बड़ी को लेकर छापे मारे जाने के बाद यह सब शुरू हुआ। दिल्ली सरकार ने पिछले साल नवंबर में नई आबकारी नीति को लोगों के सामने रखा था लेकिन इस पर अच्छा खासा विवाद होने के बाद इसे इस साल 30 जुलाई को वापस ले लिया गया था। दिल्ली बीजेपी के नेताओं का कहना है कि नई आबकारी नीति के जरिए केजरीवाल सरकार ने शराब माफियाओं को फायदा पहुंचाया और शराब लाइसेंसधारियों का 144 करोड़ रुपए माफ कर दिये। 

मनीष सिसोदिया ने कहा था कि दिल्ली सरकार की जिस आबकारी नीति को लेकर विवाद हो रहा है, वह सबसे अच्छी आबकारी नीति थी और दिल्ली सरकार उस आबकारी नीति को पूरी ईमानदारी और पारदर्शिता से लागू कर रही थी। उन्होंने कहा कि अगर दिल्ली के तत्कालीन उप राज्यपाल ने 48 घंटे पहले उस आबकारी नीति को फेल करने की साजिश के तहत अपना फैसला नहीं बदला होता तो दिल्ली सरकार को इस आबकारी नीति से कम से कम 10000 करोड़ रुपये हर साल मिलते।

बहरहाल, मनीष सिसोदिया के ताज़ा ट्वीट के बाद कपिल मिश्रा और तेजिंदर पाल सिंह बग्गा जैसे नेताओं ने उनपर निशाना साधा। कपिल मिश्रा ने एक वीडियो बयान में उनको औरंगजेब की औलाद कहकर हमला किया। 

बीजेपी के फायरब्रांड नेता के तौर पर माने जाने वाले कपिल मिश्रा ने सिसोदिया पर पलटवार करते हुए कहा कि जिंदगी भर औरंगजेब की इबादत की और जेल जाने के समय महाराणा प्रताप याद आ गए। 

तेजिंदर पाल सिंह बग्गा ने भी कुछ इसी तरह हमला किया। उन्होंने टोपी पहने सिसोदिया की पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी के साथ की तसवीर को ट्वीट करते हुए लिखा- 'औरंगजेब के वंशज'।

दिल्ली बीजेपी ने भी उसी तसवीर के पूरे हिस्से को ट्वीट करते हुए लिखा है कि 'यहाँ तो कोई भी भारत माँ के वीर सपूत महाराणा प्रताप जी का वंशज नहीं दिखाई पड़ता।'

केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी ने भी इसे लेकर आप पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि महाराणा प्रताप ने राष्ट्रधर्म के लिए घास की रोटियां खाईं, लेकिन दिल्ली के उप मुख्यमंत्री पर शराब घोटाले में शामिल होने का आरोप है। उन्होंने पूछा कि क्या यह तुलना महाराणा प्रताप का अपमान नहीं है?

राजनीति से और ख़बरें
राजनीतिक पर्यवेक्षकों का मानना है कि गुजरात और हिमाचल प्रदेश में हाल ही में होने वाले चुनाव के मद्देनज़र इस मुद्दे को शिफ़्ट किया जा रहा है। कहा जा रहा है कि पहले जहाँ आम आदमी पार्टी ने नयी आबकारी नीति से ध्यान हटाकर शिक्षा में अपने काम को मुद्दा बनाने की कोशिश की, वहीं अब इसने राजपूत का कार्ड खेल दिया है। वहीं बीजेपी भी औरंगजेब का नाम लेकर अपने कोर मुद्दे को हवा देने की कोशिश कर रही है। लेकिन फायदा किसे होगा, यह तो चुनाव में पता चलेगा।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें