loader
फोटो साभार: ट्विटर/@ashokathakur10

शरद यादव 25 साल बाद आए लालू साथ, आरजेडी में किया पार्टी का विलय

समाजवादी नेता शरद यादव ने आख़िरकार अपनी पार्टी लोकतांत्रिक जनता दल का लालू यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल में विलय कर लिया। इस तरह से 25 साल बाद दोनों वयोवृद्ध समाजवादी नेता शरद यादव और लालू यादव एक साथ आ गए हैं।

शरद यादव ने अपनी पार्टी के विलय की घोषणा की। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि देश में मज़बूत विपक्ष स्थापित करना समय की मांग है और इसलिए उन्होंने यह क़दम उठाया है। उन्होंने कहा है कि बिखरे हुए जनता दल और ऐसी समान विचारधारा वाले दलों को एकजुट होना चाहिए।

पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद यादव ने रविवार को नई दिल्ली में अपनी पार्टी लोकतांत्रिक जनता दल यानी एलजेडी को लेकर यह घोषणा की। 

उन्होंने एएनआई से कहा है कि अभी तक एकीकरण हमारी प्राथमिकता है, उसके बाद ही हम सोचेंगे कि एकजुट विपक्ष का नेतृत्व कौन करेगा।

एलजेडी का पहली बार 2018 में गठन हुआ था। हालाँकि, इसके गठन के बाद भी शरद यादव ने 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान राजद के टिकट पर मधेपुरा से चुनाव लड़ा था। वह चुनाव हार गए थे। शरद यादव क़रीब 25 साल पहले लालू यादव से अलग हुए थे।

ताज़ा ख़बरें

शरद ने कहा कि यह तत्कालीन जनता दल के विभिन्न अलग-अलग संगठनों को एक साथ लाने के उनके प्रयासों का हिस्सा होगा। 

राजद नेता और बिहार के विपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने शरद को "पिता-तुल्य और समाजवादी आइकन' क़रार दिया। उन्होंने हाल ही में पटना में कहा था कि हर कोई भारतीय राजनीति में अनुभवी समाजवादी शरद यादव के महत्व को जानता है। उन्होंने कहा था कि वह पिता तुल्य हैं और हमारा मार्गदर्शन करेंगे।

राजनीति से और खबरें

शरद यादव ने इस विलय की घोषणा 4 दिन पहले ही की थी। उन्होंने कहा था कि देश में मौजूदा राजनीतिक स्थिति को देखते हुए हुए जनता परिवार को एक साथ लाने के प्रयास की यह पहल है। हालाँकि उन्होंने यह भी कहा कि था कि स्वास्थ्य कारणों से बहुत समय तक वह अपने प्रयासों को आगे नहीं बढ़ा सके। 

एक समय था जब 1989 में जनता दल के पास लोकसभा में 143 सीटें थीं। पार्टी ने मंडल आयोग की सिफारिशों को लागू करने के बाद विभिन्न सरकारों के गठन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। लेकिन बाद में इसके बिखराव हो गया था और इससे टूटकर कई दल बने।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें